Thanks Shayari In Hindi | शुक्रिया शायरी

Thanks Shayari In Hindi | शुक्रिया शायरी

 

उस मेहरबाँ नज़र की इनायत का शुक्रिया
तोहफ़ा दिया है ईद पे हम को जुदाई का

 

Us Meharbaan Nazar Ki Inayat Ka Shukriya

Tohafa Diya Hai Eid Pe Hum Ko Judaai Ka

 

शुक्रिया ऐ गर्दिश-ए-जाम-ए-शराब
मैं भरी महफ़िल में तन्हा हो गया – सलाम मछली शहरी

 

Shukriya Ae Gardish-e-jaam-e-Sharaab

Mai Bhari Mehfil Me Tanha Ho Gaya – Salaam Machli Shehari

 

चोटों पे चोट देते ही जाने का शुक्रिया
पत्थर को बुत की शक्ल में लाने का शुक्रिया – कुंवर बेचैन

 

Chonto Pe Chot Dete Hi Jaane Ka Shukriya

Patthar Ko But Ki Shakl Me Laane Ka Shukriya – Kunwar Bechain

 

शुक्रिया तेरा तिरे आने से रौनक़ तो बढ़ी
वर्ना ये महफ़िल-ए-जज़्बात अधूरी रहती

 

Shukriya Tera Tere Aane Se Raunak Badhi

Varna Ye Mehfil-e-Jajbaat Adhoori Rehti

 

Dhanywaad Shayari In Hindi

 

शुक्रिया तुम ने बुझाया मिरी हस्ती का चराग़
तुम सज़ा-वार नहीं तुम ने तो अच्छाई की – अफ़ीफ़ सिराज

 

Shukriya Tumne Bujhaya Meri Hasti Ka Charaag

Tum Saza-Waar Nahi Tum Ne Toh Achchai Ki – Afeek Siraaj

 

शुक्रिया बीच सफ़र आप ने तन्हा छोड़ा
इस तरह आप ने मुझ से मिरा रिश्ता जोड़ा – एहतिशामुल हक़ सिद्दीक़ी

 

Shukriya Beech Safar Aap Ne Tanha Choda

Is Tarah Aap Ne Mujh Se Mera Rishta Joda – Ehtishaamul Haq Siddiqui

 

शुक्रिया रेशमी दिलासे का
तीर तो आप ने भी मारा था – मुज़फ़्फ़र हनफ़ी

 

Shukriya Reshami Dilaase Ka

Teer Toh Aap Ne Bhi Maara Tha – Mujaffar Hanfi

 

ख़तों को खोलती दीमक का शुक्रिया वर्ना
तड़प रही थी लिफ़ाफ़ों में बे-ज़बानी पड़ी – अज़हर फ़राग़

 

Khaton Ko Kholati Deemak Ka Shukriya Varna

Tadap Rahi Thi Lifaafe Me Be-Jabani Padi – Azahar Farag

 

न शुक्रिया न शिकायत ये रब्त है कैसा
किसे नसीब थी फ़ुर्सत कि सोचता कोई – नाज़ क़ादरी

 

N Shukriya N Shikayat Ye Rabt Hai Kaisa

Kise Naseeb Thi Fursat Ki Sochata Koi – Naaz Qadari

 

Thank You Shayari In Hindi

 

पूछने वाले शुक्रिया तेरा
दर्द तो अब भी है मगर कम है – अली जव्वाद ज़ैदी

 

Poochane Waale Shukriya Tera

Dard Toh Ab Bhi Hai Magar Kam Hai – Ali Javvad zaidi

 

शुक्रिया ऐ जलाने वाले तेरा
दूर तक अब है रौशनी मुझ में – ताहिर फ़राज़

 

Shukriya Ae Jalane Waale Tera

Door Tak Ab Hai Roshani Tujh Me – Taahir Faraz

 

खिल रहे हैं गुलाब ज़ख़्मों के
शुक्रिया आप की नवाज़िश का – एजाज़ रहमानी

 

Khil Rahe Hai Gulaab Zakhmo Ke

Shukriya Aap Ki Nawajish Ka – Ezaaz Rahmani

 


Read More –