Manzil Shayari In Hindi | मंज़िल शायरी

Manzil Shayari In Hindi | मंज़िल शायरी

 

 

खुद पुकारेगी मंज़िल तो ठहर जाऊँगा

वरना मुसाफिर खुद्दार हूँ, यूँ ही गुज़र जाऊँगा

 

Khud Pukaregi Manzil Toh Thehar Jaunga

Varna Musafir Khuddar Hu, Yun Hi Guzar Jaunga

 


 

खत्म हो भी तो कैसे, ये मंजिलो की आरजू
ये रास्ते है के रुकते नहीं, और इक हम के झुकते नही

 

Khatm Ho Bhi To Kaise, Ye Manzilon Ki Aarju

Ye Raaste Hai Ki ukte Nahi, Aur Ik Hum Ke Jhukte Nahi

 


 

तकदीरें बदल जाती हैं, जब ज़िन्दगी का कोई मकसद हो
वर्ना ज़िन्दगी कट ही जाती है  ‘तकदीर’  को इल्ज़ाम देते देते

Takdeerein Badal Jaati Hai, Jab Zindagi Ka Koi Maksad Ho

Varna Zindagi Kat Hi Jaati Hai ‘Takdeer’ Ko Ilzaam Dete-Dete

 

मंज़िले हमारे करीब से गुज़रती गयी जनाब

और हम औरो को रास्ता दिखाने में ही रह गये

 

Manjilein Hamare Kareeb Se Gujarati Gayi Janaab

Aur Hum Auron Ko Raasta Dikhaane Me Hi Reh Gaye

 


 

रफ़्तार कुछ इस कदर तेज़ है जिन्दगी की​
कि सुबह का दर्द शाम को, पुराना हो जाता है​ 

 

Raftaar Kuch Is Qadar Tez Ho Gayi Hai Zindagi Ki

Ki Subah Ka Dard Shaam Ko Puraana Ho Jaata Hai

 


 

मंज़िल तो मिल ही जायेगी भटक कर ही सही,

गुमराह तो वो हैं जो घर से निकला ही नहीं करते

 

Manzil Toh Mil Hi Jayegi Bhatak Kar Hi Sahi

Gumraah Toh Wo Hai Jo Ghar Se Nikla Hi Nahi Karte

 


 

दिल बिन बताए मुझे ले चल कही

जहां तू मुस्कुराएं मेरी मंज़िल वही

 

Dil Bin Bataye Mujhe Le Chal Kahin

Jahan Tu Muskuraaye Meri Manzil Wahi

 


 

रास्ते कहाँ ख़त्म होते हैं ज़िंदग़ी के सफ़र में,

मंज़िल तो वहाँ है जहाँ ख्वाहिशें थम जाएँ

 

Raaste Kahan Khtm Hote Hai Zindagi Ke Safar Me

Manzil Toh Waha Hai Jahan Khwahishe Tham Jayein


 

Shayari On Manzil

Manzil Shayari In Hindi | मंज़िल शायरी

मुश्किलें जरुर है, मगर ठहरा नही हूँ मैं

मंज़िल से जरा कह दो, अभी पहुंचा नही हूँ मैं

 

Mushkilein Zarur Hai, Magar Thehra Nahi Hoon Mai

Manzil Se Keh Do Zara, Abhi Pahucha Nahi Hu Mai

 


 

एक न एक दिन हासिल कर ही लूँगा,
‘ठोकरें’ जहर तो नहीं जो खाकर मर जाऊँगा

Ek N Ek Din Haasil Kar Hi Lunga

Thokrein Zehar Toh Nahi Jo Kha Kar Mar Jaunga

 


 

मंजिल मिले या ना मिले, ये तो मुकद्दर की बात है,
हम कोशिश भी ना करे ये तो गलत बात हैं

Manzil Mile Ya N Mile, Ye Toh Muqaddar Ki Baat hai

Hum Koshish Bhi N Karein Ye Toh Galat Baat Hai

 


 

चलता रहूँगा मै पथ पर, चलने में माहिर बन जाउंगा

या तो मंज़िल मिल जायेगी, या मुसाफिर बन जाउंगा

Chalta Rahunga Mai Path Par, Chalne Me Maahir Ban Jaunga

Ya Toh Manzil Mil Jayegi, Ya Musafir Ban Jaunga

 


 

कितन मुश्किल है बड़े होकर बड़े रहना भी,
अपनी मंजिल पर पहुँचना भी खड़े रहना भी

Kitna Mushkil Hai Bade Hokar Bhi Bade Rehna Bhi

Apni Manzil Par Pahuchna Bhi Khade Rehna Bhi


 

मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर
लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया -मजरूह सुल्तानपुरी

Mai Akela Hi Chala Tha Jaanib-e-Manzil Magar

Log Sath Aate Gaye Aur Kaarwaan Banta Gaya – Majruh Sultanpuri

 


 

रास्तों पर निगाह रखने वाले
भला मंज़िल कहाँ देख पाते हैं

Raaston Par Nigaah Rakhne Waale

Bhala Manzil Kahan Dekh Paate Hai

 


 

डर मुझे भी लगा फासला देख कर
पर मैं बढ़ता गया रास्ता देख कर

 

Darr Mujhe Bhi Laga Faasla Dekhkar

Par Mai Badhta Gaya Raasta Dekhkar

 


 

चूमना पड़ता है “फांसी का फंदा ”
चरखा चलाने से कभी  “इंकलाब ” नहीं मिलता

 

Choomana Padta Hai “Faansi Ka Fanda”

Charkha Chalaane Se Kabhi ” Inklaab” Nahi Milata

 


 

कोई मंज़िल के क़रीब आ के भटक जाता है
कोई मंज़िल पे पहुँचता है भटक जाने से-क़सरी कानपुरी

 

Koi Manzil Ke Kareeb Aa Ke Bhatak Jaata Hai

Koi Manzil Pe Pahuchta Hai Bhatak Jaane Se – Kasari Kaanpuri


 

Manzil Shayari Two Lines

Manzil Shayari In Hindi | मंज़िल शायरी

किसी को घर से निकलते ही मिल गई मंज़िल
कोई हमारी तरह उम्र भर सफ़र में रहा-अहमद फ़राज़

Kisi Ko Ghar Se Nikalte Hi Mil Gayio Manzil

Koi Hamari Tarah Umr Bhar Safar Me Raha Ahmad Faraz

 


 

पहुँचे जिस वक़्त मंज़िल पे तब ये जाना
ज़िन्दगी रास्तों में बसर हो गई

 

Pahuche Jis Wakt Manzil Pe Tab Ye Jaana

Zindagi Raaston Me Basar Ho Gayi

 


उस ने मंज़िल पे ला के छोड़ दिया
उम्र भर जिस का रास्ता देखा-नासिर काज़मी

 

Us Ne Manzil Pe La Ke Chod Diya

Umr Bhar Jiska Raasta Dekha– Naasir Kaazmi


 

सामने मंज़िल थी और पीछे उस की आवाज़ ,
रुकता तो सफर जाता ,चलता तो बिछड़ जाता

 

Saamne Manzil Thi Peeche Us Ki Awaaz

Rukata Toh Safar Jaata, Chalta Toh Bichar Jaata

 


 

थक कर ना बैठ, ऐ मंजिल के मुसाफिर;
तुझे मंजिल भी मिलेगी और मिलने का मज़ा भी आएगा

Thak Kar Na Baith Ae Manzil Ke Musaafir

Tujhe Manzil Bhi Milegi Aur Milne Ka Maza Bhi Aayega


 

मंजिल उन्हीं को मिलती है जिनके सपनों में जान होती है,
पंख से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती हैं

Manzil Unhi Ko Milti Hai Jinke Sapno Me Udaan Hoti Hai

Pankh Se Kuch Nahi Hota, Hausalon Se Udaan Hoti Hai

 


 

मंज़िल न मिली तो ग़म नहीं है
अपने को तो खो के पा गया हूँ-एहतिशाम हुसैन

 

Manzil N Mili Toh Gum Nahi Hai

Apne Ko Toh Kho Ke Paa Gaya Hu-Ehtishaam Husain

 


 

एक रास्ता यह भी है मंजिलों को पाने का,
कि सीख लो तुम भी हुनर हाँ में हाँ मिलाने का

 

Ek Raasta Yeh Bhi Hai Manjilon Ko Paane Ka

Ki Seekh Lo Tum Bhi Hunar Ha Me Ha Milaane Ka

 


Read More –