Kurbat Bhi Nahi Dil Se Utar Bhi Nahi Jaata – Ahmad Faraz

Kurbat Bhi Nahi Dil Se Utar Bhi Nahi Jaata – Ahmad Faraz

कुर्बत भी नहीं दिल से उतर भी नहीं जाता

 

कुर्बत भी नहीं दिल से उतर भी नहीं जाता
वो शख़्स कोई फ़ैसला कर भी नहीं जाता

 

आँखें हैं के खाली नहीं रहती हैं लहू से
और ज़ख्म-ए-जुदाई है के भर भी नहीं जाता

 

वो राहत-ए-जान है इस दरबदरी में
ऐसा है के अब ध्यान उधर भी नहीं जाता

 

हम दोहरी अज़ीयत के गिरफ़्तार मुसाफ़िर
पाऔं भी हैं शील शौक़-ए-सफ़र भी नहीं जाता

 

दिल को तेरी चाहत पर भरोसा भी बहुत है
और तुझसे बिछड़ जाने का डर भी नहीं जाता

 

पागल होते हो ‘फ़राज़’ उससे मिले क्या
इतनी सी ख़ुशी से कोई मर भी नहीं जाता

 


 

Kurbat Bhi Nahi Dil Se Utar Bhi Nahi Jaata 

 

 

 

Kurbat Bhi Nahi Dil Se Utar Bhi Nahi Jaata

Wo Shaksh Koi Faisla Kar Bhi Nahi Jaata

 

Aankhe Hai Ke Khaali Nahi Rehti Hai Lahoo Se

Aur Zakhm-e-Judaai Hai Ki Bhar Bhi Nahi Jaata

Wo Raahat-E-Jaan Hai Is Darbadari Me

Aisa Hai Ki Ab Dhyaan Udhar Bhi Nahi Jaata

Hum Dohri Aziyat Ke Giraftaar Musafir

Paaon Bhi Hai Sheel Shauq-e-Safar Bhi Nahi Jaata

Dil Ko Teri Chahat Par Bharosa Bhi Bahut Hai

Aur Tujhse Bichad Jaane Kaa Darr Bhi Nahi Jaata

Pagal Hote Ho “Faraz” Usase Mile Kya

Itni Si Khushi Se Koi Mar Bhi Nhi Jaata

 

 


Read More –