Shayari On Water | पानी पर शायरी

Shayari On Water | पानी पर शायरी

 

दूर तक फैला हुआ पानी ही पानी हर तरफ़
अब के बादल ने बहुत की मेहरबानी हर तरफ़ – शबाब ललित

 

Door Tak Faila Hua Paani Hi Paani Har Taraf
Ab Ke Badal Ne Bahut Ki Meharbani Har Taraf – Shabab Lalit

 

पानी को ख़ून ख़ून को पानी लिखेगा कौन
जब तुम नहीं कबीर की बानी लिखेगा कौन – सगुफ़ता तलअत सीमा

 

Paani Ko Khoon Khoon Ko Paani Likhega Kaun
Jab Tum Nahi Kabeer Ki Baani Likhega Kaun – Sagufata Lalat Seema

 

मैं वो सहरा जिसे पानी की हवस ले डूबी
तू वो बादल जो कभी टूट के बरसा ही नहीं – सुल्तान अख़्तर

 

Mai Wo Sehara Jise Paani Ki Hawas Le Doobi
Tu Wo Badal Jo Kabhi Toot Ke Barasa Hi Nahi – Sultan Akhtar

 

इश्क़ में पीने का पानी बस आँख का पानी
खाने में बस पत्थर खाए जा सकते थे – फ़रहत एहसास

 

Ishq Me Peene Ka Paani Bas Aankh Ka Paani
Khaane Me Bas Patthar Khaye Ja Sakte The – Farhat Ehsaas

 

ज़िंदगी क्या है तमन्नाओं का खारा पानी
हर कोई पी के यहाँ माँगे दोबारा पानी – नवेद मालिक

 

Zindagi Kya Hai Tamannao Ka Khaata Paani
Har Koi Pi Ke Yahan Mange Dobara Paani – Naved Malik

 

नाम पानी पे लिखने से क्या फ़ाएदा
लिखते लिखते तिरे हाथ थक जाएँगे – बशीर बद्र

 

Naam Paani Pe Likhne Se Kya Fayada
Likhte-Likhte Tere Hath Thak Jayenge – Bashir Badr

 

वो ले गया था साथ किनारे समेट कर
दरिया से पूछती रही पानी का क्या बना – सीमा ग़ज़ल

 

Wo Le Gaya Tha Sath Kinaare Samet Kar
Dariya Se Poochati Rahi Paani Ka Kya Bana – Seema Ghazal

 

सिर्फ़ ख़ंजर ही नहीं आँखों में पानी चाहिए
ऐ ख़ुदा दुश्मन भी मुझ को ख़ानदानी चाहिए – राहत इंदौरी

 

Sirf Khanjar Hi Nahi Aankho Me Paani Chahiye
Ae Khuda Dushman Bhi Mujh Ko Khandani Chahiye – Rahat Indori

 

पानी में भी प्यास का इतना ज़हर मिला है
होंटों पर आते हर क़तरा सूख रहा है – अली अकबर अब्बास

 

Paani Me Bhi Pyaas Ka Itna Zehar Mila Hai
Hontho Par Aate Har Qatra Sookh Raha Hai – Ali Akbar Abbas

 

तुम उसे पानी समझते हो तो समझो साहब
ये समुंदर की निशानी है मिरे कूज़े में – दिलावर अली आज़र

 

Tum Use Paani Samajhte Ho Toh Samjho Sahab
Ye Samundar Ki Nishani Hai Mere Mujhe Me – Dilawar Ali Aajar

 

ये पानी ख़ामुशी से बह रहा है
इसे देखें कि इस में डूब जाएँ – अहमद मुश्ताक़

 

Ye Paani Khamoshi Se Beh Raha Hai
Ise Dekhe Ki Doob Jaaye – Ahmad Mushtak

 

Shayari On Water | पानी पर शायरी

 

किस ने भीगे हुए बालों से ये झटका पानी
झूम के आई घटा टूट के बरसा पानी – आरज़ू लखनवी

 

Kisi Ne Bheege Hue Baalon Se Ye Jhataka Paani
Jhoom Ke Aayi Ghata Barsa Paani – Aarju Lakhanvi

 

दरिया दरिया पानी है
जीवन एक कहानी है – मंसूर उमर

 

Dariya – Dariya Paani Hai
Jeevan Ek Kahani Hai – Mansoor Umar

 

खा के सूखी रोटियाँ पानी के साथ
जी रहा था कितनी आसानी के साथ – अब्बास ताबिश

 

Kha Ke Sookhi Rotiyan Paani Ke Sath
Ji Raha Tha Kitni Aasani Ke Sath – Abbas Tabish

 

पानी को आग कह के मुकर जाना चाहिए
पलकों पे अश्क बन के ठहर जाना चाहिए – यूसुफ़ ज़फ़र

 

Paani Ko Aag Keh Ke Mukar Jaana Chahiye
Palkon Pe Ashq Ban Ke Thehar Jaana Chahiye – Yusuf Zafar

 

नहीं लेता मगर लेने पे आऊँ तो
मैं बदला आग का पानी से लेता हूँ – सरफ़राज़ ज़ाहिद

 

Nahi Leta Magar Lene Pe Aaun Toh
Mai Badla Aag Ka Paani Se Leta Hi – Sarfaraz Zaahid

 

फिर तिरी याद नए ख़्वाब दिखाने आई
चाँदनी झील के पानी में नहाने आई – अंजुम रहबर

 

Phir Teri Yaad Naye Khwaab Dikhane Aayi
Chandani Jheel Ke Paani Me Nahane Aayi – Anjum Rehbar

 

बूँद पानी को मिरा शहर तरस जाता है
और बादल है कि दरिया पे बरस जाता है – नसीम सहर

 

Boond Paani Ko Mera Shehar Taras Jaata Hai
Aur Badal Hai Ki Dariya Pe Baras Jaata Hai – Naseem Sahar

 

कहा मैं ने मिरी आँखों में पानी है
जवाब आया मोहब्बत की निशानी है – इफ़्तिख़ार राग़िब

 

Kaha Maine Meri Aankho Me Paani Hai
Jawaab Aaya Mohabbat Ki Nishani Hai – Iftikhaar Ragib

 

आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो – राहत इंदौरी

 

Aankh Me Paani Rakho Hontho Pe Chingaari Rakho
Zinda Rehna Hai Tarkeebein Bahut Saari Rakho – Rahat Indori

 

Shayari On Water | पानी पर शायरी

 

हम तो पानी हैं किसी शक्ल भी ढल सकते हैं
इक ज़रा आँच दिखा दो तो उबल सकते हैं – सलमान सईद

 

Hum Toh Paani Hai Kisi Shakl Me Dhal Sakte Hai
Ik Zara Aanch Dikha Do Toh Ubal Sakte Hai – Salman Saeed

 

वो चाँद है तो अक्स भी पानी में आएगा
किरदार ख़ुद उभर के कहानी में आएगा – इक़बाल साजिद

 

Wo Chand Hai Toh Aks Bhi Paani Me Aayega
Kirdaar Khud Ubhar Ke Kahani Me Ayega – Iqbal Sazid

 

जो तू समझे तो मोती है
जो ना समझे तो पानी है – कुमार विश्वास

 

Jo Tu Samjhe To Moti Hai
Jo Na Samjhe Toh Paani Hai – Kumar Vishwas

 

आग है पानी है मिट्टी है हवा है मुझ में
और फिर मानना पड़ता है ख़ुदा है मुझ में – कृष्ण बिहारी नूर

 

Aag Hai Paani Hai Mitti Hai Hawa Hai Mujhme
Aur Phir Manana Padta Hai Khuda Hai Mujhme – Krishna Bihari

 


Read More –