Pen Shayari In Hindi | कलम पर शायरी

Pen Shayari In Hindi | कलम पर शायरी

Pen Shayari In Hindi | कलम पर शायरी

 

बैठे बैठे यूँ ही क़लम ले कर
मैंने काग़ज़ के एक कोने पर – निदा फ़ाज़ली

 

Baithe – Baithe Yun Hi Kalam Lekar
Maine Kagaz Ke Ek Kone Par – Nida Fazli

 

तरफ़-दारी बहुत करता है तेरी
क़लम तेरा दीवाना हो गया है – आक़िब जावेद

 

Tarafdari Bahut Karta Hai Teri
Kalam Tera Deewana Ho Gaya Hai – Aaquib Javed

 

Pen Shayari In Hindi | कलम पर शायरी

 

तुझ पे मरते हैं ज़िंदगी अब भी
झूट लिक्खें तो ये क़लम टूटे – सूर्यभानु गुप्त

 

Tujhpe Marte Hai Zindagi Ab Bhi
Jhooth Likhe Toh Ye Kalam Toote – Surybhanu Gupt

 

क़लम को इस लिए तलवार करना
कि बढ़ के ज़ुल्म पर है वार करना – सबीहा सबा

 

Kalam Ko Isliye Talwaar Karna
Ki Badh Ke Zulm Par Hai Vaar Karna – Sabeeha Saba

 

Pen Shayari In Hindi | कलम पर शायरी

 

हर इक के दुख पे जो अहल-ए-क़लम तड़पता था
ख़ुद उस का अपना हर इक दर्द उस पे हँसता था – तिफ़्ल दारा

 

Har Ik Ke Dukh Pe Jo Ahal-e-Kalam Tadapta Hai
Khud Uska Haq Apna Har Ik Dard Us Pe Hasata Tha – Tifl Saara

 

क़लम भी रौशनाई दे रहा है
मुझे अपनी कमाई दे रहा है – मुस्तफ़ा शहाब

Kalam Bhi Roshanayi De Raha Hai
Mujhe Apni Kamayi De Raha Hai – Mustafa Shahaab

 

Pen Shayari In Hindi | कलम पर शायरी

 

बच्चों की फ़ीस उन की किताबें क़लम दवात
मेरी ग़रीब आँखों में स्कूल चुभ गया – मुनव्वर राना

 

Baccho Ki Fees Un Ki Kitaabein Kalam Dawaat
Meri Gareeb Aankho Me School Chubh Gaya – Munavvar Rana

 

अश्कों में क़लम डुबो रहा है
फ़नकार जवान हो रहा है – सैफ़ ज़ुल्फ़ी

 

Ashqo Me Kamal Dubo Raha Hai
Fankaar Jawaan Ho Raha Hai – Saif Zulfi

 

Pen Shayari In Hindi | कलम पर शायरी

 

क़लम में ज़ोर जितना है जुदाई की बदौलत है
मिलन के बाद लिखने वाले लिखना छोड़ देते हैं – शुजा ख़ावर

 

Kalam Me Jor Jitna Hai Judaai Ki Badaulat Hai
Milan Ke Baad Likhne Waale Likhna Chhod Dete Hai – Shuja Khavar

 

कागज़ कलम और किताब
कहाँ-कहाँ नही रखता तेरी यादों का हिसाब

Kagaz, Kalam Aur Kitaab
Kahan-Kahan Nahi Rakhta Teri Yaadon Ka Hissab

 


Read More –