Shayari On Game | खेल पर शायरी

Shayari On Game | खेल पर शायरी

Shayari On Game | खेल पर शायरी

 

या कभी आशिक़ी का खेल न खेल
या अगर मात हो तो हाथ न मल – सय्यद आबिद अली आबिद

 

Ya Kabhi Aashuqui Ka Khel N Khel

Ya Agar Maat Ho Toh Hath N Mal  

 

खेल दिल का अजीब होता है
कौन किस के क़रीब होता है – संतोष खिरवड़कर

 

Khel Dil Ka Ajeeb Hota Hai

Kaun Kis Ke Kareeb Hota Hai – Santosh Khirwadkar

 

Shayari On Game | खेल पर शायरी

 

इक रोज़ खेल खेल में हम उस के हो गए
और फिर तमाम उम्र किसी के नहीं हुए – विपुल कुमार

 

Ik Roz Khel-Khel Me Hum Us Ke Ho Gaye

Aur Phir Tamaam Umr Kisi Ke Nahi Huye – Vipul Kumar

 

दोस्ती न की होगी खेल ही किया होगा
आप ने हमें सोचा ग़ैर ख़ुश हुआ होगा परवीन मिर्ज़ा

 

Dosti N Ki Hogi Khel Hi Kiya Hoga

Aap Ne Hamein SochaGair Khush Hua Hoga – Parveen Mirza

 

Shayari On Game | खेल पर शायरी

 

खेल ज़िंदगी के तुम खेलते रहो यारो
हार जीत कोई भी आख़िरी नहीं होती – हस्तीमल हस्ती

 

Khel Zindagi Ke Tum Khelate Raho Yaaron

Haar-Jeet Koi Bhi Aakhiri Nahi Hoti – Hastimal Hasti

 

Shayari On Game | खेल पर शायरी

 

ऐसे रिश्ते का भरम रखना कोई खेल नहीं
तेरा होना भी नहीं और तिरा कहलाना भी वसीम बरेलवी

 

Aise Rishte Ka Bharam Rakhna Koi Khel Nahi

Tera Hona Bhi Nahi Aur Tera Kehlaana Bhi Nahi – Waseem Barelavi

 

रात काग़ज़ क़लम का अजब खेल था
उन के क़दमों का नक़्शा बनाया गया – अतीब क़ादरी

 

Raat Kagaz Kalam Ka Ajab Khel Tha

Un Ke Kadmon Ka Naksha Banaya Gaya – Ateeb Kadari

 

खेल था अपनी अना का इश्क़ उसे समझा किया
मैं ने अपने आप से कितना बड़ा धोका किया – फ़रासत रिज़वी

 

Khel Tha Apni Ana Ka Ishq Use Samajha Kiya

Maine Apne Aap Se Kitna Bada Dhokha Kiya – Farasat Rizvi

 

Shayari On Game | खेल पर शायरी

 

मैं अपने आप से इक खेल करने वाला हूँ
सभी ये सोच रहे हैं कि मरने वाला हूँ – आज़ाद गुलाटी

 

Mai Apne Aap Se Ik Khel Karne Wala Hu

Sabhi Ye Soch Rahe Hai Ki Marne Waala Hu – Azaad Gulati

 

तुम मोहब्बत को खेल कहते हो
हम ने बर्बाद ज़िंदगी कर ली बशीर बद्र

 

Tum Mohabbat Ko Khel Kehate Ho

Hamne Barbaad Zindagi Kar Li – Bashir Badr

 

इस मिट्टी को ऐसे खेल खिलाया हम ने
ख़ुद को रोज़ बिगाड़ा रोज़ बनाया हम ने – अमित शर्मा मीत

 

Is Mitti Ko Aise Khel Khilaya Hamne

Khud Ko Roz Bigaada Roz Banaya Hamne – Amir Sharma Meet

 

अगर इस खेल में अब वो भी शामिल होने वाला है
तो अपना काम पहले से भी मुश्किल होने वाला है – ज़फ़र इक़बाल

 

Agar Is Khel Me Ab Wo Bhi Shamil Hone Wala Hai

Toh Apna Kaam Pahle Se Bhi Mushkil Hone Wala Hai – Zafar Iqbal

 

किसे ख़बर थी कि ये वाक़िआ भी होना था
कि खेल खेल में इक हादसा भी होना था

 

Kise Khabar ThI ki Ye Waakia Bhi Hona Tha

Ki Khel-Khel Me Ik Hadasa Bhi Hona Tha

 

ज़िंदगी तमाशा है और इस तमाशे में
खेल हम बिगाड़ेंगे खेल को बनाने मे  आलम ख़ुर्शीद

 

Zindagi Tamasha Hai Aur Is Tamashe Me

Khel Hum Bigadenge Khel Ko Banane Me – Alam Khurshid

 

Shayari On Game | खेल पर शायरी

 

जीवन का ये खेल तमाशा यूँही चलता रहता है
दिन फिरते हैं लोगों में और वक़्त बदलता रहता है – आफ़ताब अहमद शाह

 

Jeevan Ka Ye Khel Tamasha Yu Hi Chalata Rehata Hai

Din Firate Hai Logon Me Aur Wakt Badalata Rehata Hai – Aftaab Ahmad Shah

 


Read More