Mausam Shayari In Hindi | मौसम शायरी

 

Mausam Shayari In Hindi | मौसम शायरी

 

मौसम की तरह बदल देते हैं लोग हमसफर अपना,
हमसे तो अपना सितमगर भी बदला नहीं जाता

 

Mausam Ki Tarah Badal Dete Hai Log Humsafar Apna
Hamse Toh Apna Sitamgar Bhi Badla Nahi Jaata

 

तुम्हारे शहर का मौसम बड़ा सुहाना लगे
मैं शाम चुरा लूँ अगर बुरा न लगे -क़ैसर-उल जाफ़री
 

Tumhare Shehar Ka Mausam Bada Suhaana Lage
Mai Shaam Chura Lu Agar Bura N Lage – Kaisar-Ul Zafari

 

उदास ज़िन्दगी, उदास वक्त, उदास मौसम।
कितनी चीज़ों पे इल्ज़ाम लग जाता है तेरे बात न करने से

 

Udaas Zindagi, Udaas Wakt, Udaas Mausam
Litni Cheezo Pe Ilzaam Lag Jaata Hai Tere Baat N Karne Se

 

मूड हो जैसा वैसा मंज़र होता है
मौसम तो इंसान के अंदर होता है

 

Mood Ho Jaisa Waisa Manzar Hota Hai
Mausam Toh Insaan Ke Andar Hota Hai

 

छु कर निकलती है जो हवाएँ तेरे चेहरे को,
सारे शहर का मौसम गुलाबी हो जाता है

 

Chu Kar Nikalti Hai Jo Hawaye Tere Chehre Ko
Saare Shehar Ka Mausam Gulaabi Ho Jaata Hai

 

रुका हुआ है अज़ब धुप छाँव का मौसम,
गुज़र रहा है कोई दिल से बादलों की तरह

 

Ruka Huwa Hai Ajab Dhoop Chaaw Ka Mausam
Guzar Raha Hai Koi Dil Se Baadlon Ki Tarah

 

धुप सा रंग है और खुद है वो छाँवो जैसा
उसकी पायल में बरसात का मौसम छनके  -क़तील शिफ़ाई

 

Dhoop Sar Rang Aur Khud Hai Wo Chaao Jaisa
Uski Payal Me Barsaat Ka Mausam Chanke – Qateel Shifaai

 

Mausam Shayari In Hindi | मौसम शायरी

 

कम से कम अपनी जुल्फे तो बाँध लिया करो
कमबख्त बेवजह मौसम बदल दिया करते हैं

 

Kam Se Kam Apni Zulfein Toh Bandh Liya Karo
Kambakht Be-Wajah Mausam Badal Diya Karte Hai

 

कोहराम मचा रखा है जनवरी की सर्द हवावों ने
और एक तेरे दिल का मौसम है जो बदलने का नाम ही नही लेता

 

Kphraam Macha Rakha Hai January Ki Sard Hawaye
Aur Ek Tere Naam Ka Mausam Hai Jo Badalne Ka Naam Hi Nahi Leta

 

दूर तक छाए थे बादल और कहीं साया न था
इस तरह बरसात का मौसम कभी आया न था-क़तील शिफ़ाई

 

Door Tak Chaye The Badal Aur Kahin Saaya N Tha
Is Tarah Barsaat Ka Mausam Kabhi Aaya N Tha – Qateel Shifaai

 

उसे छुआ तो दिसम्बर में प्यास लगने लगी
कि उसके ज़िस्म का मौसम तो जून जैसा है

 

Use Chuwa Toh December Me Pyaas Lagne Lagi
Ki Uske Jism Ka Mausam Toh June Jaisa Hai

 

लुत्फ़ जो उस के इंतज़ार में है
वो कहाँ मौसम-ए-बहार में है

 

Lutf Jo Uske Intezaar Ka Hai
Wo Kahan Mausam-e-Bahaar Me Hai

 

बलखाने दे अपनी जुल्फों को हवाओं में,
जूड़े बांधकर तू मौसम को परेशां न कर

 

Balkhaane Se Apni Zulfon Ko Hawao Me
Joode Bandhkar Tu Mausam Ko Pareshaan N Kar

 

Shayari On Mausam

 

सर्दी में दिन सर्द मिला।
हर मौसम बेदर्द मिला -मोहम्मद अल्वी

 

Sardi Me Din Sard Mila
Har Mausam Be-Dard Mila -Mohammad Alvi

 

तुम मौसम की तरह बदल रही हो
मैं फसल की तरह बरबाद हो रहा हूँ

 

Tum Mausam Ki Tarah Badal Rahi Ho
Mai Fasal Ki Tarah Barbaad Ho Raha Hu

 

मौसम को मौसम की बहारों ने लूटा,
हमे कश्ती ने नहीं किनारों ने लूटा

 

Mausam Ko Mausam Ki Baharon Ne Loota
Hamein Kashti Ne Nahin Kinaaro Ne Loota

 

काश तुझे सर्दी के मौसम मे लगे मोहब्बत की ठंड
और तु तड़प के मांगे मुझे कंबल की तरह

 

Kash Tujhe Sardi Ke Mausam Me Lage Mohabbat Ki Thand
Aur Tu Tadap Ke Mange Mujhe Kambal Ki Tarah

 

कुछ तो हवा भी सर्द थी कुछ था तेरा ख़याल भी,
दिल को ख़ुशी के साथ साथ होता रहा मलाल भी – Parveen Shakir

 

Mausam Toh Hawa Bhi Sard Thi Kuch Tha Tera Khayal Bhi
Dil Ko Khushi Ke Sath Hota Raha Malaal Bhi

 

मौसम की तरह बदलते हैं उस के वादे,
उस पर यह ज़िद की तुम मुझ पे एतबार करो

 

Mausam Ki Tarah Badalte Hai Us Ke Waade
Us Par Yeh Zid Ki Tum Mujh Pe Aitbaar Karo

 

टपक पड़ते हैँ आँसू जब किसी की याद आती है
ये वो बरसात है जिसका कोई मौसम नहीँ होता

 

Tapak Padte Hai Aansu Jab Kisi Ki Yaad Aati Hai
Ye Wo Barsaat Hai Jiska Koi Mausam Nahi Hota

 


 
Read More –