Wedding Shayari In Hindi | शादी शायरी

Wedding Shayari In Hindi | शादी शायरी

 

पैसे की कैसी बर्बादी
शादी होगी सीधी-सादी – ज़फ़र कमाली

 

Paise Ki Kaisi Barbaadi
Shaadi Hogi Seedhi-Saadhi – Zafar Kamali

 

धूम-धाम से होगी शादी
याद करेगी क्या शहज़ादी – फ़राग़ रोहवी

 

Dhoom-Dhaam Se Hogi Shaadi
Yaad Karegi Kya Shehzaadi – Faraag Rohawi

 

कीधर की ख़ुशी कहाँ की शादी
जब दिल से हवस ही सब उड़ा दी – मीर असर

 

Kidhar Ki Khushi Kahan Ki Shaadi
Jab Dil Se Hawas Hi Sab Udaa Di – Meer Asar

 

शादी के ख़त में था जो ख़ला याद आ गया
बिल्कुल ग़लत लिखा था पता याद आ गया – दिलावर फ़िगार

 

Shaadi Ke Khat Me Tha Jo Khala Yaad Aa Gaya
Bilkul Galat Likha Tha Pata Yaad Aa Gaya – Dilawar Figaar

 

Vivaah Shayari In Hindi

 

हुई इक ख़्वाब से शादी मिरी तन्हाई की
पहली बेटी है उदासी मिरी तन्हाई की – फ़रहत एहसास

 

Hui Ik Khwaab Se Shaadi Meri Tanhaayi Ki
Pehali Beti Hai Udaasi Meri Tanhaayi Ki – Farhat Ehsaas

 

बहम इक मुख़्तसर से दिल में हैं शादी ओ ग़म दोनों
ये छोटा सा मकाँ और इस में दोज़ख़ भी है जन्नत भी

 

Baham Ik Mukhtsar Se Dil Me Hai Shaadi-o-Gum Dono
Ye Chota Sa Makaan Aur Is Me Dojakh Bhi Hai Jannat Bhi

 

मौत के साथ हुई है मिरी शादी सो ‘ज़फ़र’
उम्र के आख़िरी लम्हात में दूल्हा हुआ मैं – ज़फ़र इक़बाल

 

Maut Ke Sath Hui Hai Meri Shaadi So “Zafar”
Umr Ke Aakhiri Lamhaat Me Dulha Hua Mai – Zafar Iqbal

 

Wedding Shayari In Hindi | शादी शायरी

 

शादी के जो अफ़्साने हैं रंगीन बहुत हैं
लेकिन जो हक़ाएक़ हैं वो संगीन बहुत हैं – सरफ़राज़ शाहिद

 

Shaadi Ke Jo Afsaane Hai Rangeen Bahut
Lekin Jo Ekaek Hai Wo Sangeen Bahut Hai – Sarfaraz Shahid

 

मैं उस को देख के चुप था उसी की शादी में
मज़ा तो सारा इसी रस्म के निबाह में था – मुनीर नियाज़ी

 

Mai Us Ko Dekh Ke Chup Tha Isi Ki Shaadi Me
Maza Toh Saara Isi Rasm Ke Nibaah Me Tha – Muneer Niyaazi

 


Read More –