Welcome Shayari In Hindi | स्वागत शायरी

Welcome Shayari In Hindi | स्वागत शायरी

 

चाँदनी रात बड़ी देर के बाद आयी,
ये मुलाक़ात बड़ी देर के बाद आयी

 

Chandani Raat Badi Der Ke Baad Aayi

Ye Mulakat Badi Der Ke Baad Aayi

 

देर लगी आने में तुम को शुक्र है फिर भी आए तो
आस ने दिल का साथ न छोड़ा वैसे हम घबराए तो

 

Der Lagi Aane Me Tumko Shukr Hai Phir Bhi Aaye Toh

Aas Ne Dil Ka Sath N Chora Vaise Hum Ghabraaye Toh

 

शब्दों का वजन तो हमारे बोलने के भाव से पता चलता हैं,
वैसे तो, दीवारों पर भी “वेलकम” लिखा होता हैं

 

Shabdon Ka Vajan Toh Hamare Bolne Ke Bhaav Se Pata Chalta Hai

Vaise Toh Deewaron Par Bhi Welcome Likha Hota Hai

 

सौ चाँद भी आ जाएँ तो महफ़िल में वो बात न रहेगी,
सिर्फ आपके आने से ही महफ़िल की रौनक बढ़ेगी

 

Sau Chand Bhi Aa Jaaye Toh Mehfil Me Wo Baat N Rahegi

Sirf Aapke Aane Se Hi Mehfil Ki Raunak Badhegi

 

हमारी महफ़िल में लोग बिन बुलायें आते हैं,
क्योकि यहाँ स्वागत में फूल नहीं पलकें बिछाये जाते हैं

 

Hamari Mehfil Me Log Bin Bulaye Aate Hai

Kyoki Yahan Swagat Me Phool Nahi Palkein Bichaye Jaate Hai

 

Swagat shayari in hindi

 

बुझते हुए चराग़ फ़रोज़ाँ करेंगे हम,
तुम आओगे तो जश्न-ए-चराग़ाँ करेंगे हम

 

Bujhate Hue Charaag Farozaan Karenge Hum

Tum Aaoge Toh Jashn-e-Charaagan Karenge Hum

 

हर गली अच्छी लगी हर एक घर अच्छा लगा,
वो जो आया शहर में तो शहर भर अच्छा लगा।

 

Har Gali Achchi Lagi Har Ek Ghar Achcha Laga

Wo Jo Aaya Shehar Me Toh Shehar Bhar Achcha Laga

 

हसरतो ने फिर से करवट बदली है,
आप आये तो बलखा के बहारें आईं।

 

Welcome Shayari In Hindi | स्वागत शायरी

 

Hasraton Ne Phir Se Karwatein Badli Hai

Aap Aye Toh Bal Khake Bahrein Aayi

 

अजीज के इन्तजार में ही पलके बिछाते हैं,

महफ़िलो की रौनक खास लोग ही बढ़ाते हैं

 

Azeez Ke Intezaar Me Hi Palkein Bichate Hai

Mehfilon Ki Raunak Khaas Log Hi Badhate Hai

 

ये कौन आया, रौशन हो गयी महफ़िल किसके नाम से
मेरे घर में जैसे सूरज निकला है शाम से

 

Ye Kaun Aaya, Raushan Ho Gayi Mehfil Kiske Naam Se

Mere Ghar Me Jaise Sooraj Nikla Hai Shaam Se

 

हुस्न-ओ-इश्क का समा है आज जमाने के बाद,
हर फूल की खुशबू गज़ब है आप के आने के बाद।

 

Husn-o-Ishq Ka Shama Hai Aaj Zamane Ke Baad

Har Phool Khusbu Gajab Hai Aap Ke Aane Ke Baad

 

हमारी महफ़िल में लोग बिन बुलायें आते हैं,
क्योकि यहाँ स्वागत में फूल नहीं पलकें बिछाये जाते हैं।

 

Hamari Mehfil Me Log Bin Bulaye Aate Hai

Kyoki Yahan Swagat Me Phool Nahi Palkein Bichaye Jaate Hai

 

2 Line Welcome Shayari

 

गुलों में रंग भरे बाद-ए-नौ-बहार चले
चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

 

Gulon Me Rang Bhare Baad-e-Nau Bahaar Chale

Chale Bhi Aao Ki Gulshan Ka Karobaar Vhale – Faiz Ahmad Faiz

 

ये और बात कि रस्ते भी हो गए रौशन
दिए तो हम ने तिरे वास्ते जलाए थे – निसार राही

 

Ye Aur Baat Hai Ki Raste Bhi Ho Gaye Roshan

Diye Toh Hamne Tere Vaaste Jalaye The – Nissar Raahi

 

जो अच्छे और दिल के बड़े होते है,
वो स्वागत के लिए खड़े होते है

 

Jo Achche Aur Dil Ke Bade Hote Hai

Wo Swagat Ke Liye Khade Hote Hai

 

चाँद भी हैरान दरिया भी परेशानी में है
अक्स किस का है कि इतनी रौशनी पानी में है – फ़रहत एहसास

 

Chand Bhi Hairan Dariya Bhi Pareshani Me Hai

Aks Kis Ka Hai Ki Itni Roshani Paani Me Hai – Farhat Ehsaas

 

महफ़िल में चार चाँद लगाने के बावजूद
जब तक न आप आए उजाला न हो सका

 

Mehfil Me Chaar Chand Lagane Ke Wawjood

Jab Tak N Aap Aaye Ujala N Ho Saka

 

हर गली अच्छी लगी हर एक घर अच्छा लगा
वो जो आया शहर में तो शहर भर अच्छा लगा

 

Har Gali Achchi Lagi Har Ek Shehar Achcha Laga

Wo Jo Aaya Shehar Me Toh Shehar Bhar Achcha Laga

 

मीठी बात और चेहरे पर मुस्कान,
ऐसे लोग ही है हमारी महफ़िल के शान

 

Meethi Baat Aur Chehre Par Muskan

Aise Log Hi Hai HamariMehfil Ke Shaan

 


Read More –