Kismat Shayari In Hindi | किस्मत शायरी

 

Kismat Shayari In Hindi | किस्मत शायरी

 

क्यूं हथेली की लकीरों से हैं आगे उंगलियां
रब ने भी किस्मत से आगे मेहनत रखी

 

Kyu Hatheli ki Lakiron Se Aage Ungaliyaa
Rab Ne Bhi Kismat Se Aage Mehnat Rakhi

 

हर दर्द की दवा हैं इस ज़माने में साहब
बस किसी के पास कीमत नहीं किसी के पास किस्मत नहीं

 

Har Dard Ki Dawa Hai Is Jamane Me Sahab
Bas kisi Ke Pass Keemat Nahi Kisi Ke Pass Kismat Nahi

 

ये लकीरें ये नसीब ये किस्मत सब फ़रेब के आईनें हैं,
हाथों में तेरा हाथ होने से ही मुकम्मल ज़िंदगी के मायने है

 

Ye Lakirein Ye Naseeb Ye Kismat Sab Fareb Ke Aaine Hai
Hathon Me Tera Hath Hone Se Hi Mukammal Zindagi Ke Mayne Hai

 

किस्मत का रोना मैंने छोड़ दिया,
अपनी उम्मीदों को मैंने हौसलों से जोड़ दिया

 

Kismat Ka Rona Maine Chod Diya
Apni Ummidon Ko Maine Hausalon Se Jod Diya

 

Shayari On Kismat

 

बिन लगाए पौधा फूल नहीं खिलता, फल नहीं मिलता,
वक्त से पहले और किस्मत से ज्यादा किसी को कुछ नहीं मिलता।

 

Bin Lagaye Paudha Phool Nahi Khilta, Fal Nahi Milta
Wakt Se Pehale Aur Kismat Se Jyada Kisi Ko Kuch Nahi Milta

 

कभी-कभी किस्मत भी कमाल कर देता है,
रोटी कमाने निकलों तो सिर पर ताज रख देता है

 

Kabhi-Kabhi Kismat Bhi Kamaal Kar Deta Hai
Roti Kamane Nikle Toh Sir Par Taaj Rakh Deta Hai

 

तकदीर बनाने वाले तुमने तो कोई कमी नहीं की,
अब किसको क्या मिला ये मुकद्दर की बात है

 

Takdeer Banane Waale Tumne Toh Koi Kami Nahi Ki
Ab Kisko Kya Mila, Ye Mukaddar Ki Baat Hai

 

किस्मत जाग गयी मैं सोता रहा,
किस्मत भाग गयी मैं रोता रहा

 

Kismat Jaag Gayi Mai Sota Raha
Kismat Bhi Bhaag Gayi Mai Rota Raha

 

इस दुनिया में कौन कब कैसे कहाँ मिल जाए,
उम्मीद रखों क्या पता कब किस्मत खुल जाए

 

Is Duniya Me Kaun Kab Kaise Kahan Mil Jaaye
Ummid Rakho Kya Pata Kab Kismat Khul Jaaye

 

Kismat Shayari 2 Lines

 

तक़दीर लिखने वाले एक एहसान करदे,
मेरे दोस्त की तक़दीर मैं एक और मुस्कान लिख दे

 

Takdeer Likhne Waale Ek Ehsaan Kar De
Mere Dost Ki Takdeer Me Ek Aur Muskaan Likh De

 

कुछ कश्तियाँ डूब भी जाया करती है,
जरुरी तो नहीं हर कश्ती का किनारा हो

 

Kuch Kashtiyaan Doob Bhi Jaaya Karti Hai
Zaruri Toh Nahi Har Kashti Ka Kinaara Ho

 

सुना है अब भी मेरे हाथों कि लकीरों में,
नाजूमियों को मुक़द्दर दिखाई देता है

 

Suba Hai Ab Bhi Mere Hathon Ki Lakiron Me
Najumiyon Ko Muqaddar Dikhaai Deta Hai

 

किस्मत मैं मेरी चैन से जीना लिख दे
मिटा न सके कोई वो अफसाना लिख दे

 

Kismat Me Meri Chain Se Jeena Likh De
Mita N Sake Koi Wo Afsaana Likh De

 

किस्मत पर ऐतबार किस को है
मिल जाये ‘ख़ुशी’ इनकार किस को है

 

Kismat Par Aitbaar Kis Ko Hai
Mil Jaaye Khushi Inkaar Kis ko Hai

 


 
Read More –