Raahgeer Ban Ke Guzre- Nihal Srivastava

Raahgeer Ban Ke Guzre- Nihal Srivastava

राहगीर बन के गुज़रे

 

राहगीर बन के गुज़रे और गली के फ़कीर हो गए
आशिक़ी में ग़ालिब और  ग़ालिब से मीर हो गए

 

उस कजरारी आँखों में कुछ साहिर  के इशारे थे
जिनसे भी मिलाया सब पत्थर के लकीर हो गए

 

बैठे-बैठे उसके  दिल पर कौन  सा तीर चलाऊँ
वो वादियों में थी और वादियो में कश्मीर हो गए

 

मैं उसके पीछे उम्र भर इश्क़ में गरीब होता रहा
और मेरे  सारे दोस्त  शादियों  से अमीर हो गए

 

मैं तो फरीदपुर का मजनूँ भी न बन सका कभी
और लोगो की नज़रों में इश्क़ के वजीर हो गए

 

ग़ालिब सा निकम्मा निकम्मे से “नील” कब हुए
जो चल न पाया कभी तरकश से वो तीर हो गए

 

लफ्ज़ पर पैर रख आज मेरे होठो से गुजर गयी
शायद पहली बार हम शायरी में बेनजीर हो गए

 

बंद आँखों से मैं उसे क्या-क्या कहूं आज “नील”
लब कुछ कह न सके तो कलम शमशीर हो गए

 

Raahgeer Ban Ke Guzre

 

Raahgeer Ban Ke Guzre Aur Gali Ke Fakeer Ho Gaye
Aashqui Me “Ghalib” Aur “Ghalib” Se Meer Ho Gaye

 

Us Kajraari Ankho Me Kuch Saahir Ke Ishaare The
Jinse Bhi Milaaya Sab Patthar Ke Lakeer Ho Gaye

 

Baithe-Baithe Uske Dil Par Kaun Sa Teer Chalaun
Wo Wadiyon Me Thi Wadiyon Me Kashmir Ho
Gaye

 

Mai Uske Piche Umr Bhar Ishq Me Gareeb Hota Raha
Aur Mere Saare Dost Shadiyon Se Ameer Ho Gaye

 

Mai Toh Faridpur Ka Majnu Bhi Na Ban Saka Kabhi
Aur Logon Ki Nazron Me Ishq Ke Wajeer Ho gaye

 

Ghalib Sa Nikamma Nikamme Se “Neel” Kab Hue
Jo Chal N Paaya Kabhi Tarrkash Se Wo Teer Ho Gaye

 

Lafz Par Pair Rakh Aaj Mere Hothon Se Guzar Gayi
Shayad Pehli Baar Hum Shayari Me Benajeer Ho Gaye

 

Band Ankhon Se Mai Use Kya-Kya Kahun Aaj  “neel”
Lab Kuch Na Keh Sake Toh Kalam Shamsheer Ho Gaye

 


Read More –