Shayari On Labour | मजदूर पर शायरी

Shayari On Labour | मजदूर पर शायरी

 

वो इक मज़दूर लड़की है
बहुत आसान है मेरे लिए उस को मना लेना – सलाम मछली शहरी

 

Wo Ik Majdoor Ladki Hai
Bahut Assan Hai Mere Liye Usko Mana Lena – Salaam Machali Shehar

 

मैं हूँ इक बच्चा मज़दूर
बचपन से हूँ कोसों दूर – अमीन हज़ीं

 

Mai Hu Ik Bachcha Majdoor
Bachpan Se Hu Koso Door – Ameen Hazeen

 

सो जाते हैं फ़ुटपाथ पे अख़बार बिछा कर
मज़दूर कभी नींद की गोली नहीं खाते – मुनव्वर राना

 

So Jaate Hai Futpath Pe Akhbaar Bichhakar
Majdoor Kabhi Nind Ki Goli Nahi Khaate – Munavvar Rana

 

मैं इक मज़दूर की बेटी हूँ पगले
मुझे ख़्वाबों का रस्ता रोकना है – समीना साक़िब

 

Mai Ik Majdoor Ki Beti Hu Pagle
Mujhe Khwabon Ka Rasta Rokna Hai – Samedna Saakib

 

क्या जाने आज क्यूँ किसी मज़दूर की तरह
सूरज ग़ुरूब होते ही थकने लगी है शाम – ओवेस अहमद दौराँ

 

Kya Jaane Aaj Kyu Kisi Majdoor Ki Tarah
Sooraj Gurub Hote Hi Thakne Lagi Shaam – Oves Ahmad Dauraan

 

आने वाले जाने वाले हर ज़माने के लिए
आदमी मज़दूर है राहें बनाने के लिए – हफ़ीज़ जालंधरी

 

Aane Wale Jaane Waale Har Zamane Ke Liye
Aadmi Majdoor Hai Rahein Banane Ke Liye – Hafeez Jalandhari

 

Shayari On Labour | मजदूर पर शायरी

 

ख़ून मज़दूर का मिलता जो न तामीरों में
न हवेली न महल और न कोई घर होता – हैदर अली जाफ़री

 

Khoon Majdoor Ka Milta Jo N Tameeron Me
Na Haveli, Na Mahal Aur N Koi Ghar Hota – Haidar Ali Safari

 

ज़िंदगी अब इस क़दर सफ़्फ़ाक हो जाएगी क्या
भूक ही मज़दूर की ख़ूराक हो जाएगी क्या – रज़ा मौरान्वी

 

Zindagi Ab Is Qadar Sffak Ho Jayegi Kya
Bhookh Hi Majdoor Ki Khuraak Ho Jayegi Kya – Raza Mauranvi

 

ये परिंदे भी खेतों के मज़दूर हैं
लौट के अपने घर शाम तक जाएँगे – बशीर बद्र

 

Ye Parinde Bhi Kheton Ke Majdoor Hai
Laut Ke Apne Ghar Sham Tak Jayenge – Bashir Badr

 

सरों पे ओढ़ के मज़दूर धूप की चादर
ख़ुद अपने सर पे उसे साएबाँ समझने लगे – शारिब मौरान्वी

 

Saron Or Odh Ke Majdoor Dhoop Ki Chadar
Khud Apne Sar Pe Use Sayebaan Samajne Lage – Sharib Mauranvi

 

सिर्फ सपनो की राख बाकी है
मजदूर की कुटिया में

 

Sirf Sapno Ki Rakh Baaki Hai
Majdoor Ki Kutiya Me

 

इश्क़ करने का मुझे कहती है समझाओ उसे
मुझ सा मज़दूर मोहब्बत भी नहीं कर सकता – हसीबुल हसन

 

Ishq Karne Ka Mujhe Kehti Hai Samjhao Use
Mujh Sa Majdoor Mohabbat Bhi Nahi Kar Sakta – Hasibul Hasan

 

दादी से कहना उस की कहानी सुनाइए
जो बादशाह इश्क़ में मज़दूर हो गया – बशीर बद्र

 

Daadi Se Kehna Us Ki Kahani Sunaiye
Jo Baadshah Ishq Me Majdoor Ho Gaya – Bashir Badr

 

ज़िंदगी ख़ुश्क है वीरान है अफ़्सुर्दा है
एक मज़दूर के बिखरे हुए बालों की तरह – सरवर अरमान

 

Zindagi Khushk Hai Viraan Hai Afsurda Hai
Ek Majdoor Ke Bikhare Hue Baalon Ki Tarah – Sarvar Armaan

 

तुम ने मज़दूर के छाले नहीं देखे शायद
अपने हाथों पे वो मेहनत की ग़ज़ल लिखते हैं – अशोक मिज़ाज बद्र

 

Tum Me Majdoor Ke Chaale Nahi Dekhe Shayad
Apne Hathon Pe Wo Mehnat Ki Ghazal Likhte Hai – Ashok Mizaaz Badr

 

कभी मज़दूर से पूछो तुम्हारा हाल कैसा है
कहेगा रह गया हूँ बस थकावट में तो ग़ुर्बत में – इरफान आबिदी मानटवी

 

Kabhi Majdoor Se Poocho Tumhara Haal Kaisa Hai
Kahega Reh Gaya Hu Bas Thakawat Me Toh Gurbat Me – Irfan Aabidi Maanvati

 


Read More –