Yun Hi Be-Sabab – Bashir Badr

Yun Hi Be-Sabab – Bashir Badr

यूँ ही बे-सबब

 

यूँ ही बे-सबब न फिरा करो,कोई शाम घर में भी रहा करो
वो ग़ज़ल की सच्ची किताब है,उसे चुपके-चुपके पढ़ा करो

 

कोई हाथ भी न मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से
ये नये मिज़ाज का शहर है ज़रा फ़ासले से मिला करो

 

अभी राह में कई मोड़ हैं, कोई आयेगा कोई जायेगा
तुम्हें जिसने दिल से भुला दिया, उसे भूलने की दुआ करो

 

मुझे इश्तहार-सी लगती हैं, ये मोहब्बतों की कहानियाँ
जो कहा नहीं वो सुना करो, जो सुना नहीं वो कहा करो

 

कभी हुस्न-ए-पर्दानशीं भी हो ज़रा आशिक़ाना लिबास में
जो मैं बन-सँवर के कहीं चलूँ, मेरे साथ तुम भी चला करो

 

ये ख़िज़ाँ की ज़र्द-सी शाम में, जो उदास पेड़ के पास है
ये तुम्हारे घर की बहार है, इसे आँसुओं से हरा करो

 

नहीं बे-हिजाब वो चाँद-सा कि नज़र का कोई असर नहीं
उसे इतनी गर्मी-ए-शौक़ से बड़ी देर तक न तका करो

 

Yun Hi Be-Sabab

 

 

Yun Hi Be-Sabab N Phira Karo Koi Shaam Ghar Me Bhi Raha Karo
Wo Ghazal Ki Sachchi Kitaab Hai Use Chupke-Chupke Padha Karo

 

Koi Hath Bhi N Milayega Jo Gale Miloge Tapaak Se
Ye Naye Mizaaz Shehar Hai Zara Fasle Se Mila Karo

 

Abhi Raah Me Kai Mod Hai Koi Ayega Koi Jayega
Tumhe Jisne Dil Se Bhula Diya Use Bhoolne Ki Dua Karo

 

Mujhe Ishthaar Si Lagti Hai ye Mohabbat Ki Kahaniyaan
Jo Kaha Nahi Wo Suna Karo Jo Suna Nahi Wo Kaha Karo

 

Kabhi Husn-E-Pardanashi Bhi Ho Zara Ashiqaana Libaas Me
Jo Mai Ban Savar Ke Kahi Chalu Mere Sath Tum Bhi Chala Karo

 

Ye Khizaan Ki Zard Si Shaam Me Jo Udaas Ped Ke Pass Hai
Ye Tumhare Ghar Ki Bahaar Hai Ise Aansuo Se Hara Karo

 

Nahi Be-Hizaab Wo Chand Sa Ki Nazar Ka Koi Asar Nahi
Use Itni Garmi-E-Shauk Se Badi Der Tak N Taka Karo

 


Read More –