Sitaaron Se Aage – Mohammad Iqbal

 Sitaaron Se Aage – Mohammad Iqbal

 
Hello Friends kaise hai aap log aaj mai aap logon ke liye ek nayi shayari lekar aaya hu jiska naam “sitaaron se Aage” hai jise mohammad iqbal ne likha hai urdu lafzon se piroya ye ghazal wakai apna ek alga pehchaan rakhta hai umeed hai aap logon ko ye shayari pasand aayi hogi agar aap ko ye ghazal achchi lage toh please comment box me batayein aur sath-sath ise apne doston aur parivaar me share karein..thank you

 

 

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं 

अभी इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं 

Sitaaron Se Aage Jahan Aur Bhi Hai

Abhi Ishq Ke Imtihaan Aur Bhi Hai

 

तही ज़िंदगी से नहीं ये फ़ज़ाएँ 

यहाँ सैकड़ों कारवाँ और भी हैं 

Tahi Zindagi Se Nahi Ye Fazayein

Yahan Saikano Kaarwaan Aur Bhi Hai

 

क़नाअत न कर आलम-ए-रंग-ओ-बू पर 

चमन और भी आशियाँ और भी हैं

Kanaat N Kar Aalam-e-Rang-o-Bu Par

Chaman Aur Bhi Aashiyaan Aur Bhi Hai

अगर खो गया इक नशेमन तो क्या ग़म 

मक़ामात-ए-आह-ओ-फ़ुग़ाँ और भी हैं 

Agar Kho Gaya Ik Nasheman Toh Kya Gum

Makamaat-e-Aah-o-Fugaan Aur Bhi Hai

 

तू शाहीं है परवाज़ है काम तेरा 

तिरे सामने आसमाँ और भी हैं

Tu Shaahi Hai Parwaaz hai Kaam Mera

Tere Smne Aasmaan Aur Bhi Hai

इसी रोज़ ओ शब में उलझ कर न रह जा 

कि तेरे ज़मान ओ मकाँ और भी हैं 

Isi Roz-o-Shab Me Ulajh Kar N Reh Ja

Ki Tere Zamaan-o-Makaa Aur Bhi Hai

 

गए दिन कि तन्हा था मैं अंजुमन में 

यहाँ अब मिरे राज़-दाँ और भी हैं 

Gaye Din Ki Tanha Tha Mai Anjuman Me

Yahan Ab Mere Raazda Aur Bhi Hai

 


Read More –