Shayari On Office | दफ्तर पर शायरी

Shayari On Office | दफ्तर पर शायरी

दिल का दफ़्तर जला के देखा है
ख़ून अपना बहा के देख है – फ़र्रुख नवाज़ फ़र्रुख़

 

Dil Ka Daftar Jala Ke Dekha Hai

Khoon Apna Baha Ke Dekha Hai – Farrukh Nawaj Farrukh

 

शाम को दफ़्तर के ब’अद
वापसी पर घर की सम्त – सलीम अहमद

 

Shaam Ko Daftra Ke Baad

Wapasi Par Ghar Ki Samt – Saleem Ahmad

 

हैरत के दफ़्तर जाऊँ
मैं अपने अंदर जाऊँ – अकरम नक़्क़ाश

 

Hairat Ke Daftar Jaun

Mai Apne Andar Aaun – Akram Nakkash

 

गिले शिकवे के दफ़्तर आ गए तुम
अरे ‘सानी’ कहाँ घर आ गए तुम – वजीह सानी

 

Gile Shikawe Ke Daftar Aa Gaye Tum

Are ‘Saani’ Kahan Ghar Aa Gaye Tum – Wajeeh Saani

 

तिरी जब नींद का दफ़्तर खुला था
यक़ीनन एक इक मंज़र खुला था – विशाल खुल्लर

 

Teri Jab Nind Ka Daftar Khula Tha

Yakinan Ek Ek Manjar Khula Tha – Vishal Khullar

 

अब्बा तो चले गए हैं दफ़्तर
अम्मी को बुख़ार आ रहा है – अहमद नदीम क़ासमी

 

Abba Toh Chale Gaye Daftar

Ammi Ko Bukhaar Aa Raha Hai – Ahmad Nadeem Kasami

 

Daftar Shayari In Hindi

उम्र भर शौक़ का दफ़्तर लिक्खा
लफ़्ज़ इक भी न मूअस्सर लिक्खा – प्रेम कुमार नज़र

 

Umr Bhar Ka Shauk Daftar Likkha

Lafz Ik Bhi N Muyassar Likkha – PremKumar Nazar

 

सुब्ह होती है तो दफ़्तर में बदल जाता है
ये मकाँ रात को फिर घर में बदल जाता है – फ़रियाद आज़र

 

Subah Hoti Hai Toh Daftar Badal Jaata Hai

Ye Makaan Raat Ko Phir Ghar Me Badal Jaata Hai – Fariyaad Azar

 

दफ़्तर जो गुलों के वो सनम खोल रहा है
अग़्यार तो क्या दिल भी इधर बोल रहा है – अरशद अली ख़ान क़लक़

 

Daftar Jo Gulon Ke Wo Sanam Khol Raha Hai

Agyaar Toh Kya Dil Bhi Idhar Bol Raha Hai – Arshad Ali Khan Kalak

 

दफ़्तर से मिल नहीं रही छुट्टी वगर्ना मैं
बारिश की एक बूँद न बे-कार जाने दूँ – अज़हर फ़राग़

 

Daftar Se Mil Nahi Rahi Chutti Warna Mai

Barish Ki Ek Boond N BeKaar Jaane Du – Azahar Faraag

 

दफ़्तर की थकन ओढ़ के तुम जिस से मिले हो
उस शख़्स के ताज़ा लब-ओ-रुख़्सार तो देखो – जाज़िब क़ुरैशी

 

Daftar Ki Thakan Odh Ke Tum Jis Se Mile Ho

Us Shakhs Ke Taaja Lab-O-Rukhsar Toh Dekho – Zaazib Kuraishi

 

इश्क़ ने मेरे जिसे अलक़ाब का दफ़्तर दिया
उस ने सोने को मुझे काँटों भरा बिस्तर दिया – सबीन सैफ

 

Ishq Ne Mere Jise Alkaab Ka Daftar Diya

Us Ne Sone Ko Mujhe Kanto Bhara Bistar Diya – Sabeen Saif

 

Shayari On Office | दफ्तर पर शायरी

 

मैं बढ़ाता जा रहा था इस लिए दफ़्तर की बात
बीच चौराहे में लाई जा रही थी घर की बात – अरशद अज़ीज़

 

Mai Badhta Ja Raha Tha Is Liye Daftar Ki Baat

Beech Chaurahe Par Laayi Ja Rahi Thi Ghar Ki Baat – Arshad Aziz

 

वो कौन था जो मिरी ज़िंदगी के दफ़्तर से
हुरूफ़ ले गया ख़ाली किताब छोड़ गया – करामत अली करामत

 

Wo Kaun Tha Meri Zinadagi Ke Daftar Se

Huruf Le Gaya Khaali Kitaab Chor Gaya – Karamat Ali Karamat

 

लिखते रुक़आ लिखे गए दफ़्तर
शौक़ ने बात क्या बढ़ाई है – मीर तक़ी मीर

 

Likkhe Ruka Likhe Gaye Daftar

Shauk Ne Baat Kya Badhayi Hai -Mir Taki Mir

 

ख़बर भी है तुझे इस दफ़्तर-ए-मोहब्बत को
जलाने जलने में क्या क्या ज़माने लगते हैं – अमीर हम्ज़ा साक़िब

 

Khabar Bhi Hai Tujhe Is Daftar-eMohabbat Ko

Jalane Jalne Me Kya-Kya Zamane Lagte Hai – Ameer Hamza Saakib

 

मैं आज दफ़्तर में सुब्ह पहुँचा
तो इक नया ज़र्द ज़र्द चेहरा नज़र पड़ा – ख़ुर्शीद रिज़वी

 

Mai Aaj Daftar Me Subah Pahucha

Toh Ek Naya Zard-Zard Chehara Pada – Khurshid Rizvi

 

खो गए यूँ कार-ख़ाने या किसी दफ़्तर में हम
छुट्टियों में अजनबी लगते हैं अपने घर में हम – माहिर अब्दुल हई

 

Kho Gaye Yun Karkhane Ya Kisi Daftar Me Hum

Chuttiyon Me Ajnabi Lagte Hai Apne Ghar Me Hum – Maahir Abdul Hai

 

घर से दफ़्तर दफ़्तर से घर
दफ़्तर से घर घर से दफ़्तर – रिफ़अत सरोश

 

Ghar Se Daftar Daftar Se Ghar

Daftar Se Ghar Ghar Se Daftar – Rifat Sarosh

 

हो चुकी अब शाइ’री लफ़्ज़ों का दफ़्तर बाँध लो
तंग हो जाए ज़मीं तो अपना बिस्तर बाँध लो

 

Ho Chuki Ab Shayari Lafzon Ka Daftar Bandh Lo

Tang Ho Gaye Zameen Toh Apna Bistar Bandh LO

 

चुप हुए तो घर से निकले जा के दफ़्तर रो पड़े
इश्क़ ऐसी जंग है जिस में सिकंदर रो पड़े – प्रशांत शर्मा दराज़

 

Chup Hue Toh Ghar Se Nikle Jake Daftar Ro Pade

Ishq Aai Jung Hai Jis Me Sakandar Ro Pade – Orashant Sharma Daraaj

 

दफ़्तर के कामों को दफ़्तर तक रक्खें
घर में बैठ के क्यों सरकारी बात करें  – ज़ोहैब नाज़ुक

 

Daftar Ke Kaamon Ko Daftar Tak Rakhe

Ghar Me Baith Ke Kyo Sarkari Baat Karein – Joheb Nazuk

 


Read More –