Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

 

Hai Aur Bhi Duniya Me

हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और

 

Hai Aur Bhi Duniya Me Sukhanwar Bahut Achche
Kehte Hai Ki “Ghalib” Ka Hai Andaaz-e-Bayan Aur – Mirza Ghalib 

 

Urdu and hindi shayari – Galib – Mirza Galib ki shayarim – Hazaaron Khwahishe Aisi Ki


Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

Hazaron Khwahishe Aisi

“हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पर दम निकले,
बहुत निकले मेरे अरमां लेकिन फिर भी कम निकले”

 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

 

Hazaron Khwahishe Aisi Ki Har Khwahish Par Dum Nikle
Bahut Nikle Mere Armaan Lekin Phir Bhi Kam Nikle – Mirza Ghalib 

 

Urdu and hindi shayari – Galib – Mirza Galib ki shayari – N Tha Kuch Toh Khuda Tha


 

N Tha Kuch Toh Khuda

“न था कुछ तो खुदा था, कुछ न होता तो खुदा होता,
डुबोया मुझको होनी ने, न होता मैं तो क्या होता?”

 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

 

N Tha Kuch Toh Khuda Tha, Kuch N Hota To Khuda Hota
Duboya Mujhko Honi Ne, N Hota Mai Toh Kya Hota – Mirza Ghalib 

 

Urdu and hindi shayari – Galib – Mirza Galib ki shayari – Aah Ko Chahiye

Mirza Ghalib Shayari Collection In Hindi


Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

आह को चाहिए

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक

 

दाम-ए-हर-मौज में है हल्क़ा-ए-सद-काम-ए-नहंग
देखें क्या गुज़रे है क़तरे पे गुहर होते तक

 

आशिक़ी सब्र-तलब और तमन्ना बेताब
दिल का क्या रंग करूँ ख़ून-ए-जिगर होते तक

 

ता-क़यामत शब-ए-फ़ुर्क़त में गुज़र जाएगी उम्र
सात दिन हम पे भी भारी हैं सहर होते तक

 

हम ने माना कि तग़ाफ़ुल न करोगे लेकिन
ख़ाक हो जाएँगे हम तुम को ख़बर होते तक

 

परतव-ए-ख़ुर से है शबनम को फ़ना की तालीम
मैं भी हूँ एक इनायत की नज़र होते तक

 

यक नज़र बेश नहीं फ़ुर्सत-ए-हस्ती ग़ाफ़िल
गर्मी-ए-बज़्म है इक रक़्स-ए-शरर होते तक

 

ग़म-ए-हस्ती का ‘असद’ किस से हो जुज़ मर्ग इलाज
शम्अ हर रंग में जलती है सहर होते तक

 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi 2 Lines

 


Waada-e-Wafa Karo

“वादा-ए-वफ़ा करो तो फिर खुद को फ़ना करो,
वरना खुदा के लिए किसी की ज़िंदगी ना तबाह करो”

 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

 

Waada-e-Wafa Karo Toh Phir Ko Fana Karo
Warna Khuda Ke Liye Kisi Ki Zindagi Na Tabaah Karo – Mirza Ghalib 

 

Urdu and hindi shayari – Galib – Mirza Galib ki shayari – Aa Hi Jaata Wo Raah


Aa Hi Jaata Wo Raah Pe

आ ही जाता वो राह पर ‘ग़ालिब’
कोई दिन और भी जिए होते

 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

 

Aa Hi Jaata Wo Raah Pe Ghalib
Koi Din Aur Bhi Jiye Hote – – Mirza Ghalib 

 


Aaya Hai Bekasi-e-Ishq

आए है बेकसी-ए-इश्क़ पे रोना ‘ग़ालिब’
किस के घर जाएगा सैलाब-ए-बला मेरे बाद

 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

 

Aaya Hai Bekasi-e-Ishq Pe Rona Ghalib
Kisi Ke Ghar Jayega Sailaab-e-Bala Mere Baad – Mirza Ghalib 

 


Aaina Dekh Apna Sa

आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गए
साहब को दिल न देने पे कितना ग़ुरूर था

 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

 

Aaina Dekh Apna Sa Muh Le Ke Reh Gaye
Sahab Ko Dil N Dene Pe Kitna Guroor Tha – Mirza Ghalib 

 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi 2 Lines


Mirza Ghalib Love Shayari

 आईना क्यूँ न दूँ

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे

 

हसरत ने ला रखा तिरी बज़्म-ए-ख़याल में
गुल-दस्ता-ए-निगाह सुवैदा कहें जिसे

 

फूँका है किस ने गोश-ए-मोहब्बत में ऐ ख़ुदा
अफ़्सून-ए-इंतिज़ार तमन्ना कहें जिसे

 

सर पर हुजूम-ए-दर्द-ए-ग़रीबी से डालिए
वो एक मुश्त-ए-ख़ाक कि सहरा कहें जिसे

 

है चश्म-ए-तर में हसरत-ए-दीदार से निहाँ
शौक़-ए-इनाँ गुसेख़्ता दरिया कहें जिसे

 

दरकार है शगुफ़्तन-ए-गुल-हा-ए-ऐश को
सुब्ह-ए-बहार पुम्बा-ए-मीना कहें जिसे

 

‘ग़ालिब’ बुरा न मान जो वाइ’ज़ बुरा कहे
ऐसा भी कोई है कि सब अच्छा कहें जिसे

 

या रब हमें तो ख़्वाब में भी मत दिखाइयो
ये महशर-ए-ख़याल कि दुनिया कहें जिसे

 

है इंतिज़ार से शरर आबाद रुस्तख़ेज़
मिज़्गान-ए-कोह-कन रग-ए-ख़ारा कहें जिसे

 

किस फ़ुर्सत-ए-विसाल पे है गुल को अंदलीब
ज़ख़्म-ए-फ़िराक़ ख़ंदा-ए-बे-जा कहें जिसे

 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी


Aaina Kyu N Du Ki

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे

 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

 

Aaina Kyu N Du Ki Tamasha Kahe Jise
Aisa Kahan Se Laaun Ki Tujh Sa Kahe Jise – Mirza Ghalib 

 


 

Aankh Ki Tasveer

आँख की तस्वीर सर-नामे पे खींची है कि
तुझ पे खुल जावे कि इस को हसरत-ए-दीदार है

 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

 

Aankh Ki Tasveer Sar-Name Pe Kheechi Hai Ki
Tujh Pe Khul Jaawe Ki Is Ko Hasrat-e-Didaar Hai – Mirza Ghalib 

 


 

Aagahi Daam-e-Shunidan

आगही दाम-ए-शुनीदन जिस क़दर चाहे बिछाए
मुद्दआ अन्क़ा है अपने आलम-ए-तक़रीर का

 

Mirza Ghalib Shayari In Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

 

Aagahi Daam-e-Shunidan Jis Kadar Chahe Bichaye
Mudda Anka Hai Apne Alam-e-Takreer Ka – Mirza Ghalib 

 


 

Aah Ko Chahiye Ik Umr

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक

 

Aah Ko Chahiye Ik Umr Asar Hone Tak
Kaun Jeeta Hai Teri Zulfon Ke Sar Hone Tak – Mirza Ghalib