Shaheed Shayari in Hindi | शहीद शायरी

Shaheed Shayari in Hindi | शहीद शायरी

 

जश्न आजादी का मुबारक हो देश वालो को
फंदे से मोहब्बत थी हम वतन के मतवालों को

 

Jashn Azaadi Ka Mubarak Ho Desh Waalon Ko

Fande Se Mohabbat Thi Hum Vatan Ke Matvaalon Ko

 


 

सो गये जो ओढ़ तिरंगा भारत माँ की गोद मे
होंगे ऐसे वीर पैदा फिर से माँ की कोख में

 

So Gaye Jo Oodh Tiranga Bharat Maa Ki Gond Me

Honge Aise Veer Paida Phir Se Maa Ki Konkh Me

 


 

फांसी का फंदा भी फूलो से कम न था
वो भी डूब सकते थे इश्क में किसी के
पर, वतन उनके लिए, माशूक के प्यार से कम न था

 

Faansi Ka Fanda Bhi Phoolon Se Kam N Tha

Wo Bhi Doob Sakte The Ishq Me Kisi Ke

Par Vatan Unke Liye, Mashook Ke Pyaar Se Kam N Tha

 


 

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है

 

Sarfaroshi Ki Tamanna Ab Hamare Dil Me Hai

Dekhna Hai Jor Kitna Baju-e-Qaatil Me Hai

 


 

लड़े वो वीर जवानों की तरह, ठंडा खून भी फ़ौलाद हुआ
मरते-मरते भी कई मार गिराए, तभी तो देश आजाद हुआ

 

Lade Wo Veer Jawano Ki Tarah, Thanda Khoon Bhi Faulaad Hua

Marte-Marte Bhi Kayi Maar Giraye, Tabhi Toh Desh Azaad Hua

 


 

गुम हुए कितने ही बे-नाम शहीद
जिन का तारीख़ में चर्चा नहीं है – नसीम नाज़िश

 

Gum Hue Kitne Hi Be-Naam Shaheed

Jin Ka Tareekh Charcha Me Nahi Hai – Naseem Naazish

 


 

अब तो मेरी कलम भी रो पड़ी है,
शहीदों की शहादत लिखते लिखते।

 

Ab Toh Kalam Bhi Ro Padi Hai

Shaheedon Ki Shahadat Likhte-Likhte

 


 

वतन वालो वतन ना बेच देना
ये धरती ये चमन ना बेच देना
शहीदों ने जान दी है वतन के वास्ते
शहीदों के कफन ना बेच देना

 

Vatan Vaalon Vatan Na Bech Dena

Ye Dharti Ye Chaman N Bech Dena

Shaheedon Ne Jaan Di Hai Vatan Ke Vaaste

Shaheedon Ke Kafan Na Bech Dena

 


 

देश के रखवाले है हम, शेर-ए-जिगर वाले है हम,
शहादत से हमें क्यों डर लगेगा, मौत के बांहों में पाले हुए है हम

 

Desh Ke Rakhwaale Hai Hum, Sher-e-Jigar Vaale Hai Hum

Shahadat Se Hamein Kyon Darr Lagega, Maut Ke Baahon Me Paale Hue Hai Hum

 


 

फिर उड़ गई नींद मेरी यह सोचकर
कि जो शहीदों का बहा वो खून मेरी नींद के लिए था

 

Phir Ud Gayi Nind Meri Yeh Sochkar

Ki Jo Shaheedon Ka Baha Wo Khoon Meri Nind Ke Liye Tha

 


 

Shaheed Shayari in Hindi | शहीद शायरी

 

न इंतिज़ार करो इनका ऐ अज़ा-दारो
शहीद जाते हैं जन्नत को घर नहीं आते -साबिर ज़फ़र

 

N Intezaar Karo Inka Ae Aza-Daaro

Shaheed Jaate Hai Jannat Ko Ghar Nahi Aate – Saabir Zafar

 


 

मिटा दिया है वजूद उनका , जो भी इनसे भिड़ा है,
देश की रक्षा का संकल्प लिए , जो जवान सरहद पर खड़ा है 

 

Mita Diya Hai Wajood Unka, Jo Bhi Inse Bhida Hai

Desh Ki Raksha Ka Sankalp Liye, Jo Jawaan Sarhad Par Khada Hai

 


 

तुम्हें देखकर दुश्मनों की आँखों में भय हो,
भारत के वीर जवान तुम्हारी जय ही जय हो

 

Tumhe Dekhkar Dushmanon Ki Aankho Me Bhay Ho

Bharat Ke Veer Jawaan Tumhari Jay Hi Jay Ho

 


 

क्या मोल लग रहा है शहीदों के ख़ून का
मरते थे जिन पे हम वो सज़ा-याब क्या हुए -साहिर लुधियानवी

 

Kya Mol Lag Raha Hai Shaheedon Ke Khoon Ka

Marte The Ji Pe Hum Wo Saza-Yaab Kya Hue – Saahir Ludhiyanavi

 


 

मेरे जज्बातों से इस कदर वाकिफ हैं मेरी कलम
मैं इश्क भी लिखना चाहूँ तो भी, इंकलाब लिख जाता हैं – भगत सिंह

 

Mere Zajbaaton Se Is Qadar Wakif Hai Meri Kalam

Mai Ishq Bhi Likhna Chahu Toh Bhi, Inqlaab Likh Jaata Hai – Bhagat Singh

 


 

शहीदों की चिताओं पर जुड़ेंगे हर बरस मेले
वतन पर मरनेवालों का यही बाक़ी निशाँ होगा – जगदंबा प्रसाद मिश्र ‘हितैषी’

 

Shaheedon Ki Chitaaon Par Judenge Har Baras Mele

Vatan Par Marneaalon Ka Yahi Baaki Nishaan Hoga – Jagdamba Prasaad Mishr “Hitaishi”

 


 

मज़हब को अलग रखना, तिरंगे को मेरा कफ़न कर देना,
मुझे मस्जिद में जला कर फिर, मंदिर में दफ़न कर देना 

 

Mazahab Ko Alag Rakhna, Tirange Ko Mera Kafan Kar Dena

Mujhe Majid Me Jala Kar Phir, Mandir Me Dafan Kar Dena

 


 

जब देश में थी दीवाली, वो खेल रहे थे होली
जब हम बैठे थे घरों में, वो झेल रहे थे गोली -कवि प्रदीप

 

Jab Desh Me Thi Deewali, Wo Khel Rahe The Holi

Jab Hum Baithe The Gharon Me, Wo Jhel Rahe The goli – Kavi prasaad

 


 

हम शहीदों को कभी मुर्दा नहीं कहते ‘अनीस’
रिज़्क़ जन्नत में मिले शान यहाँ पर बाक़ी -अनीस अंसारी

 

Hum Shaheedon Ko Kabhi Murda Nahi Kehte “Anees”

Rzk Jannat Me Mile Shaan Yahan Par Baaki – Anees Ansari

 


 

Shaheed Shayari in Hindi | शहीद शायरी

 

सैंकड़ों परिंदे आसमान पर आज नजर आने लगे
बलिदानियों ने दिखाई है राह उन्हें आजादी से उड़ने की

 

Saikadon Parinde Aasmaan Par Aaj Nazar Aane Lage

Balidaaniyon Ne Dikhaayi Hai Raah Azaadi Se Udne Ki

 


 

मेरे मुल्क के सीने में शमशीर हो गएँ
जो लड़े, जो मरे, वो शहीद हो गएँ
जो डरे, जो झुके वो वजीर हो गएँ

 

Mere Mulk Ke Seene Me Shamsheer Ho Gaye

Jo Lade, Jo Mare Wpo Shaheed Ho Gaye

Jo Dare, Jo Jhuke Wo Wajeer Ho Gaye

 


 

आओ झुक कर सलाम करे उनको,
जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है,
खुशनसीब होता है वो खून, जो देश के काम आता है,

 

Aao Jhuk Kar Karein Salaam Unko

Jinke Hisse Me Ye Mukaam Aata Hai

Khushnaseeb Hota Hai Wo Khoon, Jo Desh Ke Kaam Aata Hai

 


 

वतन की मोहब्बत में खुद को तपाये बैठे है
मरेगे वतन के लिए शर्त मौत से लगाये बैठे हैं

 

Vatan Ki Mohabbat Me Khud Ko Tapaye Baithe Hai

Marenge Vatan Ke Liye Shart Maut Se Lagaye Baithe Hai

 


 

 लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आयेगा
मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाऐगा
मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि
मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा

 

Likh Raha Hu Mai Anjaam Jiska Kal Agaaz Aayega

Mere Lahu Ka Har Ek Qatra Inkelaab Layega

Mai Rahu Ya Na Rahu Par Ye Vaada Hai Tumse Mera Ki

Mere Baad Vatan Par Marne Vaalon Ka Sailaab Aayega

 


 

चूमा था वीरों ने फांसी का फंदा
यूँ ही नहीं मिली थी आजादी खैरात में

 

Chooma Tha Veeron Ne Faansi Ka Fanda

Yun Hi Nahi Mili Thi Azaadi Khairaat Me

 


 

मौत जहाँ जन्नत हो ये बात मेरे वतन में हैं
कुर्बानी का जज्बा जिन्दा मेरे कफन में हैं

 

Maut Jahan Jannat Ho Ye Baat Mere Vatan Me Hai

Kurbaani Ka Zazba Zinda Mere Kafan Me Hai

 


 

खुशनसीब हैं वो जो वतन पे मिट जाते हैं
मर कर भी वो लोग अमर हो जाते हैं

 

Khushnaseeb Hai Wo Jo Vatan Pe Mit Jaate Hai

Mar Kar Bhi Wo Log Amar Ho Jaate Hai

 


 

मुझे तन चाहिए , ना धन चाहिए
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए

 

Mujhe Tan Chahiye N Dhan Chahiye

Bas Aman Se Bhara Yeh Vatan Chahiye

 


 

अपनी आज़ादी को हम, हरगिज़ भुला सकते नहीं
सर कटा सकते है, लकिन सर झुका सकते नहीं

 

Apni Azaadi Ko Hum, Hargiz Bhula Nahi Sakte

Sar Kata Sakte Hai, Lekin Sar Jhuka Nahi Sakte

 


 

मैं जला हुआ राख नहीं, अमर दीप हूँ
जो मिट गया वतन पर, मैं वो शहीद हूँ

 

Mai Jala Hua Raakh Nahi, Amar Deep Hu

Jo Mit Gaya Vatan Par, Mai Wo Shaeed Hu

 


Read More –