Tareekh Shayari In Hindi | तारीख शायरी

Tareekh Shayari In Hindi | तारीख शायरी

 

सिर्फ़ तारीख़ की रफ़्तार बदल जाएगी
नई तारीख़ के वारिस यही इंसाँ होंगे – रईस अमरोहवी

 

Sirf Tareekh Ki Raftaar Badal Jayegi

Nayi Tareekh Ke Waris Yahi Insaan Honge – Raees Amrohavi

 

मिटती नहीं तारीख़ से कोई भी इबारत
तारीख़ लिखेगी कि लिखा काट रहे हैं – अहया भोजपुरी

 

Mitati Nahi Tareekh Se Koi Bhi Ibarat

Tareekh Linkhengi Ki Likha Kaat Raha Hai – Ahaya Bhojpuri

 

कली जो दिल की खिली थी मसल गई तारीख़
बहार जैसे ही आई बदल गई तारीख़ – इक़बाल फ़रीद मैसूरी

 

Kali Jo Dil Ki Khili Thi Masal Gayi Tareekh

Bahaar Jaise Hi Aayi Badal Gayi Tareekh – Iqbal Fareed Maisoori

 

जिन्हें तारीख़ भी लिखते डरेगी
वो हंगामे यहाँ होने लगे हैं – फ़सीह अकमल

 

Jinhe Tareekh Bhi Likhte Darengi

Wo Hungame Yahan Hone Lage Hai – Faseeh Akmal

 

देख तारीख़ के ख़ज़ाने में
है मिरा ज़िक्र हर ज़माने में – सय्यद मुजीबुल हसन

 

Dekh Tareekh Ke Zamane Me

Hai Mera Jikr Har Zamane Me – Sayyed Mujibul Hasan

 

Tareekh Shayari In Hindi | तारीख शायरी

 

तारीख़ बताएगी वो क़तरा है कि दरिया
आँसू है अभी वक़्त के क़दमों में पड़ा है – अफ़रोज़ आलम

 

Tareekh Batayengi Wo Qatra Hai Ki Dariya

Aansu Hai Abhi Wakt Ke Kadmon Me Pada Hai – Afroz Alam

 

पिछली तारीख़ का अख़बार सँभाले हुए हैं
उनकी तस्वीर को बे-कार सँभाले हुए हैं – प्रखर मालवीय कान्हा

 

Pichli Tareekh Ka Akhbaar Sambhale Hue Hai

Unki Tasveer Ko Be-Qamar Sambhale Hue Hai – Prakhar Maalviy Kanha

 

एक तारीख़ मुक़र्रर पे तो हर माह मिले
जैसे दफ़्तर में किसी शख़्स को तनख़्वाह मिले – उमैर नजमी

 

Ek Tareekh Muqarrar Pe Toh Har Maah Mile

Jaise Daftar Me Kisi Shakhs Ko Tankhwaah Mile – Umair Nazmi

 

तारीख़ के बुने हुए थैलों में हमेशा
कोई बे-हद अहम चीज़ रह जाती है – अहमद जावेद

 

Tareekh Ke Bune Hue Thailon Me Hamesha

Koi Be-Had Aham Cheez Reh Jaati Hai – Ahmad Javed

 

पढ़ चुके हुस्न की तारीख़ को हम तेरे ब’अद
इश्क़ आगे न बढ़ा एक क़दम तेरे ब’अद – क़मर जलालवी

 

Padh Chuke Husn Ki Tareekh Ko Hum Tere Baad

Ishq Aage N Badha Ek Kadam Tere Baad – Qamar Jalalvi

 

ये जब्र भी देखा है तारीख़ की नज़रों ने
लम्हों ने ख़ता की थी सदियों ने सज़ा पाई – मुज़फ़्फ़र रज़्मी

 

Ye Zabr Bhu Dekha Hai Tareekh Ki Nazron Ne

Lamho Ne Khata Ki Thi Sadiyon Ne Saza Paayi – Muzaffar Razmi

 

मेरी इक उम्र और इक अहद की तारीख़ रक़म है जिस पर
कैसे रोकूँ कि वो आँसू मिरी आँखों से गिरा जाता है – फ़रहत एहसास

 

Meri Ik Umr Aur Ik Ahad Ki Tareekh Rakam Hai Jis Par

Kaise Rokun Ki Wo Aansu Meri Aankho Se Gira Jaata Hai – Farhat Ehsaas

 

Date Shayari In Hindi

 

सिर्फ़ तारीख़ की रफ़्तार बदल जाएगी
नई तारीख़ के वारिस यही इंसाँ होंगे – रईस अमरोहवी

 

Sirf Tareekh Ki Raftaar Badal Jayegi

Nayi Tareekh Ke Waris Yahi Insaan Honge – Raees Amrohavi

 

तारीख़ पे तारीख़ बदल दे न गवाही
मुंसिफ़ ही अदालत का बदल जाए तो अच्छा – आलोक यादव

 

Tareekh Pe Tareekh Badal De N Gawahi

Munsif Hi Adalat Ka Bdala Jaye Toh Achcha – Alok Yadav

 

अख़बार तारीख़ लिखते हैं
और मौत हर जगह अपना नाम – ज़ीशान साहिल

 

Akhbaar Tareekh Likhte Hai

Aur Maut Har Jagah Apna Naam – zeeshan Saahil

 

लिक्खी थी ग़ज़ल ये आगरा में
पहली तारीख़ जनवरी की – इस्माइल मेरठी

 

Likkhi Thi Ghazal Ye Agra Me

Pahli Tareekh Jnwari Ki – Ismaail Merathi

 


Read More –