Nushrat Fateh Ali Khan Shayari Collection | नुसरत फ़तेह अली ख़ान

Nushrat Fateh Ali Khan Shayari Collection | नुसरत फ़तेह अली ख़ान

Nushrat Fateh Ali Khan Shayari Collection | नुसरत फ़तेह अली ख़ान

 

Nushrat Fateh Ali Khan Shayari Collection | नुसरत फ़तेह अली ख़ान

 

ज़ख़्म पे ज़ख़्म खा के जी अपने लहू के घूँट पी
आह न कर लबों को सी इश्क़ है दिल-लगी नहीं – एहसान दानिश

 

Zakhm Pe Zakhm Kha Ke Ji Apne Lahu Ke Ghunt Pi

Aah N Kar Labon Ko Si Ishq Hai Dil-Lagi Nahi – Ehsaan Danish

 

ये इश्क़ नहीं आसाँ इतना ही समझ लीजे
इक आग का दरिया है और डूब के जाना है – जिगर मुरादाबादी

 

Ye Ishq Nahi Aasaan Bas Itna Samajh Lije

Ik Aag Ka Draiya Hai Aur Doob Ke Jana Hai – Jigar Murabadadi

 

Nushrat Fateh Ali Khan Shayari Collection | नुसरत फ़तेह अली ख़ान

 

अब तो हाथों से लकीरें भी मिटी जाती हैं
उस को खो कर तो मिरे पास रहा कुछ भी नहीं – अख्तर शुमार

 

Ab Toh Hathon Se Lakirein Bhi Miti Jaati Hai

Us Ko Khokar Toh Mere Pass Kuch Bhi Nahi – Akhtar Shumaar

 

Nushrat Fateh Ali Khan Shayari Collection | नुसरत फ़तेह अली ख़ान

 

आप का ए’तिबार कौन करे
रोज़ का इंतिज़ार कौन करे – दाग़ देहलवी

 

Aap Ka Intezaar Kaun Kare 

Roz Ka Intezaar Kaun Kare – Dagh Dehalavi

 

हम बुतों से जो प्यार करते हैं, नकले परवरदिगार करते हैं
इतनी कसमें न खाओ ख़बरा कर, जाओ हम एतबार करते हैं

 

Hum Buton Se Jo Pyaar Karte Hai, Naklen Parwar-Digaar Karte Hai

Itni Kasmein N Khaao Ghabra Kar, Jaao Hum Aitbaar Karte Hai

 

उदासियां जो न लाते तो और क्या करते
न जश्न-ए-शोला मनाते तो और क्या करते

 

Udaasiyaan Jo N Laate Toh Aur Kya Karte

N Jashn-e-Shola Manate Toh Aur Kya Karte

 

Nushrat Fateh Ali Khan Shayari Collection | नुसरत फ़तेह अली ख़ान

 

अंधेरा माँगने आया था रौशनी की भीक
हम अपना घर न जलाते तो और क्या करते – नज़ीर बनारसी

 

Andhera Mangne Aaya Tha Roshani Ki Bheekh

Hum Apna Ghar N Jalate Toh Aur Kya Karte – Nazeer Banarasi

 

हमारी फ़त्ह के अंदाज़ दुनिया से निराले हैं
कि परचम की जगह नेज़े पे अपना सर निकलता है – फ़सीह अकमल

 

Hmarai Fatah Ke Andaaz Duniya Se Niraale Hai

Ki Parcham Ki Jagah Neje Pe Apna Sar Nikalata Hai – Fajeeh Ahmad

 

Nushrat Fateh Ali Khan Shayari Collection | नुसरत फ़तेह अली ख़ान

 

भूल जाने का मुझे मशवरा देने वाले
याद ख़ुद को भी न मैं आऊँ कुछ ऐसा कर दे -नुसरत ग्वालियारी

 

Bhool Jaane KaMujhe  Mashvara Dene Vaale

Yaad Khud Ko Bhi N Mai Aaun Kuch Aisa Kar De – Mushrat Gwaliyari

 

Nushrat Fateh Ali Khan Shayari Collection | नुसरत फ़तेह अली ख़ान

 

इसी उम्मीद पर तो जी रहे हैं हिज्र के मारे
कभी तो रुख़ से उट्ठेगी नक़ाब आहिस्ता आहिस्ता -हाशिम अली ख़ाँ दिलाज़ाक

 

Isi Umeed Par Toh Jee Rahe Hai Hizr Ke Maare

Kabhi Toh Rukh Se Utthegi Naqaab Aahista-Aashista – Hashim Ali Kha Dilajaak

 

Nushrat Fateh Ali Khan Shayari Collection | नुसरत फ़तेह अली ख़ान

 

मैं अजनबी हूँ मगर तुम कभी जो सोचोगे

कोई क़रीब का रिश्ता ज़रूर निकलेगा -नुसरत ग्वालियारी

 

Mai Ajanabi Hu Magar Tum Kabhi Jo Sochoge

Koi Kareeb Ka Rishta Zaroor Niklega – Nushrat Gwaliyaari

 


Read More –