Status on Kayastha | कायस्थ स्टेटस

Status on Kayastha | कायस्थ स्टेटस

मैं वक्ता नही लिखावट का परिवक्ता हूं
ना बंदूक ना तलवार सिर्फ अपने कलम के धार से मारता हूँ।

 

Mai Wakta Nahi Likhawat Ka Pariwakta Hu
Na Bandook Na Talwaar Sirf Apne Kalam Ke Dhaar Se Marata Hu

 

तीर-तलवार के आगे हम कलम को अपनाते है
चित्रगुप्त के वंसज हम कायस्थ कहलाते है

 

Teer-Talwaar Ke Aage Hum Kalam Ko Apnaate Hai
Chitragupt Ke Vansaj Hum Kayastha Kahalate Hai

 

क़लम को इस लिए तलवार करना
कि बढ़ के ज़ुल्म पर है वार करना – सबीहा सबा

 

Kalam Ko Isliye Talwaar Karna
Ki Badh Ke Zulm Par Hai Vaar Karna – Sabeeha Saba

 

क़लम की नोक पे रक्खूँगा इस जहान को मैं
ज़मीं लपेट के रख दूँ कि आसमान को मैं – मुमताज़ गुर्मानी

 

Kalam Ki Nok Pe Rakhunga Is Jahaan Ko Mai
Zameen Lapet Ke Rakh Du Ki Aasmaan Ko Mai – Mumataz Gurmaani

 

मैं कायस्थ कुलोदभव,
मेरे पुरखों ने इतना ढाला,
मेरे तन के लोहू में है 75 प्रतिशत हाला।
पुश्तैनी अधिकार मुझे है मदिरालय के आंगन पर,
मेरे दादों परदादों के हाथ बिकी थी मधुशाला।

 

Mai Kayastha Kulodbhav

Mere Purakho Ne Itna Dhaala

Mere Tan Ke Lohu Mai Hai 75 Pratishat Haala

Pushtaini Adhikaar Mujhe Hai Madiralay Ke Aangan Par

Mere Daado Pardaadon Ke Hath Biki Thi Madhushala

 

किस्मत पे नही छोड़ी किस्मत अपनी
हम कायस्थ अपनी कलम पर यकीन रखते है

 

Kismat Pe Nahi Chodi Kismat Apni
Hum Kayastha Apni Kalam Par Vishwas Rakhte Hai

 

कायस्थ शेर है
इनकी कलम के आगे सब ढेर है

 

Kayastha Sher Hai
Inki Kalam Ke Aage Sab Dher Hai

 


Read More –