Mehandi Shayari In Hindi | मेंहन्दी पर शायरी

Mehandi Shayari In Hindi | मेंहन्दी पर शायरी

 

तेरी मेहंदी में मिरे ख़ूँ की महक आ जाए
फिर तो ये शहर मिरी जान तलक आ जाए – राशिद अमीन

 

Teri Mehandi Me Mere Khoon Ki Mahak Aa Jaaye

Phir Toh Ye Shehar Meri Jaan Talak Aa Jaaye – Rashid Aameen

 

मेहंदी लगाने का जो ख़याल आया आप को
सूखे हुए दरख़्त हिना के हरे हुए – हैदर अली आतिश

 

Mehandi Lagane Ka Jo Khayal Aaya Aap Ko

Sookhe Hue Darakht Hina Ke Hare Hue – Haidar Ali Tabish

 

मेहंदी ने ग़ज़ब दोनों तरफ़ आग लगा दी
तलवों में उधर और इधर दिल में लगी है

 

Mehandi Ne Gajab Dono Taraf Aag Laga Di

Talwao Me Udhar Aur Idhar Dil Me Lagi Hai

 

बात मेहंदी से लहू तक आ गई
गुफ़्तुगू अब तुम से तू तक आ गई – ज़फ़र कलीम

 

Baat Mehandi Se Lahu Tak Aa Gayi

Guftgu Ab Tum Se Tu Tak Aa Gayi  – Zafar Kaleem

 

मल रहे हैं वो अपने घर मेहंदी
हम यहाँ एड़ियाँ रगड़ते हैं – लाला माधव राम जौहर

 

Mal Rahe Hai Wo Apne Ghar Mehandi

Hum Yahan Ediyaan Ragadte Hai – Lala Madhav Ram Jauhar

 

शाम का मंज़र हसीं हो जाएगा
हाथ पे मेहंदी लगा कर देखना -आग़ाज़ बरनी

 

Shaam Ka Manjar Hasi Ho Jayega

Hath Pe Mehandi Laga Kar Rakhna – Agaaz Barni

 

उनके पाँव में मेहंदी लगी है
आने जाने के काबिल नही है

 

Unke Paawo Me Mehandi Lagi Hai

Aane Jaane Ke Qaabil Nahi Hai

 

किसी के प्यार की मेहंदी लगा ले हाथों पर
महक न देगी मगर रंग तो चढ़ा देगी -यूनुस तहसीन

 

Kisi Ke Pyaar Ki Mehandi Laga Le Hathon Par

Mahak N Degi Magar Rang Toh Chadha Degi – Yunus Tahseen

 

चुरा के मुट्ठी में दिल को छुपाए बैठे हैं
बहाना ये है कि मेहंदी लगाए बैठे हैं – मीर मेहदी मजरूह

 

Chura Ke Mutthi Me Dil Ko Chupaaye Baithe Hai

Bahna Ye Hai Ki Mehandi Lagaye Baithe Hai – Meer Mehandi Majrooh

 

टूटे-फूटे लफ़्ज़ों के कुछ रंग घुले थे
उन की मेहंदी आज तलक भी रचाए हुए हूँ -ज़ेहरा निगाह

 

Toote-Foote Lafzon Ke Kuch Rang Ghule The

Un Ki Mehandi Aaj Talak Bhi Rachaye Hue Hu – Zehara Nigaah

 

दोनों का मिलना मुश्किल है दोनों हैं मजबूर बहुत
उस के पाँव में मेहंदी लगी है मेरे पाँव में छाले हैं -अमीक़ हनफ़ी

 

Dono Ka Milna Mushkil Hai Dono Hai Majboor Bahut

Us Ke Paaw Me Mehandi Lagi Hai Mere Paaw Me Chaale Hai– Ameek Hanfi

 


Read More –