Tehzeeb Hafi Shayari In Hindi | तहज़ीब हफी की शायरी

Tehzeeb Hafi Shayari In Hindi | तहज़ीब हफी की शायरी

 

मैं कि काग़ज़ की एक कश्ती हूँ

पहली बारिश ही आख़िरी है मुझे

 

Mai Ki Kagaz Ki Ek Kashti Hu

Pehali Barish Hi Aakhiri Hai Mujhe

 

तेरा चुप रहना मिरे ज़ेहन में क्या बैठ गया

इतनी आवाज़ें तुझे दीं कि गला बैठ गया

 

Tera Chup Rehana Meri Zehan Me Baith Gaya

Itni Aawaje Di Tujhe Ki Gala Baith Gaya

 

ये एक बात समझने में रात हो गई है

मैं उस से जीत गया हूँ कि मात हो गई है

 

Ye Ek Baat Samajhne Me Raat Ho Gayi

Mai Us Se Jeet Gaya Hu Ki Maat Ho Gayi Hai

 

दास्ताँ हूँ मैं इक तवील मगर

तू जो सुन ले तो मुख़्तसर भी हूँ

 

Daatan Hu Mai Ik Taveel Magar

Tu Jo Sun Le To Mukhtsar Bhi Hu

 

वो जिस की छाँव में पच्चीस साल गुज़रे हैं

वो पेड़ मुझ से कोई बात क्यूँ नहीं करता

 

Wo Jis Ki Chaaw Me Pachchis Saal Gujare Hai

Wo Ped Mujhse Koi Baat Kyu Nahi Karta

 

बता ऐ अब्र मुसावात क्यूँ नहीं करता

हमारे गाँव में बरसात क्यूँ नहीं करता

 

Bata Ae Abr Musawat Kyu Nahi Karta

Hamare Gaav Me Barsaat Kyu Nahi Karta

 

तमाम नाख़ुदा साहिल से दूर हो जाएँ

समुंदरों से अकेले में बात करनी है

 

Tamaam Nakhuda Saahil Se Door Ho Jaaye

Samundaon Se Akele Baat Karni Hai

 

अपनी मस्ती में बहता दरिया हूँ

मैं किनारा भी हूँ भँवर भी हूँ

 

Apni Masti Me Behata Dariya Hu

Mai Kinaara Bhi Hu Bhavar Bhi Hu

 

इक तिरा हिज्र दाइमी है मुझे

वर्ना हर चीज़ आरज़ी है मुझे

 

Ik Tera Hizr Daaemi Hai Mujhe

Varna Har Cheez Aarji Hai Mujhe

 

मैं जिस के साथ कई दिन गुज़ार आया हूँ

वो मेरे साथ बसर रात क्यूँ नहीं करता

 

Mai Jis Ke Sath Kai Din Guzaar Aaya Hu

Wo Mere Sath Basar Kyu Nahi Karta

 

पेड़ मुझे हसरत से देखा करते थे

मैं जंगल में पानी लाया करता था

 

Ped Mujhe Hasrat Se Dekha Karte The

Mai Jungal Me Paani Laaya Karta Tha

 

इस लिए रौशनी में ठंडक है

कुछ चराग़ों को नम किया गया है

 

Is Liye Roshani Me Thandak Hai

Kuch Charaagon Ko Nam Kiya Gaya Hai

 

मैं जंगलों की तरफ़ चल पड़ा हूँ छोड़ के घर

ये क्या कि घर की उदासी भी साथ हो गई है

 

Mai Jangalon Ki Taraf Chal Pada Hu Chor Ke Ghar

Ye Kya Ki Udaasi Bhi Sath Ho Gayi Hai

 

मैं सुख़न में हूँ उस जगह कि जहाँ

साँस लेना भी शाइरी है मुझे

 

Mai Sukhan Me Hu Us Jagah Ki Jahan

Sans Lena Bhi Shayari Hai Mujhe

 

आसमाँ और ज़मीं की वुसअत देख

मैं इधर भी हूँ और उधर भी हूँ

 

Aasmaan Aur Jameen Ki Wasuwat Dekh

Mai Idhar Bhi Hu Aur Udhar Bhi Hu

 

सहरा से हो के बाग़ में आया हूँ सैर को

हाथों में फूल हैं मिरे पाँव में रेत है

 

Sehara Se Ho Ke Bagh Me Aaya Hu Sair Ko

Hathon Me Phool Hai Mere Paaw Me Ret Hai


Read More –