Winter Shayari In Hindi | ठंडक पर शायरी

Winter Shayari In Hindi | ठंडक पर शायरी

Winter Shayari In Hindi | ठंडक पर शायरी

 

किस से ठंडक है कि ये सब हैं जलाने वाले
नाले आहों से सिवा आग लगाने वाले – दत्तात्रिया कैफ़ी

 

Kis Se Thandak  Hai Ki Ye Sab Hai Jalane Waale
Naale Aahon Se Siva Aag Lagane Waale – Dattatreya Kaifi

 

तेरी ठंडक सीने सावन के
तेरी महक मोहब्बत की बरखा – मसऊद मुनव्वर

 

Teri Thandak Seene Sawan Ke
Teri Mehak Mohabbat Ki Baraha – Masaud Munavvar

 

Winter Shayari In Hindi | ठंडक पर शायरी

 

मौत का लम्हा हमारी ज़िंदगी का आ गया
जिस्म की ठंडक तो दस्तक दे रही है – ग़ालिब अहमद

 

Maut Ka Lamha Hamari Zindagi Ka Aa Gaya
Jism Ki Thandak Toh Dastak De Rahi Hai – Ghalib Ahmad

 

Winter Shayari In Hindi | ठंडक पर शायरी

 

इस लिए रौशनी में ठंडक है
कुछ चराग़ों को नम किया गया है – तहज़ीब हाफ़ी

 

Isliye Raushani Me Thandak Hai
Kuch Charagon Ko Nam Kiya Gaya Hai – Tehzeeb Hai

 

Sardi Shayari In Hindi | सर्दी शायरी

 

अपनी लगावट को वो छुपाना जानता है
आग इतनी है और ठंडक है शबनम सी – ज़ेब ग़ौरी

 

Apni Lagawat Ko Wo Chupana Janata Hai
Aag Itni Hai Aur Thandak Hai Shabnam Si – Zeb Gauri

 

Winter Shayari In Hindi | ठंडक पर शायरी

 

इक अजीब ठंडक है इस के नर्म लहजे में
लफ़्ज़ लफ़्ज़ शबनम है बात बात प्यारी है – मंज़र भोपाली

 

Ik Ajeeb Thandak Hai Is Ke Narm Lehaje Me
Lafz – Lafz Shabnam Hai Baat-Baat Pyari Hai – Manzar Bhopali

 

शाम ने बर्फ़ पहन रक्खी थी रौशनियाँ भी ठंडी थीं
मैं इस ठंडक से घबरा कर अपनी आग में जलने लगा – शमीम हनफ़ी

 

Shaam Ne Barf Pahan Rakkhi Thi Roshani yaa Bhi Thandi Thi
Mai Is Thandak Se Ghabra Kar Apni Aag Me Jalane Laga – Shameem Hanafi

 

Winter Shayari In Hindi | ठंडक पर शायरी

 

कुछ तो हवा भी सर्द थी कुछ था तिरा ख़याल भी
दिल को ख़ुशी के साथ साथ होता रहा मलाल भी – परवीन शाकिर

 

Kuch Toh Hawa Bhi Sard Thi Kuch Tha Tera Khayal Bhi
Dil Ko Khushi Ke Sath- Sath Hota Raha Malaal Bhi – Parveen Shakir

 

Winter Shayari In Hindi | ठंडक पर शायरी

 

इक सर्द-जंग का है असर मेरे ख़ून में
एहसास हो रहा है दिसम्बर का जून में – ग़ौसिया ख़ान सबीन

 

Ik Sard Ka Jung Hai Asar Mere Khoon Me
Ehsaas Ho Raha Hai December Ka June Me – Gausiya Khan Sabeen

 

Winter Shayari In Hindi | ठंडक पर शायरी

 

अब उस मक़ाम पे है मौसमों का सर्द मिज़ाज
कि दिल सुलगने लगे और दिमाग़ जलने लगे – फ़रहान सालिम

 

Ab Us Makaan Pe Hai Mausamon Ka Sard Mizaaj
Ki Dil Sulagane Lage Aur Dimaag Jalane Lage – Farhaan Saalon

 

Thandak Shayari In Hindi | ठंड शायरी

 

जज़्बा-ए-सर्द सितमगर नहीं अच्छा लगता
तेरे चेहरे पे दिसम्बर नहीं अच्छा लगता – क़मर सिद्दीक़ी

 

Jazba – e – Sard Sitamgar Nahi Achcha Lagta
Tere Chehre Pe December Achcha Nahi Lagta – Qamar Siddiqui

 

December Shayari In Hindi | दिसंबर शायरी

 

वो सर्द धूप रेत समुंदर कहाँ गया
यादों के क़ाफ़िले से दिसम्बर कहाँ गया – सिदरा सहर इमरान

 

Wo Sard Dhoop Ret Samundar Kahan Gaya
Yaadon Ke Kaafile Se December Kahan Gaya – Sidra Sahar Imraan

 

आसमाँ का सर्द सन्नाटा पिघलता जाएगा
आँख खुलती जाएगी मंज़र बदलता जाएगा – राजेन्द्र मनचंदा बानी

 

Aasmaan Ka Sard Sannata Pighalata Jayega
Aankh Khulti Jayegi Manzar Badalata Jayega – Rajendra Manchanda Baani

 

Winter Shayari In Hindi | ठंडक पर शायरी

 

सर्द ठिठुरी हुई लिपटी हुई सरसर की तरह
ज़िंदगी मुझ से मिली पिछले दिसम्बर की तरह – मंसूर आफ़ाक़

 

Sard Thithuri Hui Lipati Hui Sarsar Ki Tarah
Zindagi Mujh Se Mili Pichale December Ki Tarah – Mansoor Aafaak

 

सर्द रातों में सर्द आहों ने
अश्क आँखों ही में जमाए हैं – नाज़ निज़ामी

 

Sard Raaton Me Sard Aahon Ne
Ashq Aankho Hi Me Jamayei Hai – Naaz Nizaami

 

Winter Shayari In Hindi | ठंडक पर शायरी

 

लबों में आ के क़ुल्फ़ी हो गए अशआर सर्दी में
ग़ज़ल कहना भी अब तो हो गया दुश्वार सर्दी में – सरफ़राज़ शाहिद

 

Labon Me Aa Ke Kulfi Ho Gaye Ashaar Sardi Me
Ghazal Kehna Bhi Ab Toh Ho Gaya Dushwar Sardi Me

 

Winter Shayari In Hindi | ठंडक पर शायरी

 

थोड़ी सर्दी ज़रा सा नज़ला है
शायरी का मिज़ाज पतला है – मोहम्मद अल्वी

 

Thodi Sardi Zara Sa Najala Hai
Shayari Ka Mizaaz Patla Hai – Mohammad Alvi

 

इस बार इंतिज़ाम तो सर्दी का हो गया
क्या हाल पेड़ कटते ही बस्ती का हो गया – नोमान शौक़

 

Is Baar Intezaam Toh Sardi Ka Ho Gaya
Kya Haal Ped Katate Hi Basti Ka Ho Gaya – Nomaan Shauq

 

Winter Shayari In Hindi | ठंडक पर शायरी

 

दिसम्बर की सर्दी है उस के ही जैसी
ज़रा सा जो छू ले बदन काँपता है – अमित शर्मा मीत

 

December Ki Sardi Hai Us Ke Hi Jaisi
Zara Sa Jo Chu Le Badan Kanpata Hai – Amit Sharma Meet

 

वो सर्दी से ठिठुरता है न गर्मी ही सताती है
ये मौसम हार जाते हैं ग़रीबी जीत जाती है – मुसव्विर फ़िरोज़पुरी

 

Wo Sardi Se Thithurata Hai N Garmi Satati Hai
Ye Mausam Haar Jaate Hai Gareebi Jeet Jaati Hai – Musavvir Firozpuri

 

तुम तो सर्दी की हसीं धूप का चेहरा हो जिसे
देखते रहते हैं दीवार से जाते हुए हम – नोमान शौक़

 

Tum To Sardi Ki Hasi Dhoop Ka Chehra Ho Jise

Dekhte Rahte Hai Deewar Se Jaate Hue Hum – Nomaan Shauq

 


Read More –