Hungama – Kumar Vishwas Poem | भ्रमर कोई कुमुदनी पर

Hungama – Kumar Vishwas poem ( Bhramar Koi Kumudani Par)

 

Brief Intro About Author Kumar Vishwas is an Indian Hindi poet and a lecturer and also a good politician. He was a member of the Aam Aadmi Party and a former member of its   National Executive.

 

 

भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा
अभी तक डूबकर सुनते थे सब किस्सा मुहब्बत का
मैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामा

 

 

Bhramar Koi Kumudani Par Machal Baitha Toh Hungama

Hamare Dil Me Koi Khwab Pal Baitha Toh Hungama

Abhi Tak Doob Kar Sunte The Har kissa Mohabbat Ka

Mai Kisse Ko Haqiqat Me Badal Baitha Toh Hungama

जब आता है जीवन में खयालातों का हंगामा
ये जज्बातों, मुलाकातों हंसी रातों का हंगामा
जवानी के क़यामत दौर में यह सोचते हैं सब
ये हंगामे की रातें हैं या है रातों का हंगामा

 

 

Jab Aata Hai jeevan Me Khayalaton Ka Hungama
Ye Jazbaaton, Mulakaato Hasi Raaton Ka Hungama
Jawani Ke Qayamat Daur Me Yeh Sochte Hai Sab
Ye Hungaame Ki Raatein Hai Ya Raaton Ka Hungama

 


 

कलम को खून में खुद के डुबोता हूँ तो हंगामा
गिरेबां अपना आंसू में भिगोता हूँ तो हंगामा
नही मुझ पर भी जो खुद की खबर वो है जमाने पर
मैं हंसता हूँ तो हंगामा, मैं रोता हूँ तो हंगामा

 

Kalam Ko Khoon Me Khud Ke Doobota Hoon Toh Hungama
Girebaan Apne Aansu Me Bheegota Hoon Toh Hungama
Nahi Mujh Par Bhi Jo Khud Ki Khabar Wo Hai Jamane Par
Mai Hasta Hoon Toh Hungama, Mai Rota Hoon Toh Hungama

 


Read More –