Zurm Shayari In Hindi | जुर्म शायरी

Zurm Shayari In Hindi | जुर्म शायरी

Zurm Shayari In Hindi | जुर्म शायरी

 

Zurm Shayari In Hindi | जुर्म शायरी

 

इस में क्या जुर्म क्या ख़ता साहब
दिल तो ठहरा ही बेवफ़ा साहब – अली फ़राज़ रिज़वी

 

Isme Kya Zurm Kya Khata Sahab

Dil Toh Thehara Hi Bewafa Sahab – Ali Faraz Rizvi

 

प्यार का दोनों पे आख़िर जुर्म साबित हो गया
ये फ़रिश्ते आज जन्नत से निकाले जाएँगे – आलोक यादव

 

Pyaar Ka Dono Pe Aakhir Zurm Saabit Ho Gaya

Ye Farishte Aaj Jannat Se Nikaale Jayenge – Alok Yadav

 

सिर्फ़ इतने जुर्म पर हंगामा होता जाए है
तेरा दीवाना तिरी गलियों में देखा जाए है – कैफ़ भोपाली

 

Sirf Itne Zurm Pe Hungama Ho Jaaye Hai

Tera Deewana Teri Galiyon Me Dekha Jaaye Hai – Kaif Bhopali

 

कहता है यार जुर्म की पाते हो तुम सज़ा
इंसाफ़ अगर नहीं है तो बे-दाद भी नहीं – बहराम जी

 

Kehata Hai Yaar Zurm Ki Paate Ho Tum Saza

Insaaf Agar Nahi Hai Toh Be-Daad Bhi Nahi – Bahram Ji

 

Crime Shayari In Hindi

 

Zurm Shayari In Hindi | जुर्म शायरी

 

और इस से पहले कि साबित हो जुर्म-ए-ख़ामोशी
हम अपनी राय का इज़हार करना चाहते है – सलीम कौसर

 

Aur Is Se Pahle Ki Saabit Ho Zurm-e-Khamoshi

Hum Apni Raay Ka Izhaar Karna Chahte Hai – Saleem Kausar

 

Zurm Shayari In Hindi | जुर्म शायरी

 

जुर्म उल्फ़त की मुझे ख़ूब सज़ा देता है
ख़त को पढ़ता भी नहीं और जला देता है – हमज़ा दाइम

 

Zurm Ulfat Ki Mujhe Khoob Saza Deta Hai

Khat Ko Padhata Bhi Nahi Aur Jala Deta Hai – Hamja Daaim

 

Zurm Shayari In Hindi | जुर्म शायरी

 

वफ़ा के जुर्म में अक्सर पुकारे जाते हैं
हम अहल-ए-इश्क़ मोहब्बत में मारे जाते हैं – ज़ुबैर क़ैसर

 

Wafa Ke Zurm Me Aksar Pukaare Jaate Hai

HumEhal-e-Ishq Mohabbat Me Maare Jaate Hai – Zubair Kaisar

 

Zurm Shayari In Hindi | जुर्म शायरी

 

है जुर्म मोहब्बत तो सज़ा क्यूँ नहीं देते
यारो हमें इक रोज़ मिटा क्यूँ नहीं देते – साजिद सिद्दीक़ी लखनवी

 

Hai Zurm Mohabbat Toh Saza Kyu Nahi Dete

Yaaron Hamein Ik Roz Mita Kyu Nahi Dete – Saazid Siddiqui Lakhanavi

 

Zurm Shayari In Hindi | जुर्म शायरी

 

Zurm Shayari In Hindi | जुर्म शायरी

 

जुर्म-ए-उल्फ़त पे हमें लोग सज़ा देते हैं
कैसे नादान हैं शो’लों को हवा देते हैं– साहिर लुधियानवी

 

Zurm-e-Ulfat Pe Hamein Log Saza Dete Hai

Kaise Nadaan Hai Sholon Ko Hawa Dete Hai – Saahir Ludhiyanavi

 

जुर्म ऐसा भी मिरी जाँ मुझ से क्या होने लगा
तेरे मेरे दरमियाँ जो फ़ासला होने लगा – मोनिस फ़राज़

 

Zurm Aisa Bhi Meri Jaa Mujh Se Kya Hone Laga

Tere Mere Darmiyaan Jo Fasala Hone Laga – Monis Faraz

 

जुर्म में हम कमी करें भी तो क्यूँ
तुम सज़ा भी तो कम नहीं करते – जौन एलिया

 

Zurm Me Hum Kami Karein Bhi Toh Kyu

Tum Saza Bhi Toh Kam Nahi Karte – John Elia

 

इस शहर में चलती है हवा और तरह की
जुर्म और तरह के हैं सज़ा और तरह की – मंसूर उस्मानी

 

Is Shehar Me Chalati Hai Hawa Aur Tarah Ki

Zurm Aur Tarah Ke Hai Saza Aur Tarah Ki – Mansoor Usmani

 

मुझे दिल की ख़ता पर ‘यास’ शर्माना नहीं आता
पराया जुर्म अपने नाम लिखवाना नहीं आता

 

Mujhe Dil Ki Khata Par “Yaas” Sharmana Nahi Aata

Paraya Zurm Apne Naam Likhwana Nahi Aata

 

वो ख़्वाब क्या था कि जिस की हयात है ताबीर
वो जुर्म क्या था कि जिस की सज़ा है तन्हाई – ज़िया जालंधरी

 

Wo Khwab Kya Tha Jiski Hayaat Hai Tabeer

Wo Zurm Kya Tha Ki Jis Ki Saza Hai Tanhaayi – Zita Jalandhari

 

Crime Status in Hindi

 

लोग समझे अपनी सच्चाई की ख़ातिर जान दी
वर्ना हम तो जुर्म का इक़रार करने आए थे – ज़फ़र गौरी

 

Log Samjhe Apni Sachchai Ki Khatir Jaan Di

Varna Hum Toh Zurm Ka Iqraar Karne Aaye The – Zafar Gauri

 

एक मैं ने ही उगाए नहीं ख़्वाबों के गुलाब
तू भी इस जुर्म में शामिल है मिरा साथ न छोड़ -मज़हर इमाम

 

Ek Maine Ugaaye Nahi Khwabon Ke Gulaab

Tu Bhi Is Zurm Me Shamil Hai Mera Sath N Chhor – Mazahar Imaam

 

पेश तो होगा अदालत में मुक़दमा बे-शक
जुर्म क़ातिल ही के सर हो ये ज़रूरी तो नहीं

 

Pesh Toh Hoga Adalat Me Mukadama Be-shak

Zurm Kaatil Hi Ke Sar Ho Ye Zaroori Toh Nahi

 

हैं सारे जुर्म जब अपने हिसाब में लिखना
सवाल ये है कि फिर क्या जवाब में लिखना – उमर अंसारी

 

Hai Saare Zurm Jab Apne Hisaab Me Likhna

Sawaal Ye Hai Ki Phir Kya Jawaab Me Likhna – Umar Ansari

 

जुर्म को जुर्म की सज़ा लिखिए
दर्द को दर्द की दवा लिखिए – महमूद काज़िम

 

Zurm Ko Zurm Ki Saza Likhiye

Dard Ko Dard Ki Dawa Likhiye – Mehmood Kazim

 

जुर्म साबित न हो तो जुर्म नहीं
क़त्ल करते रहो निगाहों से – जिगर जालंधरी

 

Zurm Saabit N Ho Toh Zurm Nahi

Katl Karte Raho Nigaahon Se – Jigar Jalandhari

 

अक्सर पकड़े जाते हैं
पहला जुर्म और पहला ख़्वाब – अज़हर अदीब

 

Aksar Pakde Jaate Hai

Pehla Zurm Aur Pehla Khwaab – Azhar Adeeb

 

Zurm Shayari In Hindi | जुर्म शायरी

 

बस हर इक रात यही जुर्म किया है मैं ने
ला के ख़्वाबों में तुझे देख लिया है मैं ने – अहमद आदिल

 

Bas Har Ik Raat Yahi Zurm Kiya Hai Maine

La Ke Khwaabon Me Tujhe Dekh Liya Hai Maine – Ahmad Aadil

 

को खोलना भी जुर्म ठहरा
मुसीबत मुस्कुराना हो गया है – माधो कौशिक

 

Labon Ko Kholana Bhi Zurm Thehara

Musibat Muskurana Ho Gaya Hai – Madho Kausik

 

ये हैवानियत जुर्म करती रहेगी
शराफ़त पे इल्ज़ाम आता रहेगा – राजेन्द्र कलकल

 

Ye Haivaniyat Zurm Karti Rahegi

Sharafat Pe Ilzaam Aata Rahega – Rajendra Kalkal

 


Read More –