Shehar Shayari In Hindi | शहर पर शायरी

Shehar Shayari In Hindi | शहर पर शायरी

 

तुम्हारे शहर का मौसम बड़ा सुहाना लगे
मैं एक शाम चुरा लूँ अगर बुरा न लगे – क़ैसर-उल जाफ़री

 

Tumhare Shehar Ka Mausam Suhaana Lage

Mai Ek Shaam Chura Lu Agar Bura Na Lage – Kaisar-Ul-Zafari

 

पहले तो हम छान आए ख़ाक सारे शहर की
तब कहीं जा कर खुला उस का मकाँ है सामने – अब्बास ताबिश

 

Pahle Toh Hum Chaan Aaye Khaak Saare Shehar Ki

Tab Kahin Jakar Khula Us Ka Maka Hai Samne – Abbas Tabish

 

शहर भर के आईनों पर ख़ाक डाली जाएगी
आज फिर सच्चाई की सूरत छुपा ली जाएगी – सरफ़राज़ दानिश

 

Shehar Bhar Ke Aaino Par Khaak Daali Jayegi

Aaj Phir Sachchai Ki Soorat Chupa Li Jayegi – Sarfaraz Danish

 

इस शहर में ख़्वाबों की इमारत नहीं बनती
बेहतर है कि ता’मीर का नक़्शा ही बदल लो – नफ़स अम्बालवी

 

Is Shehar Me Khwabon Ki Imarat Nahi Banti

Behtar Hai Ki Tameer Ka Naksha Hi Badal Lo – Nafas Ambalavi

 

अपनों के ज़ख़्म खा के मैं निकला जो शहर से
जो अजनबी मिला वही अपना लगा मुझे – ज़ुहैर कंजाही

 

Apno Ke Zakhm Kha Ke Mai Nikla Jo Shehar Se

Jo Ajnabi Mila Wahi Apna Laga Mujhe – Juhair Kanjaahi

 

शहर का शहर अगर आए भी समझाने को
इस से क्या फ़र्क़ पड़ेगा तिरे दीवाने को – शहज़ाद अहमद

 

Shehar Ka Shehar Agar Aaye Bhi Samjhaane Ko

Is Se Kya Fark Padega Tere Deewane Ko – Shehzaad Ahmad

 

बिछ्ड़ें तो शहर भर में किसी को पता न हो
तुम को भी कुछ मलाल हमें भी गिला न हो – हसन नईम

 

Bichare Toh Shehar Bhar Me Kisi Ko Pata N Ho

Tum Ko Bhi Kuch Malaal Hamein Bhi Gila N Ho – Hasan Naeem

 

ज़िंदगी अज़ाब लिए
बड़े शहर का ख़्वाब लिए – परवेज़ शहरयार

 

Zindagi Ajaab Liye

Bade Shehar Ka Khwaab Liye – Parwez Sheharyaar

 

नफ़रत की आग जलने लगी तेरे शहर में
ये बात आज खलने लगी तेरे शहर में – पल्लवी मिश्रा

 

Nafrat Ki Aag Jalne Lagi Tere Shehar Me

Ye Baat Aaj Khalne Lagi Tere Shehar Me – Pallavi Mishra

 

हुस्न का है कैसा ये बाज़ार तेरे शहर में
जिस ने देखा हो गया बीमार तेरे शहर में – ख़ालिद कोटी

 

Husn Ka Hai Kaisa Ye Bazaar Tere Shehar Me

Jis Ne Dekha Ho Gaya Bimaar Tere Shehar Me – Khalid Koti

 

बिगड़ी हुई इस शहर की हालत भी बहुत है
जाऊँ भी कहाँ इस से मोहब्बत भी बहुत है – शहज़ाद अहमद

 

Bigdi Hui Is Shehar Ki Halat Bhi Bahut Hai

Jaun Bhi Kahan Is Se Mohabbat Bhi Bahut Hai – Shehzaad Ahmad

 

ऐसा कहाँ कि शहर के मंज़र बदल गए
मंज़र वही हैं सिर्फ़ सितमगर बदल गए – हबीब हाश्मी

 

Aisa Kahan Ki Shehar Ke Manjar Badal Gaye

Manjar Wahi Hai Sirf Sitamgar Badal Gaye – Habeeb Kashami

 

हर एक शख़्स ने पूछा है मेरे शहर का हाल
मैं ख़ैरिय्यत से हूँ ये भी किसी ने पूछा है – इरफ़ान हमीद

 

Har Ek Shaksh Ne Poocha Hai Mere Shehar Ka Haal

Mai Khairiya Se Hu Ye Bhi Kisi Ne Poocha Hai – Irfaan Hameed

 

नक़्शा उठा के कोई नया शहर ढूँढिए
इस शहर में तो सब से मुलाक़ात हो गई – निदा फ़ाज़ली

 

Naksha Utha Ke Koi Naya Shehar Dhoondhiye

Is Shehar Me Toh Sab Se Mulakaat Ho Gayi – Nada Fazali

 

जब से उस ने शहर को छोड़ा हर रस्ता सुनसान हुआ
अपना क्या है सारे शहर का इक जैसा नुक़सान हुआ – मोहसिन नक़वी

 

Jab Se Us Ne Shehar Ko Choda Har Raasta Sunsaan Hua

Apna Kya Hai Saare Shehar Ka Ik Jaisa Nukasaan Hua – Mohsin Naqvi

 

Shehar Shayari In Hindi | शहर पर शायरी

 

तमाम शहर की ख़ातिर चमन से आते हैं
हमारे फूल किसी के बदन से आते हैं – फ़रहत एहसास

 

Tamaam Shehar Ki Khatir Chaman Se Aate Hai

Hamare Phool Kisi Ke Badan Se Aate Hai – Farhat Ehsaas

 

अजीब शहर का नक़्शा दिखाई देता है
जिधर भी देखो अँधेरा दिखाई देता है – आसी रामनगरी

 

Ajeeb Shehar Ka Naksha Dikaayi Deta Hai

Jidhar Bhi Dekho Andhera Dikhaayi Deta Hai – Aasi Ramnagri

 

बाज़ार तिरे शहर के बदनाम बहुत हैं
छोटी सी ख़ुशी के भी यहाँ दाम बहुत हैं – चाँद अकबराबादी

 

Bazaaar Tere Shehar Ke Badnaam Bahut Hai

Choti Si Khushi Ke Bhi Yahan Daam Bahut Hai – Chand Akbarabadi

 

ये शहर ये ख़्वाबों का समुंदर न बचेगा
जब आग लगेगी तो कोई घर न बचेगा – एज़ाज़ अफ़ज़ल

 

Ye Shehar Ye Khwabon Ka Samandar N Bachega

Jab Aag Lagegi Toh Koi Ghar N Bachega – Azaaz Afzal

 

इस भरे शहर में हर चीज़ की क़ीमत ठहरी
दर्द बिक जाते हैं जज़्बात बिका करते हैं – साबिर दत्त

 

Is Bhare Shehar Me Har Cheez Ki Kimat Thehari

Dard Bik Jaate Hai Jazbaat Bika Karte Hai – Saabir Dutt

 

एक अंगड़ाई से सारे शहर को नींद आ गई
ये तमाशा मैं ने देखा बाम पर होता हुआ – प्रेम कुमार नज़र

 

Ek Angdaai Se Saare Shehar Ko Nind Aa Gayi

Ye Tamasha Maine Dekha Baam Par Hota Hua – Prem Kumar Nazar

 


Read More –