Naukari Shayari In Hindi | नौकरी पर शायरी

Naukari Shayari In Hindi | नौकरी पर शायरी

 

हर एक को नौकरी नहीं मिलने की
हर बाग़ में ये कली नहीं खिलने की – अकबर इलाहाबादी

 

Har Ek Ko Naukari Nahi Milne Ki

Har Baag Me Ye Kali Nahi Khilne Ki – Akbar Illahabadi

 

जब कहीं नौकरी नहीं मिलती
डिग्रियाँ ले के क्या करे कोई – कैफ़ अहमद सिद्दीकी

 

Jab Kahin Naukari Nahi Milti

Deegreya Le Ke Kya Kare Koi – Kaif Ahmad Siddiqui

 

‘जौन’ दुनिया की चाकरी कर के
तू ने दिल की वो नौकरी क्या की जौन एलिया

 

“Jaun’ Duniya Kio Chakari Kar
Tune Dil Ki Wo Naukari Kya Ki – Jaun Elia

 

अभी तो इश्क़ को सोचा था उस ने
अभी ही नौकरी की याद आई प्रियंवदा सिंह

 

Abhi Toh Ishq Ne Socha Tha Us Ko

Abhi Hi Naukari Ki Yaad Aayi Priyvanda Singh

 

Status On Jobs

इश्क़ है नौकरी नहीं है मियाँ
एक छूटी तो दूसरी ढूँडी ऐन नक़्वी

 

Ishq Hai Naukari Nahi Miyaa

Ek Chooti Toh Doosari Dhoondhi – Ain Naqvi

 

हिज्र का एक पल भी सह न सका
उस के ऑफ़िस में नौकरी कर ली क़मर साक़ी

 

Hijr Ka Ek Pal Bhi Sah N Saka

Uske Office Me Naukari Kar Li – Qamar Saaki

 

तो फूल वाले के सर पे फूलों की टोकरी है
किसी की आँखों में नौकरी है इमरान शमशाद

 

Toh Fool Waale Ke Sar Pe Foolon Ki Tokari Hai

Kisi Ki Aankho Me NaukariHai – Imran Shamshaad

 

नौकरी के लिए फिरते हैं हज़ारों दर दर
हाथ में कोई हुनर हो तो मज़ा आ जाए शाइस्ता महजबीं

 

Naukari Ke Liye Firate Hai Hazaron Dar-Dar

Hath Me Koi Hunar Ho Toh Maza Aa Jaaye – Shaisha Majhabi

 


Read More –