Kangan Shayari In Hindi | कंगन शायरी

Kangan Shayari In Hindi | कंगन शायरी

 

फिर बजे मेरे ख़यालों में सुनहरे कंगन
भूले-बिसरे हुए लम्हात मुझे याद आए – प्रेम वारबर्टनी

 

Phir Baje Mere Khayalon Me Sunahre Kangan
Bhoole-Bisre Hue Lamhat Mujhe Yaad Aaye – Prem varbartani

 

नग़्मगी शे’र ग़िना चाँद का कंगन आँखें

इक मचलते हुए एहसास का आँगन आँखें – मुसर्रत जबीं ज़ेबा

 

Nagmgi Sher Gina Chand Ka Kangan Aankhein
Ik Machalte Hue Ehsaas Ka Angan Aankhein – Musarrat Zabi Zeba

 

अपना कंगन समझ रहे हो क्या
और कितना घुमाओगे मुझ को – ज़ुबैर अली ताबिश

 

Apna Kangan Samajh Rahe Ho Kya
Aur Kitna Ghumaoge Mujhko – Zubair Ali Tabish

 

ऐ मेरे हाथ के कंगन खनक आहिस्ता आहिस्ता
धड़क ऐ दिल धड़क लेकिन धड़क आहिस्ता आहिस्ता – ख़ुशबू सक्सेना

 

Ae Mere Hath Ke Kangan Khanak Aahista-Aahista
Dhadak Ae Dil Dhadak Lekin Aahista-Aahista

 

उस के कंगन से मोहब्बत की खनक आती है
ज़र्द-रू रातों में चंदन की महक आती है – अंबुज श्रीवास्तो

 

Unke Kangan Se Mohabbat Ki Khanak Aati Hai
Zard-Ru-Raaton Me Chandan Ki Mehak Aati Hai – Ambuj Srivastava

 

मैं नाम तेरे कंगन पहनूँ
गुलाब गजरों से ख़ूब महकूँ – ज़ेहरा अलवी

 

Mai Naam Tere Kangan Pahanu
Gulaab Gajaron Se Khoob Mehaku – Zehara Alvi

 

बिंदिया, चूड़ी, गजरा, कंगन एक तरफ़
सब पर भारी काजल धारी आँखों में – जीम जाज़िल

 

Bindiya, Chudi, Gajara, Kangan Ek Taraf
Sab Par Bhari Kajal Dhari Aankho Me – Jeem Zajil

 

जाने किस के ध्यान में डूबा था ख़्वाब
नींद ने कंगन तो खनकाए बहुत – बकुल देव

 

Jaane Kis Ke Dhyaan Me Dooba Tha Khwaab
Nind Ne Kangan To Khankaaye Bahut – Bakul Dev

 

तेरे ध्यान का कंगन छनका ढेरों साज़ बजे
तेरी याद का काजल पहना और शर्माई शाम – सारा ख़ान

 

Tere Dhyaan Ka Kangan Chanaka Dhero Saaz Bane

Teri Yaad Ka Kajal Pehana Aur Sharmaayi Shaam – Sara Khan

 

सजते हैं उस शोख़ बदन पर सारे रंग
हर कंगन उस हाथ में अच्छा लगता है – क़मर आसी

 

Sajate Hai Us Sokh Badan Par Saare Rang

Har Kangan Us Hath Me Achcha Lagta Hai – Qamar Aasi

 

दस्त-ए-नाज़ुक को रसन से अब छुड़ाना चाहिए
इस कलाई में तो कंगन जगमगाना चाहिए -जोश मलीहाबादी

 

Dast-e-Najuk Ko Rasan Se Ab Churaana Chahiye
Is Kalaayi Me Toh Kangan Jagmagana Chahiye – Josh Malihabaadi

 

काँच की चूड़ी ले कर मैं जब तक लौटा
उस के हाथों में सोने का कंगन था – शारिक़ कैफ़ी

 

Kanch Ki Chudi Leke Jab Mai Lauta Tha
Uske Hathon Me Sone Ka Kangan Tha – Sharik Kaifi

 

रेशमी चूड़ियाँ ऐसी कि ग़ज़ल के मिसरे
ये खनकता हुआ कंगन भी ग़ज़ल जैसा है – क़ैसर सिद्दीक़ी

 

Reshami Chudiyaan Aisi Ki Ghazal Ke Misare
Ye Khankata Hua Kangan Bhi Ghazal Jaisa Hai – Kaisar Siddiqui

 

सँवर जाए भी तो मुँह देखने दर्पन नहीं मिलता
ग़रीबी की कलाई में कोई कंगन नहीं मिलता – साबिर शाह साबिर

 

Sawar Jaaye Bhi Toh Muh Dekhne Darpan Nahi Milata
Gareebi Ki Kalayi Me Koi Kangan Nahi Milta – Sabir Shah Sabir

 

तेरे रूप के आगे फीके चांद-सितारे भी
बाली-वाली कंगन-वंगन ज़ेवर-वेवर क्या – क़मर सिद्दीक़ी

 

Tere Roop Ke Aage Feeke Chand-Sitaare Bhi
Baali- Vaali Kangan-Vangan , Jevar-Vevar Kya – Qamar Siddiqui

 

कंगन खनके हाथों में और पायल छनके पाँव में
अब के सावन ओ परदेसी आ जा अपने गाँव में – क़तील शिफ़ाई

 

Kangan Khanke Hathon Me Aur Payal Chanake Paaw Me
Ab Ke Sawan O Pardeshi Aa Ja Apne Gaaw Me – Qateel Shifai

 


Read More –