Sath Shayari In Hindi | साथ शायरी

Sath Shayari In Hindi | साथ शायरी

हम कितना भी आगे क्यों न निकल जाए लेकिन ज़िन्दगी में हर मोड़ पर किसी ऐसे व्यक्ति का आपके साथ होना बहुत ज़रूरी है जो आपको उत्साहित करे, प्रेरित करे और आपके सफलता पर खुश हो। आपके सुख – दुःख में साथ दे। लेकिन आज के वक्त में ऐसा देखने को बिल्कुल नही मिलता लोग अपने कामो में व्यस्त रहते है की दोस्त बनाने की ज़हमत नहीं करते है, [ Sath Shayari In Hindi | साथ शायरी ] अगर करते भी है तो उम्मीद रखते है, ऐसा नहीं की साथ सिर्फ दोस्तों का ही होता है, वो आपके परिवार में भी कोई हो सकता है आपका कोई रिश्तेदार हो सकता है। जो आपकी बातों को सुनता हो आप रूचि रखता है, निचे कुछ साथ पर शायरी लिखी गयी है। आप इसे पढ़ कर इसका आनंद उठाये। और कुछ नया अनुभव करें। 

 

इक उम्र साथ साथ मिरे ज़िंदगी रही
लेकिन किसी बख़ील की दौलत बनी रही – ख़ुर्शीद अहमद जामी

 

Ik Umr Sath-Sath Meri Zindagi Rahi
Lekin Kisi Bakheel Ki Daulat Bani Rahi – Khurseed Ahmad Jaami

 

एक दिन सबका साथ छूट जाता है,
हकीकत सामने आता है तो भ्रम टूट जाता है

 

Ek Din Sabka Sath Choot Jaata Hai
Haqiqat Samne Aata Hai Toh Bhram Toot Jaata Hai

 

उम्र का साथ निभाया है इस अंदाज़ के साथ
जैसे करता हो वफ़ा कोई दग़ाबाज़ के साथ – रवेन्द्र जैन

 

Umr Ka Sath Nibhaya Hai Is Andaaz Ke Sath
Jaise Karta Ho Koi Wafa Koi Dagabaaz Ke Sath – Ravendra Jain

 

अनदेखे बेनाम धागों में यूं बांध गया कोई,
की वो साथ भी नही और हम आजाद भी नही

 

Andekhe Be-Naam Me Yun Baandh Gaya Koi
Ki Wo Sath Bhi Nahi Aur Hum Azaad Bhi Nahi

 

ये आरज़ू थी कि हम उस के साथ साथ चलें
मगर वो शख़्स तो रस्ता बदलता जाता है – नोशी गिलानी

 

Ye Aarju Thi Ki Hum Us Ke Sath-Sath Chalein
Magar Wo Sakhs Toh Rasta Badalana Janata Hai – Noshi Gilani

 

उदासियों की वजह तो बहुत है ज़िन्दगी में,
पर खुश रहने का मज़ा आपके ही साथ है।

 

Udaasiyon Ki Wajah Toh Bahut Hai Zindagi me
Par Khush R ahne Ka Maza Aapke Hi Sath Hai

 

मंज़र के साथ साथ बदलने लगा हूँ मैं
रौशन हुए चराग़ तो जलने लगा हूँ मैं – अहमद इफ़्तिख़ार खटक

 

Manjar Ke Sath-Sath Badalne Laga Hu mai
Raushan Hue Charag Toh Jalne Laga Hu Mai – Ahmad Iftikhaar Khatak

 

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो,
न जाने किस गली में जिन्दगी की शाम हो जाए – बशीर बद्र

 

Ujaale Apni Yaadon Ke Hamare Sath Rahne Do
N Jaane Kis Gali Me Zindagi Ki Shaam Ho Jaaye – Bshir Badr

 

Sath Shayari In Hindi | साथ शायरी

 

राहत के साथ दुख है तो आँसू हँसी के साथ
गहरा है कितना ग़म का तअल्लुक़ ख़ुशी के साथ – जलाल आरिफ़

 

Rahat Ke Sath Dukh Hai Toh Aansu Hasi Ke Sath
Gahra Hai Kitna Gum Ka Talluk Khushi Ke Sath – Jalaal Aarif

 

तुझे हमसफ़र समझकर चल तो दिए थे लेकिन,
तेरे साथ कैसे गुज़री कह के भी क्या करें।

 

Tujhe Humsafar Samajhkar Chal Diye The Lekin
Tere Sath Kaise Gujari Keh Ke Bhi kya Karein

 

रिश्ता रहा अजीब मिरा ज़िंदगी के साथ
चलता हो जैसे कोई किसी अजनबी के साथ – सय्यद शकील दस्नवी

 

Rishta Raha Ajeeb Mera Zindagi Ke Sath
Chalta Ho Jaise Koi Kisi Ajanbi Ke Sath – Sayyed Shakeel Dashnavi

 

कितनी मोहब्बत है तुमसे कोई सफाई ना देंगे,
साये की तरह रहेंगे तेरे साथ पर दिखाई ना देगे।

 

Kitni Mohabbat Hai Tumse Koi Safai N Denge
Saaye Ki Tarah Rahenge Tere Sath Par Dikhaayi N Denge

 

wo kisi aur k sath khush hai shayari

 

तमाम उम्र मिरा साथ दे न पाओगे
अभी तो यार मगर थोड़ी दूर साथ चलो – हिदायतुल्लाह ख़ान शम्सी

 

Tamaam Umr Mera Sath De N Paaoge
Abhi Toh Yaar Magar Thodi Door Sath Chalo – Hidayatullah Khan Shamsi

 

यूँ दुश्मनी भी चलती है अब दोस्ती के साथ
जैसे अँधेरा रहता है हर रौशनी के साथ – इन्तिज़ार ग़ाज़ीपुरी

 

Yun Dushmani Bhi Chalti Hai Ab Dosti Ke Sath
Jaise Andhera Rehta Hai Har Roshani Ke Sath – Intezaar Ghazipuri

 

मैंने ताले से सीखा है, साथ निभाने का हुनर
वो टूट गया लेकिन कभी चाबी नही बदली

 

Maine Taale Se Seekha Hai, Sath Nibhane Ka Hunar
Wo Toot Gaya Lekin Kabhi Chabhi Nahi Badli

 

तुम्हारे साथ ये मौसम फ़रिश्तों जैसा है
तुम्हारे बा’द ये मौसम बहुत सताएगा – बशीर बद्र

 

Tumhare Sath Ye Mausam Farishton Jaisa Hai
Tumhare Baad Ye Mausam Bahut Satayega – Bashir Badr

 

खिलाफ कितने है ये मुद्दा नहीं,
बस साथ कितने है ये जरूरी है

 

Khilaaf Kitne Hai Ye Mudda Nahi
Bas Sath Kitne Hai ye Zaruri Hai

 

Sath Nibhana Shayari

 

बस इतना वास्ता है मिरा ज़िंदगी के साथ
जैसे कि अजनबी हो कोई अजनबी के साथ – सय्यद अख़्तर अली अख़्तर

 

Bas Itna Vaasta Hai Mera Zindagi Ke Sath
Jaise Ki Ajanabi Ho Koi Ajanabi Ke Sath – Sayyed Akhtar Ali Akhtar

 

हम अक्सर साथ-साथ टहलते है,
तुम मेरे जेहन में और मैं छत पर।

 

Ham Aksar Sath-Sath Tahalte Hai
Tum Mere Zehan Me Aur Mai Chat Par

 

शामिल हो गर न ग़म की ख़लिश ज़िंदगी के साथ
रक्खे न कोई रब्त-ए-मोहब्बत किसी के साथ – अनवर साबरी

 

Shamil Ho N Gar Ki Khalish Zindagi Ke Sath
Rakkhe N Koi Rabt-e-Mohabbat Kisi Ke Sath – Anwar Sabari

 

हुए भी इश्क़ में रुस्वा तो एहतिराम के साथ
तुम्हारा नाम भी आया हमारे नाम के साथ – सईद शहीदी

 

Hue Bhi Ishq Me Ruswa Toh Kis Ehtiraam Ke Sath
Tumhara Naam Bhi Aaya Hamare Naam Ke Sath – Saeed Shahidi

 

Tera Sath Shayari

 

नहीं पसन्द मोहब्बत में मिलावट हमे
अगर वो मेरे साथ है तो ख्वाब भी सिर्फ मेरे देखे

 

Nahi Pasand Mohabbat Me Milawat Hamein
Agar Wo Mere Sath Hai Toh Khwaab Bhi Sirf Mere Dekhe

 

उदासियों का यह मौसम बदल भी सकता था,
वो चाहता तो मेरे साथ चल भी सकता था – मोहसिन नक़वी

 

Udaasiyon Ka Yeh Mausam Badal Bhi Sakta Tha
Wo Chahata Toh Mere Sath Chal Bhi Sakta Tha – Mohsin Naqvi

 

वो दिन जो गुजरे तेरे साथ,
काश जिन्दगी उतनी ही होती

 

Wo Din Jo Gujare Tere Sath
Kash Zindagi Utani Hi Hoti

 

मैं जिस के साथ कई दिन गुज़ार आया हूँ
वो मेरे साथ बसर रात क्यूँ नहीं करता – तहज़ीब हफ़ी

 

Mai Jis Ke Sath Kai Din Guzaar Aaya Hu
Wo Mere Sath Basar Kyu Nahi Karta – Tehzeeb Hafi

 

दिल लगाओ तो जुदा होने की हिम्मत भी रखना,
क्युकी जिंदगी में तकदीर के साथ सौदे नही होते

 

Dil Lagao Toh Juda Hone Ki Himmat Bhi Rakhna
Kyuki Zindagi Me Takdeer Ke Shaude Sath Nahi Hote

 

अपने वो नही जो हर तस्वीर में साथ हो,
अपने वो होते है जो हर तकलीफ में साथ हो।

 

Apne Wo Nahi Jo Har Tasveer Me Sath Ho
Apne Wo Hote Hai Jo Har Takleef Me Sath Ho

 

Final Words –  दोस्तों उम्मीद है आपको साथ पर लिखी गयी सभी शायरी अवश्य  पसंद आयी होगी। अगर आपको अच्छा लगा हो तो  इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों में ज़रूर शेयर करे ताकि वो भी इस नयी शायरी का मज़ा उठा सकें ताकि उन्हें पता चल सके उनके साथ कोई है जो उन्हें समझता है और उनका सम्मान करता है, दोस्तों सोशल मीडिया पर बहुत सारे प्लेटफार्म है जैसे की फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर इसे वह भी साझा करे ताकि सभी लोग इसको पढ़ सकें। [Sath Shayari In Hindi | साथ शायरी]


Read More –