Zubair Ali Tabish Shayari In Hindi | ज़ुबैर अली ताबिश शायरी

Zubair Ali Tabish Shayari In Hindi | ज़ुबैर अली ताबिश

 

रास्ते जो भी चमक-दार नज़र आते हैं
सब तेरी ओढ़नी के तार नज़र आते हैं

 

Ye Jo Raaste Chamakdaar Nazar Aate Hai

Sab Teri Odhani Ke Taar Nazar Aate Hai

 

बस एक ही दोस्त है दुनिया में अपना
मगर उस से भी झगड़ा चल रहा है

 

Bas Ek Hi Dost Hai Duniya Me Apna

Magar Usase Bhi Jhagada Chal Raha Hai

 

कोई पागल ही मोहब्बत से नवाज़ेगा मुझे
आप तो ख़ैर समझदार नज़र आते हैं

 

Koi Pagal Hi Mohabbat Se Nawajega Mujhe

Aap Toh Khair Samajhdaar Nazar Aate Hai

 

मैं कहाँ जाऊँ करूँ किस से शिकायत उस की
हर तरफ़ उस के तरफ़-दार नज़र आते हैं

 

Mai Kahan-Jaun Kis Se Shikayat Karun

Har Taraf Uske Tarafdaar Nazar Aate Hai

 

Zubair ali tabish Shayari Whatsapp Status

 

वो दुल्हन बन के रुखसत हो गई है
कहां तक कार का पीछा करोगे?

 

Wo Dulhan Ban Ke Rukhsat Ho Gayi

Kahan Tak Car Ka Peecha Karoge

 

तुम बड़े अच्छे वक़्त पर आए
आज इक ज़ख़्म की ज़रूरत थी

 

Tum Bade Achche Wakt Par Aaye

Aaj Ik Zakhm Ki Zarurat Thi

 

आज तो दिल के दर्द पर हँस कर
दर्द का दिल दुखा दिया मैंने

 

Aaj Toh Dil Ke Dard Par Haskar

Dard Ka Dil Dukha Diya Maine

 

तुम्हारा सिर्फ़ हवाओं पे शक गया होगा
चराग़ ख़ुद भी तो जल जल के थक गया होगा

 

Tumahar Sirf Hawao Pe Shak Gaya Hoga

Charaag Khud Bhi Jale-Jal Ke Thak Gaya Hoga

 

Zubair Ali Tabish shayari in Urdu

 

उस के ख़त रात भर यूँ पढ़ता हूँ
जैसे कल इम्तिहान हो मेरा

 

Us Ke Khat Raat Bhar Yun Padhata Hu

Jaise Kal Imtihaan Ho Mera

 

अपना कंगन समझ रहे हो क्या
और कितना घुमाओगे मुझ को

 

Apna Kangan Samajh Rahe Ho Kya

Aur Kitna Ghumaoge Mujhe

 

एक पहुँचा हुआ मुसाफ़िर है
दिल भटकने में फिर भी माहिर है

 

Ek Pahucha Hua Musafir Hai

Dil Bhatakne Me Phir Bhi Maahir Hai

 

है अपने हाथ में अपना गिरेबाँ
न जाने किस से झगड़ा कर रहा हूँ

 

Hai Apne Hath Me Girebaan Apna

N Jaane Kisase Jhagda Kar Raha Hu

 

मैं रस्मन कह रहा हूँ ”फिर मिलेंगे”
ये मत समझो कि वादा कर रहा हूँ

 

Mai Rasman Keh Raha Hu ‘Phir Milenge”

Ye Mat Samajho Ki Waada Kar Raha Hu Mai

 

हमने पर्चे आंसुओं से भर दिए
और तुमने इतने कम नंबर दिए

 

Hamne Parche Aansuo Se Bhar Diye

Aur Tumne Itne Kam Number Diye

 

वो पास क्या जरा सा मुस्कुरा कर बैठ गया
मैं इस मजाक को दिल से लगा के बैठ गया

 

Wo Paas Kya Zara Muskura Ke Baith Gaya

Mai Is Majaak Ko Dil Se Laga Ke Baith Gaya

 


Read More –