Mehfil Shayari In Hindi | महफ़िल शायरी

 

Mehfil Shayari In Hindi | महफ़िल शायरी

 

दुनिया कि महफ़िलो से उकता गया हूँ मैं,
क्या लुफ्त अंजुमन का जब दिल ही बुझ गया हो

 

Duniya Ke Mehfilon Sr Uktaa Gaya Hoon Mai
Kya Lutf Anjuman Ka Dil Hi Bujh Gaya Ho

 

तू जरा हाथ मेरा थाम के देख तो सही
लोग जल जायेगें महफ़िल मे, चिरागो की तरह

 

Tu Zara Hath Mera Thaam Ke Dekh Toh Sahi
Log Jal Jayenge Mehfil Me Chiraagon Ki Tarah

 

शायरों की बस्ती में कदम रखा तो जाना,
ग़मों की महफ़िल भी कमाल जमती है

 

Shyaron Ki Basti Me RakhaHaoToh Jaana
Gamon Ki Mehfil Bhi Kamaal Jamti Hai

 

एक महफ़िल में कई महफ़िलें होती हैं शरीक
जिस को भी पास से देखोगे अकेला होगा -निदा फ़ाज़ली

 

Ek Mehfil Me Kai Hoti Hai Shareek
Jis Ko Bhi Pass Se Dekhoge Akela Hoga– Nida Fazli

 

मेरे लफ़्ज़ों को महफूज कर लो दोस्तों
हमारे बाद बहुत सन्नाटा होगा, इस महफ़िल में

 

Mere Lafzon Ko Mehfooz Kar Lo Dosto
Hamare Baad Bahut Sannata Hoga Is Mehfil Me

 

Mehfil Shayari In Hindi Font

 

फुर्सत निकाल कर आओ कभी मेरी महफ़िल में,
लौटते वक्त दिल नहीं पाओगे सीने में

 

Fursat Nikaalkar Kabhi Aao Meri Mehfil Me
Lautate Wakt Dil Nahi Paoge Seene Me

 

बस एक चेहरे ने तनहा कर दिया हमे वरना!
हम खुद में एक महफ़िल हुआ करते थे

 

Bas Ek Chehre Ne Tanha Kar Diya Hamne Warna
Hum Khuda Me Ek Mehfil Hua Karte The

 

इनमे लहू जला हो हमारा कि जान ओ दिल,
महफ़िल के कुछ चिराग फ़रोज़ां हुए हैं

 

Inme Lahu Jala Ho Hamara Ki Jaan-o-Dil
Mehfil Ke Kuch Chiraag Farozan Hue Hai

 

दुश्मन को कैसे खराब कह दूं ,
जो हर महफ़िल में मेरा नाम लेते 
Dushman Ko Kaise Kharaab Keh Du
Jo Har Mehfil Me Mera Naam Lete

 
Read More –