War Shayari In Hindi | युद्ध शायरी

War Shayari In Hindi | युद्ध शायरी

 

युद्ध का तमाशा दिखाया
आदमी चाँद पर आज उतरा तो क्या – कैफ़ी आज़मी

 

Yuddhya Ka Tamasha Dikhaya

Aadmi Chand Par Aaj Utra Toh Kya – Kaifi Aazmi

 

जहाँ पर युद्ध में शामिल थे सारे
वहाँ तुम को भी घबराना नहीं था – डॉ राकेश जोशी

 

Jahan Par Yuddh Me Shamil The Saare

Wahan Tum Ko Bhi Ghabrana Nahi Tha – Dr.Rakesh Joshi

 

हमें तो युद्ध आतंक भूक से मारी धरती बख़्शी है
आने वाली पीढ़ी को तो दुनिया सही सलामत दे – माधव कौशिक

 

Hamein Toh Yuddh Aatank Bhookh Se Maari Dharti Bakhshi Hai

Aane Wali Peedhi Ko Toh Duniya Salamat De – Madhav Kaushik

 

द्वंद कहां तक पाला जाए, युद्ध कहां तक टाला जाए,
तू वंशज है राणा प्रताप का, मार जहां तक भाला जाए

 

Dwand Kahan Tak Pala Jaye, Yuddh Kahan Tak Taala Jaaye

Tu Vansaj Hai Rana Pratap Ka, Maar Wahan Tak Bhala Jaaye

 

वीरों के लिए युद्ध अंतिम विकल्प होता है,
कायरों के लिए युद्ध प्रथम विकल्प होता है

 

Veeron Ke Liye Yuddh Antim Vikalp Hota Hai

Kayaron Ke Liye Yuddh Pratham Vikalp Hota Hai

 

War Shayari In Hindi | युद्ध शायरी

 

तीर खाने की हवस है तो जिगर पैदा कर
सरफ़रोशी की तमन्ना है तो सर पैदा कर – अमीर मीनाई

 

Teer-Khane Ki Hawas Hai Toh Jigar Paida Kar

Sarfarosho Ki Tamanna Hai To Sar Paida Kar – Ameer Minai

 

ग़ुलामी में न काम आती हैं शमशीरें न तदबीरें
जो हो ज़ौक़-ए-यक़ीं पैदा तो कट जाती हैं ज़ंजीरें – अल्लामा इक़बाल

 

Gulaami Me N Kaam Aati Hai Shamsheerein N Tadbeerein

Jo Ho Jauk-e-Yakeen Paida To Kat Jaati Hai Zanjeerein – Allama Iqbal

 

अभी से पाँव के छाले न देखो
अभी यारो सफ़र की इब्तिदा है – एजाज़ रहमानी

 

Abhi Se Paaw Ke Chaale N Dekho

Abhi Yaaron Safar Ki Ibtida Hai – Azaz Rahmani

 


Read More –