Mujhe Ab Dar Nahi Lagta | मुझे अब डर नहीं लगता – Mohsin Naqvi

Mujhe Ab Dar Nahi Lagta – Mohsin Naqvi

मुझे अब डर नहीं लगता

 

किसी के दूर जाने से
ताल्लुक टूट जाने से
किसी के मान जाने से
किसी के रूठ जाने से
मुझे अब डर नहीं लगता

 

किसी को आज़माने से
किसी के आज़माने से
किसी को याद रखने से
किसी को भूल जाने से
मुझे अब डर नहीं लगता

 

किसी को छोड़ देने से
किसी के छोड़ जाने से
ना शम्मा को जलाने से
ना शम्मा को बुझाने से
मुझे अब डर नहीं लगता

 

अकेले मुस्कुराने से
कभी आँसू बहाने से
ना इस सारे ज़माने से
हक़ीक़त से फ़साने से
मुझे अब डर नहीं लगता

 

किसी की ना-रसाई से
किसी की पारसाई से
किसी की बेवफ़ाई से
किसी दुख इंतिहाई से
मुझे अब डर नहीं लगता

 

ना तो इस पार रहने से
ना तो उस पार रहने से
ना अपनी ज़िंदगानी से
ना इक दिन मौत आने से
मुझे अब डर नहीं लगता

 
Mujhe Ab Dar Nahi Lagta - Mohsin Naqvi


 

Mujhe Ab Dar Nahi Lagta

Kisi Ke Door Jaane Se
Talluk Toot Jaane Se
Kisi Ke Maan Jaane Se
Kisi Ke Rooth Jaane Se
Mujhe Ab……..

 

Kisi Ko Aajmaane Se
Kisi Ke Aazmaane Se
Kisi Ko Yaad Rakhne Se
Kisi Ko Bhool Jaane Se
Mujhe Ab ……….

 

Kisi Ko Aajmaane Se
Kisi Ke Aazmaane Se
Kisi Ko Yaad Rakhne Se
Kisi Ko Bhool Jaane Se
Mujhe Ab………..

 

Kisi Ko Chhod Dene Se
Kis Ke Chhod Jaane Se
Na Shamma Ko Jalane Se
Na Shamma Ko Bujhane Se
Mujhe Ab ……….

 

Akele Muskurane Se
Kabhi Ansu Bahane Se
Na Is Saare Jamane Se
Haqiqat Se Fasane Se
Mujhe Ab……….

 

Kisi Ki Naa-Rasaai Se
Kisi Ki Paarsaai Se
Kisi Ki Bewafaai Se
Kisi Dukh Intehaai se
Mujhe Ab……….

 

Naa Toh Is Paar Rehne Se
Naa Toh Us Paar Rehne Se
Naa Apni Zindagani Se
Naa Ik Din Maut Aane Se
Mujhe Ab……..

 


 
  Read More –