Kal Shayari In Hindi | कल पर शायरी

Kal Shayari In Hindi | कल पर शायरी

 

कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था
आज की दास्ताँ हमारी है – गुलज़ार

 

Kal Ka Har Waakia Tumhara Tha
Aaj Ki Daastan Hamari Hai – Gulzar

 

कल रात ज़ोरों की बरसात थी
आँखों के आसमान पर भी – रुची दरोलिया

 

Kal Raat Joron Ki Barsaat Thi
Aankho Ke Aasmaan Par Bhi – Ruchi Daroliya

 

बड़ी मुद्दत से था अन्दर मगर कल ही निकाला है
तुम्हें खोने का था दिल में जो डर कल ही निकाला है – कामरान हामिद

 

Badi Muddat Se Tha Andar Magar Kal Hi Nikaala Hai
Tumhe Khone Ka Tha Dil Me Jo Darr Kal Hi Nikaala Hai – Kaamraan Hamid

 

कल जो क़ब्रिस्तान से लौटा
तो तन्हाई का इक बोझ उठा कर लाया – एजाज़ फ़ारूक़

 

Kal Ji Kabristaan Se Lauta
Wo Tanhaai Ka Ik Bojh Utha Kar Laaya – Azaz Faruki

 

रंग ख़ुशियों के कल बदलते ही
ग़म ने थामा मुझे फिसलते ही – अनीता मौर्या अनुश्री

 

Rang Khushiyon Ke Kal Badalte Hi
Gum Ne Mujhe Thama Fisalte Hi – Aneeta Maurya Anushiri

 

कल जिन्हें ज़िंदगी थी रास बहुत
आज देखा उन्हें उदास बहुत – नासिर काज़मी

 

Kal Jinhe Zindagi Thi Raas Bahut
Aaj Dekha Unhe Udaas Bahut – Nasir Kazami

 

मुझे कल के वादे पे करते हैं रुख़्सत
कोई वादा पूरा हुआ चाहता है – अल्ताफ़ हुसैन हाली

 

Mujhe Kal Ke Wade Pe Karte Hai Rukhsat
Koi Wada Poora Hua Chahta Hai – Altaf Husain Haali

 

कल रात वो झगड़ती रही बात बात पर
और मैं किताब लिखता रहा काएनात पर – मोहसिन असरार

 

Kal Raat Wo Jhagadati Rahi Baat-Baat Par
Aur Mai Kitaab Likhta Raha Kayenaat Par – Mohsin Asraar

 

कल रात ज़िंदगी से मुलाक़ात हो गई
लब थरथरा रहे थे मगर बात हो गई – शकील बदायुनी

 

Kal Raat Zindagi Se Mulakaat Ho Gayi
Lab Thar-Thara Rahe The Magar Baat Ho Gayi – Shakeel Badayuni

 

जिस को जाना था कल तक ख़ुदा की तरह
आज मिलता है वो आश्ना की तरह – शोला हस्पानवी

 

Jisko Jaana Tha Kal Tak Khuda Ki Tarah
Aaj Milta Hai Wo Aashna Ki Tarah – Shola Hashpanvi

 

मैं कल तन्हा था ख़िल्क़त सो रही थी
मुझे ख़ुद से भी वहशत हो रही थी – मोहसिन नक़वी

 

Mai Kal Tanha Tha Khilkat So Rahi Thi
Mujhe Khud Se Bhi Wahasat Ho Rahi Thi – Mohsin Naqvi

 

मैंने कल ख़्वाब में आइंदा को चलते देखा
रिज़्क़ और इश्क़ को इक घर से निकलते देखा – अज़्म बहज़ाद

 

Maine Kal Khwaab Me Aainda Ko Chalte Dekha
Rizk Aur Ishq Ko Ik Ghar Se Nikalte Dekha – Azm Bahzaad

 

कल कहते रहे हैं वही कल कहते रहेंगे
हर दौर में हम उन पे ग़ज़ल कहते रहेंगे – कलीम आजिज़

 

Kal Kehate Rahe Hai Wahi Kal Kehate Rahenge
Har Daur Me Hum Un Pe Ghazal Kehate Rahenge – Kaleem Aaziz

 

देर तक रौशनी रही कल रात
मैंने ओढ़ी थी चाँदनी कल रात – ज़ेहरा निगाह

 

Der Tak Roshani Rahi Kal Raat
Maine Odhi Thi Chandani Kal Raat – Zehara Nigaah

 

कल सियासत में भी मोहब्बत थी
अब मोहब्बत में भी सियासत है – ख़्वाजा साजिद

 

Kal Siyasat Me Mohabbat Thi
Ab Mohabbat Me Bhi Siyasat Hai – Khwaaza Sazid

 

कल हम ने सपना देखा है
जो अपना हो नहीं सकता है – इब्न-ए-इंशा

 

Kal Hamne Sapna Dekha Hai
Jo Apna Ho Nahi Sakta Hai – Ibn-e-Inshaa

 


Read More –