Jab Lage Zakhm Toh – Jaan Nishar Akhtar

Jab Lage Zakhm Toh – Jaan Nishar Akhtar

 
Hello Friends Kaie Hai Aap Logh Aaj Mai Aap Logon Ke Liye Ek Badi Pyaari Ghazal Lekar Aaya Hu Jise Likha Hai Jaan Nishar Akhtar Ne Wakai Aise Ustaad Kism Ke Shayar Maine Pahle Kahi Nahi Dekhe…Kya Dard Hai Is Ghazal Me Wakai Chand Lafzon Me Inhone Wo Aah Chupaai Hai Is Ghazal Me Jise Dilwaale Hi Samajh Sakte Hai….Agar Aapko Ye shayari pasand Aayi Ho Toh Please Ise share Karein Taaki Aapke Dost Aur Parivaar Ke Log bhi is khoobsurat ghazal ka lutf utha sake…thank you
 
 

जब लगे ज़ख़्म तो क़ातिल को दुआ दी जाये

है यही रस्म तो ये रस्म उठा दी जाये

Jab Lage Zakhm Toh Kaatil Ko Dua Di Jaaye

Hai Yahi Rasm Toh Ye Rasm Utha Di Jaaye

 

तिश्नगी कुछ तो बुझे तिश्नालब-ए-ग़म की

इक नदी दर्द के शहरों में बहा दी जाये

Tishnagi Kuch Toh Bujhe Tishnalab-e0Gum Ki

Ik Nadi Dard Ke Sheharon Me Baha Di Jaaye

 

दिल का वो हाल हुआ ऐ ग़म-ए-दौराँ के तले

जैसे इक लाश चट्टानों में दबा दी जाये

Dil Ka Wo Haal Hua Ae Gum-e-Dauraan Ke Tale

Jaise Ik Lash Chattano Me Daba Di Jaaye

 

हम ने इंसानों के दुख दर्द का हल ढूँढ लिया

क्या बुरा है जो ये अफ़वाह उड़ा दी जाये

Hum Ne Insaano Ke Dukh Dard Ka Hal Dhoondh Liya

Kya Bura Hai Jo Ye Afwaah Uda Di Jaaye

 

हम को गुज़री हुई सदियाँ तो न पहचानेंगी

आने वाले किसी लम्हे को सदा दी जाये

Hum Ko Gujri Hui Sadiyaan Toh N Pahchanegi

Aane Waale Kisi Lamhe Ko Sada Di Jaaye

 

फूल बन जाती हैं दहके हुए शोलों की लवें

शर्त ये है के उन्हें ख़ूब हवा दी जाये

Phool Ban Jaati Hai Dahke Hue Sholo Ki Lavein

Shart Ye Hai Ke Unhe Khoob Hawa Di Jaaye

 

कम नहीं नशे में जाड़े की गुलाबी रातें

और अगर तेरी जवानी भी मिला दी जाये

Kam Nahi Nashe Me Jaade Ki Gulaabi Ratein

Aur Agar Teri Jawani Bhi Mila Di Jaaye

 

हम से पूछो ग़ज़ल क्या है ग़ज़ल का फ़न क्या है

चन्द लफ़्ज़ों में कोई आह छुपा दी जाये

Hum Se Poocho Ghazal Kya Hai Ghazal Ka Fan Kya Hai

Chand Lafzon Me Koi Aah Chupa Di Jaaye

 


Read More –