Shayari On Farmers | किसान पर शायरी

Shayari On Farmers | किसान पर शायरी

Shayari On Farmers | किसान पर शायरी

 

Shayari On Farmers | किसान पर शायरी

 

वो किसान भूखों मरता है
ग़ल्ला तो चूहे खाते हैं – मुज़फ़्फ़र हनफ़ी

 

Wo Kissan Bhukho Marta Hai
Galla Toh Chuhe Kha Jaate Hai – Mujaffar Hanfi

 

बारिशें जाड़े की और तन्हा बहुत मेरा किसान
जिस्म और इकलौता कम्बल भीगता है साथ साथ – परवीन शाकिर

 

Barish Jaade Ki Aur Tanha Bahut Mera Kissan
Jism Aur Iklauta Kambal Bheegata Hai Sath-Sath – Parveen Shakir

 

Shayari On Farmers | किसान पर शायरी

 

बारिश में खेत ऐसी तरह से नहाए है
रौनक़ हर इक किसान के चेहरे पे आए है – नज़ीर बनारसी

 

Barish Me Khet Aisi Tarah Se Nahaye Hai
Raunak Har Ik Kisaan Ke Chehre Pe Aaye Hai

 

खेतों का पानी अब आखों में आ गया हैं,
मेरे गाँव का किसान अब शहर में आ गया हैं

 

Kheton Ka Paani Ab Aankho Me Aa Gaya Hai
Mere Gaaon Ka Kissan Ab Shehar Me Aa Gaya Hai

 

 

Shayari On Farmers | किसान पर शायरी

 

घटाएँ उठती हैं बरसात होने लगती है
जब आँख भर के फ़लक को किसान देखता है – शकील आज़मी

 

Ghatayein Uthati Hai Barsaat Hone Lagti Hai
Jab Aankh Bhar Ke Falak Ko Kisaan Dekhta Hai – Shakeel Aazmi

 

कोई परेशान हैं सास-बहू के रिश्तो में,
किसान परेशान हैं कर्ज की किश्तों में

 

Koi Pareshan Hai Saas Bahu Ke Rishto Se
Kisaan Pareshan Hai Karz Ki Kishton Me

 

जब कोई किसान या जवान मरता है,
तो समझना पूरा हिन्दुस्तान मरता है

 

Jab Koi Kisaan Ya Jawaan Marta Hai
Toh Samajhana Poora Hindustan Marta Hai

 

Shayari On Farmers | किसान पर शायरी

 

बढ़ रही हैं कीमते अनाज की,
पर हो न सकी विदा बेटी किसान की

 

Badh Rahi Hai Kimatein Anaaj Ki
Par Ho N Saki Vida Beti Kissan Ki

 

मुफ़्त की कोई चीज बाजार में नहीं मिलती,
किसान के मरने की सुर्खियां अखबार में नहीं मिलती

 

Muft Ki Koi Cheez Bazaar Me Nahi Milti
Kisaan Ke Marne Ki Surkhiyaan Akhbaar Me Nahi Milti

 

Shayari On Farmers | किसान पर शायरी

 

छत टपकती हैं उसके कच्चे मकान की,
फिर भी “बारिश” हो जाये, तमन्ना हैं किसान की

 

Chat Tapakati Hai Uske Kachche Makaan Ki
Phir Bhi Barish Ho Jaaye , Tamanna Hai Kisaan Ki

 

ईंट उगती देख अपने खेत में
रो पड़ा है आज दिल किसान का – इरशाद ख़ान सिकंदर

 

Eint Ugati Dekh Apne Khet Me
Ro Pada Aaj Dil Kissan Ka – Irshad Khan Sikandar

 

Shayari On Farmers | किसान पर शायरी

 

ज़मीं के नाज़ उठाएगा कौन ऐ ‘शारिब’
किसान अब तो निराशा के बन में रहता है – सय्यद इक़बाल रिज़वी शारिब

 

Zameen Ke Naaz Uthayega Kaun Ae “Sharing”
Kisaan Ab Toh Nirasha Ke Ban Me Rehta Hai – Sayeed Iqbal Rizvi Sharib

 

न मिल सका कहीं ढूँडे से भी निशान मेरा
तमाम रात भटकता रहा किसान मेरा – नश्तर ख़ानक़ाही

 

N Mil Saka Kahin Dhoondhe Se Bhi Nishan Mera
Tamaam Raat Bhatakata Raha Kisaan Mera

 

कहाँ ले जाओगे किसान के हक का दाना,
इस दुनिया को एक दिन तुमको भी है छोड़ जाना।

 

Kahan Le Jaaoge Kisaan Ke Haq Ka Daana
Is Duniya Ko Ek Din Tumko Bhi Chhod Jaana

 


Read More –