Murshad Shayari in Hindi | मुर्शिद शायरी

Murshad Shayari in Hindi | मुर्शिद शायरी

 

आज मैं आप के लिए मुरशद शायरी लेकर आया हु जो की यह एक अरबी शब्द है। इसका अर्थ सीधा रास्ता, दृढ़ या पक्का इरादा, मुर्शिद (रहनुमा) होता है। अधिकतर शायरी में इसका नाम सुनने को कम ही मिलता है। लेकिन आज के वक्त की बात की जाए तो  इसका खूब नाम बढ़ गया है। हर शायरी में मुरशद नाम ज़रूर सुना होगा, इंस्टाग्राम, टिक टोक जैसी अप्प ने खूब इस शब्द को प्रसिद्द किया था। हर नौजवान मुरशद शायरी बोलना और पढ़ना खूब पसंद करता है। नीचे मैंने कुछ शायरी  लिखी हुई है। आप इनको पढ़ कर लोगो को सुना सकते है और बड़ी आसानी से समझ भी सकते है। कुछ शायरी छायाचित्र के भी माध्यम से भी प्रस्तुत की गयी है। 

 

ज़िंदगी समझा था मैंने जिसे मुर्शिद

वो इश्क़ मेरा क़तिल निकला

 

Zindgi Samjha Tha Maine Jise Murshid

Wo Ishq Mera Qatil Nikla

 

Tumne Sirf Aankhon ko Dekha Hai…Mursad,
Tumne Aakhon mein kaha dekha hai!

 

दिल में एक दर्द था मुर्शिद

और वो दर्द हमदर्द ने दिया था

 

Dil Mein Ek Dard Tha Murshid

Aur Wo Dard Humdard Ne Diya Tha

 

Ki ye ishq ek juwa hai batao kheloge? Murshad!
Samajh loh dawo pe sabkuch lagana padhta hai

 

maine use bola, mera kya baneka tere chhod jane ke baad
Murshad, wo haaskar bole, lawaris aaksar marjaya karte hai

 

Ki kaas koi aaisa ho, jo gale lagakaar kahe

Murshad….Roya naa kar, tere rone se mujhko bhi dard hota hai

 

Murshad Shayari In English

 

यूंही नहीं दिल मेरा धड़का था

मुर्शिद , देख के मुझे शरमाई वो भी थी

 

Yoonhi Nahi Dil Dhadka Tha
murshid, Dekh Ke Humein Sharmayi Wo Bhi Thi

 

Ham jaise bekar log,,Ham jaise bekar log
Mursad! Ruth bi jaye, koi manana nahi aata

 

ki kya kaha, usne mujhe chhod diya hai?
Murshad, alfaaj durust karo saheb,
Usne mujhe kahi ka nahi chhoda..

 

उसे लिखा गया किसी और के नसीब में मुर्शद

वो शख़्स जिसे दुआओं में मैंने माँगा था

 

Use Likha Gaya Kisi Aur Ke Naseeb Mein Murshad

Wo Shaqs Jise Duaon Mein Maine Manga Tha

 

उन्हें हँसते हुए देखा मुर्शद

हम रोक ना पाए खुद को हमारी भी हंसी निकल पड़ी

 

Unhe Hanste Huye Dekha Murshad

Hum Rok Na Paaye Khud Ko Hamari Bhi Hansi Nikal Padi

 

ki Murshad,, haalat ne mere chehere ki chamak chhin li
mursad,,,warna yu do char baras mein, budape toh nahi aate

 

Murshad Shayari Sad

 

वो जब उनका हाथ छूटा था

यूं लगा कुछ टुटा था मुर्शद

 

Wo Jab Unka Haath Chuta Tha

Yoon Laga Kuch Tuta Tha Murshad

 

वो जो कभी हमसे मोहब्बत करते थे मुर्शद

वो हम पर हँसते है अब

 

Wo Jo Kabhi Humse Mohabbat Karte The Murshad

Wo Hum Par Hanste Hai Ab

 

Ki aaj aajib tufaan aaya hai
Mursad,
lagta hai kisi bewafa ne, aashiq kaa dil jalaya hai…

 

Kaamal ka tana diya aaj dil ne
Murshad,
keheta hai, agar tera koi hai toh kaha hai?

 

Ki Murshad, chahaa nahi kisi ko
use chahane ki baad
chahaa nahi kisi ko, use chahane ki baad
Ki Murshad, hame aapni nigah ka mayar yaad hai

 

हमें भी हुई थी मुर्शद

हम भी तड़पे थे इक शख़्स के लिए

 

Hume Bhi Huyi Thi Mohabbat Murshad

Hum Bhi Tadpe The Ikk Shaqs Ke Liye

 

जिसकी ख्वाहिश होती है हमें मुर्शद

वो शख़्स हमें मिलता क्यूँ नहीं

 

Jiski Khawahish Hoti Hai Hume Murshad

Wo Shaqs Hume Milta Kyun Nahi

 

Murshad Shayari Two Line

 

वो तो अब पास भी नहीं आते मुर्शद

ना जाने पास किसके अब जाने लगे है

 

Wo Ab Toh Pass Bhi Nahi Aate Murshad

Na Jaane Paas Kiske Ab Jaane Lage Hai

 

ye bakt hi nahi raha kisi se wafa karne kaa
Murshad,
haad se jyada chaho toh log matlabi samjhte hai

 

बात दिल पर आ बनी थी मुर्शद

और वो दिल तोड़ना चाहते थे

 

Baat Dil Par Aa Bani Thi Murshad

Aur Wo Dil Todna Chahte The

 

हम समझाते तो समझाते कैसे मुर्शद

वो कुछ सुनना ही नहीं चाहते थे

 

Hum Samjhate Toh Samjhate Kaise Murshad

Wo Kuch Sunna Hi Nahi Chahte TheUski tasbir ko banakar phir

 

Uski tasbir ko banakar phir
Murshad, chikhe maar kar ham usse manate hai…

 

वो जो दिल के करीब होते है मुर्शद

वो क्यों नहीं हमारा नसीब होते है

 

Jo Dil Ke Kareeb Hote Hai Murshad

Wo Kyun Nahi Hamara Naseeb Hote Hai

 

कभी रूबरू तक नहीं हुए थे उनसे मुर्शद

तो बात दिल की कैसे बताते उन्हें

 

Kabhi Rubaru Tak Nahi Huye The Unse Murshad

Toh Baat Dil Ki Kaise Batate Unhe

 

Murshad… Wo keheta tha
tum jaan ho, saath ho, paas ho Murshad… Wo keheta tha

 

हमें कोई तरकीब बताए आप मुस्कराने की मुर्शद

उनके जाने से हम हंसना भूल गए है

 

Hume Koi Tarkeeb Bataye Aap Muskurane Ki Murshad

Unke Jaane Se Hum Hansna Bhul Gaye Hai

 

Murshad Shayari in Hindi | मुर्शिद शायरी

 

जब चोट लगती है दिल पे मुर्शद

अकल तब ठिकाने आती है

 

Jab Chot Lagti Hai Dil Pe Murshad
Akal Tab Thikane Aati Hai

 

maine use bola, mera kya baneka tere chhod jane ke baad?
Murshad!! wo haaskar bole, lawaris aaksar marjaya karte hai

 

उन्हें ग़ुमान था उन्हें हमारे जैसे कई मिलेंगे मुर्शद

हमने भी कह दिया जाओ ढूंढ लो हम तुम्हें अब नहीं मिलेंगे

 

Unhe Gumaan Tha Unne Hamare Jaise Kayi Milenge Murshad

Humne Bhi Keh Diya Jao Dundh Lo Hum Tumhe Ab Nahi Milenge

 

Murshad Shayari in Hindi | मुर्शिद शायरी

 

आवाज़ नहीं होती दिल टूट फिर भी जाता है मुर्शद

ख्यालों में खोया आशिक़ चलते चलते गिर भी जाता है मुर्शद

 

Aawaz Nahi Hoti Dil Tut Fir Bhi Jata Hai Murshad

Khayalon Mein Khoya Aashiq Chalte Chalte Gir Bhi Jata Hai Murshad

 

Humne SOCHA Tha Bataenge Sabhi Dard Tumko
Mursad,
tum Ne toh Inta Bhi naa Poocha khamosh Kyun Khade ho

 

Jindagi sikha hi rahi hai
aayista aayista
Murshad…loog nind ki goliya kyun lete hai

 

मेरे नसीब में मोहब्बत नहीं लिखी गई मुर्शद

मेरे नसीब में सिर्फ गम लिखा गया

 

Mere Naseeb Mein Mohabbat Nahi Likhi Gayi Murshad

Mere Naseeb Mein Sirf Gum Likha Gaya

 

वो छोड़ी नहीं गई हमसे मुर्शद

हमें उनकी आदत जो लगी थी

 

wo Chodi Nahi Gayi Humse Murshad

Hume Unki Jo Aadat Lagi Thi

 

aabhi toh badle hai, Mursad,
Badle aabhi baaki hai

 

Final Words –  दोस्तों मुझे उम्मीद है की आपको मुरशद शायरी ज़रूर पसंद आयी होगी अगर आपको अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को ज़रूर शेयर करें और सोशल मीडिया पर भी शानदार वीडियो बना कर इसे बोल सकते है, देश विदेश  जहाँ भी हिंदी समझी जाती है वहां के लोग इसे ज़रूर पसंद करेंगे।  


Read More –