Mirza Ghalib Famous Ghazal – Koi Ummedwar Nahi Aati

Mirza Ghalib Famous Ghazal – Koi Ummedwar Nahi Aati

Koi Umeedwar Nahi Aati

 

कोई उम्मीदवर नहीं आती
कोई सूरत नज़र नहीं आती

 

मौत का एक दिन मुअय्यन है
नींद क्यों रात भर नहीं आती

 

आगे आती थी हाले-दिल पे हंसी
अब किसी बात पर नहीं आती

 

जानता हूं सवाबे-तात-ओ-ज़ोहद
पर तबीयत इधर नहीं आती

 

है कुछ ऐसी ही बात जो चुप हूं
वरना क्या बात कर नहीं आती

 

कयों न चीखूं कि याद करते हैं
मेरी आवाज़ गर नहीं आती

 

दाग़े-दिल गर नज़र नहीं आता
बू भी ऐ बूए चारागर नहीं आती

 

हम वहां हैं जहां से हमको भी
कुछ हमारी ख़बर नहीं आती

 

मरते हैं आरजू में मरने की
मौत आती है पर नहीं आती

 

काबा किस मूंह से जाओगे ‘ग़ालिब’
शरम तुमको मगर नहीं आती

 

Koi Umeedwar Nahi 

 

Koi Umeedwar Nahi Aati

Koi Surat Nazar Nahi Aati

Maut Ka Ek Din Muaiyyan Hai

Nind Raat Bhar Kyo Nahi Aati

Aage Aati Thi Haal-e-Dil Pe Hasi

Ab Kisi Baat Par Nahi Aati

Janta Hoon Sawabe-Taat-e-Johad

Par Tabiyat Idhar Nahi Aati

 

Hai Kuch Aisi Hi Baat Jo Chup Hoon

Warna Kya Baat Kar Nahi Aati

Kyo Na Chikhu Ki Yaad Karte Hai

Meri Awaaz Gr Nahi Aati

Daag-e-Jigar Gr Nazar Nahi Aata

Boo Bhi Ae Bue Charagar Nahi Aati

Hum Waha Hai Jaha Se Humko Bhi

Kuch Hamari Khabar Nahi Aati

 

Marte Hai Aarzu Me Marne Ki

Maut Aati Hai Pr Nahi Aati

Kaba Kis Muh Se Jaoge “Ghalib”

Sharam Tumko Magar Nahi Aati

 


Read More –