Wakt Shayari In Hindi | वक़्त शायरी

Wakt Shayari In Hindi | वक़्त शायरी

 

वक़्त मेरी तबाही पे हँसता रहा
रंग तकदीर क्या क्या बदलती रही

 

Wakt Meri Tabaahi Par Hasta Raha
Rang Takdeer kya-Kya Badlati Rahi

 

कल मिला वक़्त तो ज़ुल्फ़ें तेरी सुलझा लूंगा
आज उलझा हूँ ज़रा वक़्त के सुलझाने में

 

Kal Mila Wakt To Teri Zulfe Suljhaunga
Aaj Uljha Hu Zara Wakt Ko Suljhaane Me

 

वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर
आदत इस की भी आदमी सी है -गुलज़ार

 

Wakt Rehta Nahi Kahi Tik kar
Aadat Is Ki Bhi Aadmi Si Hai Gulzaar

 

दर्द ही हमदर्द बन जाता है उस वक़्त,
जब खुद से ही अपना हाल बयाँ करने से कतराता है कोई।

 

Dard Hi Humdard Ban Jaata Hai Us Wakt
Jab Khud Se Hi Apna Haal Baya Karne Se Katraat Hai Koi

 

वक़्त बर्बाद करने वालों को
वक़्त बर्बाद कर के छोड़ेगादिवाकर राही

 

Wakt Barbaad Karne Walon Ko
Wakt Barbaad Kar Ke Chodega – Diwakar Rahi

 

सियाह रात नहीं लेती नाम ढलने का,
यही तो वक़्त है सूरज तेरे निकलने का

 

Siyaah Raat Nahi Leti Naam Dhalne Ko
Yahi To Wakt Hai Sooraj Tere Nikalne Ka

 

तूने ए वक़्त पलट कर कभी देखा है,
कैसे हैं सब तेरी रफ़्तार के मारे हुए लोग

 

Tune Ae Wakt Palat Kar Kabhi Dekha Hai
Kaie Hai Sab Teri Raftaar Ke Maare Hue Log

 

हम तो गुम थे किसी की खामोशी में
आपने याद दिलाया तो वक़्त याद आया 

 

Hum Toh Gum The kisi Ki Khamosi Me
Aapne Yaad Dilaaya To Wakt Yaad Aaya

 

ना तूफ़ान ने दस्तक दी, और ना पत्थर ने चोट दी,
वक्त तकदीर से मिला और मुझे सजा-ए-मोहब्बत दी

 

Na Toofaan Ne Dastak Di Aur Na Patthar Ne Chot Di
Wakt Takdeer Se Mila Aur Mujhe Saza-e-Mohabbat Di

 

ज़िंदगी यूँ ही बहुत कम है मोहब्बत के लिए
रूठ कर वक़्त गँवाने की ज़रूरत क्या है

 

Zindagi Yun Hi Bahut Kam Hai Mohabbat Ke Liye
Rooth Lar Wakt Gawaane Ki Zarurat Kya Hai

 

वक्त सबको मिलता हैं जिन्दगी बदलने के लिए,
पर जिन्दगी दुबारा नही मिलती वक्त बदलने के लिए

 

Wakt Sabko Milta Hai Zindagi Badalne Ke Liye
Par Zindagi Dobaara Nahi Milati Wakt Badalne Ke Liye

 


 
Read More –