Kajal Shayari In Hindi | काजल पर शायरी

Kajal Shayari In Hindi | काजल पर शायरी

 

बे-ख़्वाबी कब छुप सकती है काजल से भी
जागने वाली आँख में लाली रह जाती है – अज़हर अदीब

 

Be-Khwaabi Kab Chup Sakti Hai Kajal Se Bhi
Jagne Waali Aankho Me Laali Reh Jaati Hai – Azahar Adeeb

 

ऐ वक़्त तेरी आँख का काजल रहे हैं हम
हर एक मसअले का तिरे हल रहे हैं हम – मोहम्मद ख़ाँ साजिद

 

Ae Wakt Teri Aankh Ka Kajal Rahe Hai Hum
Har Ek Masale Ka Tere Hal Rahe Hai Hum – Mohammad Kha Sazid

 

फीका फीका है रंग काजल का
क्या इरादा है आज बादल का – मुहिब कौसर

 

Feeka-Feeka Hai Rang Kajal Ka
Kya Iraada Hai Aaj Badal Ka – Muheeb Kausar

 

आँख से बिछड़े काजल को तहरीर बनाने वाले
मुश्किल में पड़ जाएँगे तस्वीर बनाने वाले – ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

 

Aankh Se Bichare Kajal Ko Tahreer Banane Waale
Mushkil Me Pad Jayenge Tasveer Banane Waale – Gulaam Mohammad Kasir

 

हवा की आँख में काजल नहीं है
दिया अब के कोई घायल नहीं है – नोमान फ़ारूक़

 

Hawa Ki Aankh Me Kajal Nahi Hai
Diya Ab Ke Koi Ghayal Nahi Hai – Niman Faruk

 

मचलते रहें रौशनी के पतंगे
दिए मेरे काजल उगलते रहेंगे – मुहिब आरफ़ी

 

Machalte Rahe Roshani Ke Patange
Diye Mere Kajal Ugalate Honge – Muheeb Aarafi

 

वो पथराई सी आँखों को भी काजल भेज देता है
सुलगती दोपहर में जैसे बादल भेज देता है – नदीम फर्रुख

 

Wo Patharaayi Si Aankho Me Bhi Kajal Bhej Deta Hai
Sulagati Dopahar Me Jaise Badal Bhej Deta Hai – Nadeem Farrukh

 

एक तो आँखें तिरी यार हैं ख़ंजर जैसी
उस पे काजल भी लगा रक्खा है तौबा तौबा – मोनिस फ़राज़

 

Ek Toh Aankhe Teri Yaar Hai Khanjar Jaisi
Us Pe Kajal Bhi Laga Rakha Hai Tauba-Tauba – Monis Fara

 

ये शर्म और तबस्सुम ये आँखों में काजल
अदा है कली है कि बचपन है क्या है – कौसर मज़हरी

 

Ye Sharm Aur Tabassum Ye Aankho Me Kajal
Ada Hai Kali Hai Ki Bachpan Hai Kya Hai – Kausar Mazahari

 

गुलाबी होठ, बिखरी जुल्फे,और कजरारी आँखे
इस खूबसूरती ने हमे , गलत-फहमियों में डाल रखा है

 

Gulaab Honth, Bikhari Zulfein , Aur Kajrari Aankhein
Is Khoobsurati Ne Hamein, Galat- Fahamiyon Me Daal Rakha Hai

 

गाँव छोड़ा तो कई आँखों में काजल फैला
शहर पहुँचा तो किसी माथे पे झूमर झूमा  -बशीर बद्र

 

Gaav Chora Toh Kai Aankho Me Kajal Faila
Shehar Faila Toh Kisi Maathe  Pe Jhoomar Jhooma – Bashir Badr

 

तेरी आँखों में खो जाऊँगा काजल की तरह,
तुम ढूँढती रह जाना,  पागल की तरह

 

Teri Aankho Me Kho Jaunga Kajal Ki Tarah
Tum Dhiondhati Reh Jaana , Pagal Ki Tarah

 

लिखने ख़्वाबों को पलकें जो मूँदीं
कि काजल लगा गया कोई – अनीता मोहन

 

Likhane Khwaabon Ko Palke Jo Mundi
Ki Kajal Lag Gaya Koi – Aneeta Mohan

 

हिज्र की शब ग़म के आँसू ढोते ढोते
काजल थक कर गालों पर सो जाता है – राम अवतार गुप्ता मुज़्तर

 

Hizr Ki Shab Gum Ke Aansoo Dhote-Dhote
Kajal Thak Kar Gaalon Par So Jaata Hai – Ram Avatar

 

ऐसे काजल की लकीरों ने समेटा रैन को
अब अँधेरा भी मुझे अच्छा लगे उजला लगे – सोहन राही

 

Aisi Kajal Ki Lakeeron Ne Sameta Rain Ko
Ab Andhera Bhi Mujhe Achcha Lage Ujala Lage – Sohan Raahi

 


Read More –