Khuda Shayari In Hindi | खुदा शायरी

 

Khuda Shayari In Hindi | खुदा शायरी

 

हर किसी को नही देता वो मोहब्बत का हुनर,
खुदा नही चाहता हर किसी का खुदा होना

 

Har Kisi Ko Nahi Deta Wo Mohabbat Ka Hunar
Khuda Nahi Chahata Har Kisi Ka Khuda Hona

 

वो पहले सा कहीं मुझको कोई मंज़र नहीं लगता,
यहाँ लोगों को देखो अब खुदा का डर नहीं लगता

 

Wo Pehale Sa Kahin Mujhko Koi Manjar Nahi Lagta
Yahan Logon Ko Dekho Ab Khuda Ka Dar Nahi Lagta

 

आशिक़ी से मिलेगा ऐ ज़ाहिद
बंदगी से ख़ुदा नहीं मिलता -दाग़ देहलवी

 

Aashiqui Se Milega Ae Zaahid
Bandagi Se Khuda Nahi Milta

 

अपना तो आशिकी का किस्सा-ए-मुख़्तसर है,
हम जा मिले खुदा से दिलबर बदल- बदल कर

 

Apna Toh Aashiqui Ka Kissa-e-Mukhtsar Hai
Hum Ja Mile Khuda Se Dilbar Badal-Badal Kar

 

सलीक़ा ही नहीं शायद उसे महसूस करने का,
जो कहता है ख़ुदा है तो नज़र आना ज़रूरी है

 

Saleeka Hi Nahi Shayad Use Mehsoos Karne Ka
Jo Kehata Hai Khuda Hai Toh Nazar Aana Zaroori Hai

 

Khuda Shayari 2 Lines

 

कश्तियाँ सब की किनारे पे पहुँच जाती हैं
नाख़ुदा जिन का नहीं उन का ख़ुदा होता है -अमीर मीनाई

 

Kashtiyaan Sab Ki Kinaare Pe Pahuch Jaati Hai
Na-Khuda Jin Ka Nahi Un Ka Khuda Hota Hai

 

कुछ तुम,कुछ तुम्हारा अंदाज़ ए गुफ्तगू,
 मुझे तबाह कौन करेगा, खुदा ही जाने

 

Kuch Tum Kuch Tumhara Andaaz-e-Guftgu
Mujhe Tabaah Kaun Karega, Khuda Hi Jaane

 

वो पहले सा कहीं, मुझको कोई मंज़र नहीं लगता,
यहाँ लोगों को देखो, अब ख़ुदा का डर नहीं लगता

 

Wo Pahle Sa Kahin Mujhko Koi Manjar Nahi Lagta
Yahan Logon Ko Dekho, Ab Khuda Ka Darr Nahi Lagta

 

मुझ को ख़्वाहिश ही ढूँडने की न थी
मुझ में खोया रहा ख़ुदा मेरा -जौन एलिया

 

Mujh Ko Khwahish Hi Dhoodhne Ki N Thi
Mujh Me Khoya Raha Khuda Mera– John Elia

 

Shayari On Khuda

 

गवाही कैसे टूटती ममला ख़ुदा का था
मिरा और उस का राब्ता तो हाथ और दुआ का था

 

Gawaahi Kaise Tootati Maamala Khuda Ka Tha
Mera Aur Uska Raabta Toh Hath Aur Dua Ka Tha

 

बंदगी हमने छोड़ दी ए फ़राज़,
क्या करें लोग जब ख़ुदा हो जाएँ – Ahmad Faraz

 

Bandagi Hamne Chod Di “Faraz”
Kya Kare Log Jab Khuda Ho Jaaye – Ahmad Faraz

 

सामने है जो उसे लोग बुरा कहते हैं
जिस को देखा ही नहीं उस को ख़ुदा कहते हैं सुदर्शन फ़ाख़िर

 

Saamnae Hai Jo Use Log Bura Kehate Hai
Jis Ko Dekha Hi Nahi Us Ko Khuda Kehate Hai Sudarshan Fhakhir

 

लौट आती है हर बार दुआ मेरी खाली,
जाने कितनी ऊंचाई पर खुदा रहता है

 

Laur Aati Hai Har Baar Dua Meri Khaali
Jaane Kitni Uchaai Par Khuda Rehata Hai

 

सुनकर ज़माने की बातें तू अपनी अदा मत बदल
यकीं रख अपने खुदा पर यूँ बार बार खुदा मत बदल

 

Sunkar Zamane Ki Baatein Tu Apni Ada Mat Badal
Yakeen Rakh Apne Khuda Par Yun Baar-Baar Khuda Mat Badal

 

Khuda Shayari By Ghalib

 

‘मीर’ बंदों से काम कब निकला
माँगना है जो कुछ ख़ुदा से माँग -मीर तक़ी मीर

 

“Mir” Bando Se Kaam Kab Nikla
Maangana Hai Jo Kuch Khuda Se Maang– Mir Taki Mir

 

जिन्दा जिस्म की कोई अहमियत नहीं है, “साहब”
मजार बन जाने दो मेले लगा करेगे

 

Zinda Jism Ki Koi Ahamiyat Nahi Hai “Sahab”
Mazaar Ban Jaane Do Mele Laga Karenge

 

हर ज़र्रा चमकता है अनवर-ए-इलाही से,
हर सांस ये कहती है हम हैं तो खुदा भी है

 

Har Zarra Chamakata Hai Anwar-e-Illahi Se
Har Sans Ye Kehati Hai Hum Hai Toh Khuda Hai

 


 
Read More –