Jhumka Shayari In Hindi | झुमका शायरी

Jhumka Shayari In Hindi | झुमका शायरी

 

किसी के हाथ काटे जा रहे हैं
किसी के कान से झुमका गया है – शोएब ज़मान

 

Kisi Ke Hath Kaate Ja Rahe Hai

Kisi Ke Kaan Se Jhumka Gaya Hai

 

क्या बतलाऊँ कौन सा था बाज़ार ‘ख़लिश’
जिस में मेरे दिल का झुमका टूट गया – ख़लिश बड़ौदवी

 

Kya Batlaun Kaun Sa Tha Bazaar “Khalish”

Jis Me Mere Dil Ka Jhumka Toot Gaya – Khalish Badaudavi

 

मुझको लगता है वो दिन भी ‘साज़’ क़यामत का होगा
जिस दिन भी उस का झुमका मिरे सिरहाने से निकलेगा – सिद्धार्थ साज़

 

Mujhko Lagta Hai Wo Din Bhi ‘Saaz’ Qayamat Ka Hoga

Jis Din Bhi Uska Jhumka Sirhaane Se Nikalega – Siddhartha Naaz

 

धूप झुमके पे जब पड़ी उस के
डर के सूरज ने फेर ली आँखें – निशांत श्रीवास्तव नायाब

 

Dhoop Jhumke Pe Jab Padi Us Ke

Darr Ke Sooraj Ne Pher Li Aankhein – Nishant Srivastava Nayaab

 

झुमके दिखा के तूर को जिन ने जला दिया
आई क़यामत उन ने जो पर्दा उठा दिया – मीर तक़ी मीर

 

Jhumke Dikha Ke Toor Ko Jin Ne Jala Diya

Aayi Qayamat Un Ne Jo Parda Utha Liya – Mir Taki Mir

 

तुमने तो बे-कार समझ कर फेंक दिया
पर सोचो उस झुमके पर क्या गुज़री है – शाद सिद्दीक़ी

 

Tumne Toh Bekaar Samajh Kar Fenk Diya

Par Socho Us Jhumke Par Kya Gujri Hai – Shaad Siddiqui

 

तेरे कान के यह झुमके मुझे बहुत जलाते हैं

क्योंकि हर दफा तेरे गले को चूम कर चले जाते हैं

 

Tere Kaan Ke Yeh Jhumke Mujhe Bahut Jalate Hai

Kyoki Har Dafa Tere Gale Ko Choos Kar Chale Jaate Hai

 

गिले शिकवों का हिसाब लगाकर बैठे थे

वो झुमका पहन कर आये और हम सब भूल गए

 

Gale Shikawo Ka Hisaab Lagakar Baithe The

Wo Jhumka Pahan Kar Aaye Aur Hum Sab Bhool Gaye

 

ख़ामोशी से ही सही पर ये बाते हजार करते हैं
उसके झुमके आये दिन कत्लेआम करते हैं

 

Khamoshi Se Hi Sahi Par Ye Baatein Hazaar Karte Hai

Uske Jhumke Aaye Din Qatl-e-Aam Karte Hai

 

झुमके से कह दो गालों को चूमना छोड़ दे
इश्क रुस्वा हुआ तो क़त्ल हजार होंगे

 

Jhumke Se Keh Do Gaalon Ko Choomna Chod De

Ishq Rusawa Hua Toh Qatl Hazaar Honge

 

संयोग तो देखिये जनाब आपको
झुमके पसंद हैं और हम बरेली से हैं

 

Sanyog Toh Dekhiye Janaab Aapko

Ishq Rusawa Hua Toh Qatl Hazaar Honge

 

हवाओं को भी इजाजत न दी जिसे छूने की
कमबख्त झुमके उसके गालों को सरेआम चुमते रहे

 

Hawao Ko Bhi Izazat N Di Jise Choone Ki

Kambakht Jhumke Uske Gaalon Ko Sareaam Choomte Rahe

 


Read More –