Safar Me Dhoop Toh Hogi – Nida Fazli

Safar Me Dhoop Toh Hogi – Nida Fazli

सफ़र में धूप तो होगी

सफ़र में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
सभी हैं भीड़ में तुम भी निकल सको तो चलो

 

इधर उधर कई मंज़िल हैं चल सको तो चलो
बने बनाये हैं साँचे जो ढल सको तो चलो

 

किसी के वास्ते राहें कहाँ बदलती हैं
तुम अपने आप को ख़ुद ही बदल सको तो चलो

 

यहाँ किसी को कोई रास्ता नहीं देता
मुझे गिराके अगर तुम सम्भल सको तो चलो

 

यही है ज़िन्दगी कुछ ख़्वाब चन्द उम्मीदें
इन्हीं खिलौनों से तुम भी बहल सको तो चलो

 

हर इक सफ़र को है महफ़ूस रास्तों की तलाश
हिफ़ाज़तों की रिवायत बदल सको तो चलो

 

कहीं नहीं कोई सूरज, धुआँ धुआँ है फ़िज़ा
ख़ुद अपने आप से बाहर निकल सको तो चलो

 

Safar Me Dhoop Toh Hogi

 

 

Safar Me Dhoop Toh Hogi Jo Chal Sako Toh Chalo

Sabhi Hai Bheed Me Tum Bhi Nikal Sako Toh  Chalo

 

Idhar Udhar Kai Manzil Hai Chal Sako Toh Chalo

Bane Banyae Hai Sanche Jo Dhal Sako Toh Chalo

 

Kisi Ke Vaaste Rahein Kaha Badlati Hai

Tum Apne Aap Ko Khud Hi Badal Sako Toh Chalo

 

Yahan Kisi Ko Koi Rasta Nahi Deta

Mujhe Gira Ke Agar Tum Sambhal Sako Toh Chalo

 

Yahi Hai Zindagi Kuch Khwab Chand Umeede

Inhi Khilauno Se Tum Bhi Bahal Sako Toh Chalo

 

Har Ik Safar Ko Hai Mehfoos Rasto Ki Talash

Hifazton Ki Riwayat Badal Sako Toh Chalo

 

Kahin Nahi Koi Sooraj Dhua-Dhua Hai Fiza

Khud Apne Aap Se Bahar Nikal Sako Toh Chalo

 


Read More –