Sanam Shayari In Hindi | सनम शायरी

Sanam Shayari In Hindi | सनम शायरी

 

सनम-सनम न पुकारे, ख़ुदा-ख़ुदा न करे
वो चोट खाई है दिल ने कि अब दुआ न करे – मौलवी सय्यद मुमताज़ अली

 

Sanam-Sanam N Pukaare, Khuda-Khuda N Kare

Wo Chot Khaayi Hai Dil Ne Ki Ab Dua N Kare – Maulavi Sayyed Mumtaaz Ali

 

सनम के ख़यालों में यूँ खो गया हूँ
कि मैं एक पत्थर का बुत हो गया हूँ – सरदार पंछी

 

Sanam Ke Khayalon Me Yun Kho Gaya Hu

Ki Mai Ek Patthar Ka But Ho Gaya Hu – Sardaar Panchi

 

देख कर रू-ए-सनम को न बहल जाऊँगा
मरते दम ले के सँभाला तो सँभल जाऊँगा – शाद लखनवी

 

Dekh Kar Ru-e-Sanam Ko N Bahal Paunga

Marte Dam Le Ke Sambhala Toh Sambhal Jaunga – Shaad Lakhnavi

 

सनम की खातिर हार जानी पड़ती है जान भी,
कह देने भर से किस्से कभी मोहब्बत नहीं होते

 

Sanam Ki Khaatir Haar Jaani Padti Hai Jaan Bhi

Keh Dene Bhar Se Kisse Kabhi Mohabbat Nahi Hote

 

मर गए हम पर न आए तुम ख़बर को ऐ सनम
हौसला अब दिल का दिल ही में मिरी जाँ रह गया – भारतेंदु हरिश्चंद्र

 

Mar Gaye Hum Par N Aaaye Tum Khabar Ko Ae Sanam

Hausala Ab Dil Ka Dil Hi Me Meri Jaan Reh Gaya – Bhartendu Harishchandra

 

बेवफ़ा गर सनम नहीं होता
तर्क-ए-उल्फ़त का ग़म नहीं होता – रेहाना नवाब

 

Bewafa Gar Sanam Naho  Hota

Tark-e-Ulfat Ka Gam Nahi Hota – Rehaana Nawaab

 

ऐ सनम जिस ने तुझे चाँद सी सूरत दी है
उसी अल्लाह ने मुझ को भी मोहब्बत दी है – हैदर अली आतिश

 

Ae Sanam Jisne Tujhe Chand Si Soorat Di Hai

Usi Allah Ne Mujh Ko Bhi Mohabbat Di Hai – Haidar Ali Aatish

 

इश्क के तोहफे तुम क्या जानो सनम,
तुमने तो इश्क भी ऐसे किया जैसे ख़रीदा हो

 

Ishq Ke Tohfe Tum Kya Jaano Sanam

Tumne Toh Ishq Bhi Aise Kiya Jaise Kharida Ho

 

तेरे रुख़ को जब ऐ सनम देखते हैं
ख़ुदा को ख़ुदा की क़सम देखते हैं – असग़र निज़ामी

 

Tere Rukh Ko Jab Ae Sanam Dekhte Hai

Khuda Ko Khuda Ki Qasam Dekhte Hai – Asgar Nizaami

 

जिधर तुझ को जाते सनम देखते हैं
उधर पहरों हसरत से हम देखते हैं – रिफ़अत ज़मानी बेगम इस्मत

 

Jidhar Tujhko Jaate Sanam Dekhte Hai

Udhar Pahron Hasrat Se Hum Dekhte Hai – Rifat Zamani Begum Ismat

 

ये जिन्दगी तो तेरी यादों की अमानत है सनम
हम तो सिर्फ सांसो की रस्म अदा कर रहे है

 

Ye zindagi Toh Teri Yaadon Ki Amanat Hai Sanam

Hum Toh Sirf Sanso Ki Rasm Ada Kar Rahe Hai

 

उलझा ही रहने दो ज़ुल्फ़ों को सनम
जो न खुल जाएँ भरम अच्छे हैं – दत्तात्रिया कैफ़ी

 

Uljha Hi Rahne Do Zulfon Ko Sanam

Jo N Khul Jaaye Bharam Achche Hai – Dattatriya Kaifi

 

दो ही दिन में ये सनम होश-रुबा होते हैं
कल के तर्शे हुए बुत आज ख़ुदा होते हैं – लाला माधव राम जौहर

 

Do Hi Din Me Ye Sanam Hosh-Ruba Hote Hai

Kal Ke Tarshe Hue But Aaj Khuda Hote Hai – Lala Madhav Ram Jauhar

 

तुम भी आओगे मेंरे घर जो सनम क्या होगा
मुझ पर इक रात करोगे जो करम क्या होगा – मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

 

Tum Bhi Aaoge Mere Ghar Jo Sanam Kya Hoga

Mujh Ko Ik Raat Karoge Jo Karam Kya Hoga – Mushafi Gulaam Hamdaani

 


Read More –