Hunar Shayari In Hindi | हुनर शायरी

hunar shayarei in hindi

Hunar Shayari In Hindi | हुनर शायरी

 

Hunar Shayari In Hindi | हुनर शायरी

 

ग़लतियाँ अपनी न हों फिर भी मनाने का हुनर
इतना आसान नहीं ख़ुद को मिटाने का हुनर – चाँद अकबराबादी

 

Galatiyaan Apni N Ho Phir Bhi Manane Ka Hunar

Itna Aasaan Nahi Khud Ko Mitaane Ka Hunar – Chand Akbarabadi

 

Hunar Shayari In Hindi | हुनर शायरी

 

जिसे गुज़ार गए हम बड़े हुनर के साथ
वो ज़िंदगी थी हमारी हुनर न था कोई – सहर अंसारी

 

Jise Guzaar Gaye Hum Bade Hunar Ke Sath

Wo Zindagi Thi Hamari, Hunar N Tha Koi – Sahar Ansari

 

Hunar Shayari In Hindi | हुनर शायरी

 

ये सलीक़ा भी हुनर में रखना
रौशनी राहगुज़र में रखना – नज़ीर तबस्सुम

 

Ye Salika Bhi Hunar Me Rakhna

Roshani Rehguzar Me Rakhna – Nazeer Tabassum

 

चलने का हुनर कब आता है जब तक कोई ठोकर खाओ नहीं
हालात बदलते रहते हैं हालात से तुम घबराओ नहीं – अख़्तर आज़ाद

 

Chalne Ka Hunar Kab Aata Hai Jab Tak Thokar Khaao Nahi

Halaat Badalate Rehate Hai Halaat Se Tum Ghabraao Nahi – Akhtar Azaad

 

Hunar Shayari In Hindi | हुनर शायरी

 

लहू का हुनर आज़माते रहेंगे
चराग़ आंधियों में जलाते रहेंगे – नजमा अंसार

 

Lahoo Ka Hunar Aazmaate Rahenge

Charaag Aandhiyon Me Jalate Rahenge – Nazana Ansaar

 

Hunar Shayari In Hindi | हुनर शायरी

 

हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है
जिस तरफ़ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा – बशीर बद्र

 

Hum Bhi Dariya Hai Hamein Apna Hunar Maloom Hai

Jis Taraf Bhi Chal Padenge Raasta Ho Jayega – Bashir Badr

 

Hunar Shayari In Hindi | हुनर शायरी

 

मिरी निगाह को ऐ काश ये हुनर आए
मैं आँख बंद करूँ और वो नज़र आए – रहमान मुसव्विर

 

Meri Nigaah Ko Ae Kash Ye Hunar Aaye

Mai Aankh Band Karun Aur Wo Nazar Aaye – Rehmaan Musavvir

 

कुछ इस तरह से दिखाता है वो हुनर अपना
कि जैसे सब को यहाँ बे-हुनर समझता है – अतुल अजनबी

 

Kuch Is Tarah Se Dikhata Hai Wo Hunar Apana

Ki Jaise Sabko Yagan Be-Hunar Samajhata Hu – Atul Ajanabi

 

Hunar Shayari In Hindi | हुनर शायरी

 

सजाया उस ने हुनर से जो अपनी ग़ज़लों को
सुना है लोग अब उस के हुनर को देखते हैं – इमाम अज़म

 

Sajaya Usne Hunar Se Jo Apni Ghazalon Ko

Suna Hai Log Ab Us Ke Hunar Ko Dekhte Hai – Imaam Azam

 

ये हुनर भी बड़ा ज़रूरी है
कितना झुक कर किसे सलाम करो – हफ़ीज़ मेरठी

 

Ye Hunar Bhi Bada Zaroori Hai

Kitna Jhuk Kar Kise Salaam Karo – Hafeez Merathi

 

Hunar Shayari In Hindi | हुनर शायरी

 

ज़ब्त करने से हुनर और निखर जाता है
प्यार हद से जो गुज़रता है बिखर जाता है – शकील मोईन

 

Zabt Karne Se Hunar Aur Nikhar Jaata Hai

Pyaar Had Se Guzarata Hai Toh Bikhar Jaata Hai – Shakeel Moeen

 

जाने उस शख़्स को ये कैसा हुनर आता है
रात होती है तो आँखों में उतर आता है – सलीम फ़ौज़

 

Jaane Us Shakshs Ko Ye Kaisa Hunar Aata Hai

Raat Hoti Hai Toh Aankho Me Utar Aata Hai – Saleem Fauj

 

Hunar Shayari In Hindi | हुनर शायरी

 

ज़ाहिर मुसाफ़िरों का हुनर हो नहीं रहा
चल भी रहे हैं और सफ़र हो नहीं रहा – गुलज़ार बुख़ारी

 

Zaahir Musafiron Ka Hunar Ho Nahi Raha

Chal Bhi Rahe Hai Aur Safar Ho Nahi Raha – Gulzar Bukhari

 

खुद को मनवाने का मुझको भी हुनर आता है,
मैं वह कतरा हूँ समन्दर मेरे घर आता हैं. – वसीम बरेलवी

 

Khud Ko Manwaane Ka Mujhko Bhi Hunar Aata Hai

Mai Wah Katra Hu Samandar Mere Ghar Aata Hai – Waseem Barelavi

 

Hunar Shayari In Hindi | हुनर शायरी

 

एक रास्ता ये भी है मंजिलों को पाने का,
सीख लो तुम भी हुनर हाँ में हाँ मिलाने का

 

Ek Raasta Ye Bhi Hai Manzil Paane Ka

Seelh Lo Tum Bhi Hunar Ha Me Ha Milaane Ka

 

जिनके आँगन में अमीरी का शज़र लगता है,
उन का हर ऐब भी जमाने को हुनर लगता हैं. – अंजुम रहबर

 

Jinke Aangan Me Ameeri Ka Shajar Lagta Hai

Unka Har Aib Bhi Zamane Ko Hunar Lagta Hai – Anjum Rahbar

 

हुनर से जाए किसी के न फ़न से जाता है
लहू का दाग़ कहीं पैरहन से जाता है – ग़ुलाम मुस्तफ़ा फ़राज़

 

Hunar Se Jaaye Kisi Ke N Fan Se Jaata Hai

Lahu Ka Dagh Kahin Pairhan Se Jaata Hai – Gulaam Mustafa Faraz

 

क़दमों को ठहरने का हुनर ही नहीं आया
सब मंज़िलें सर हो गईं घर ही नहीं आया – अरशद अब्दुल हमीद

 

Kadmon Ko Theharne Ka Hunar Hi Nahi Aaya

Sab Manjilein Sar Ho Gayi Ghar Hi Nahi Aaya – Arshad Abdul Hameed

 

ग़ज़लों का हुनर अपनी आँखों को सिखाएँगे
रोएँगे बहुत लेकिन आँसू नहीं आएँगे – बशीर बद्र

 

Ghazalon Ka Hunar Apni Aankhon Ko Sikhayenge

Royenge Bahut Lekin Aansu Nahi Aayenge – Bashir Badr

 

सुलूक देख लिया बे-हुनर हवाओं का
हर एक शाख़ है मंज़र उदास राहों का – मरग़ूब अली

 

Sulook Dekh Liya Be-Hunar Hawao Ka

Har Ek Shaakh Hai Manjar Udaas Raahon Ka – Margoob Ali

 

Hunar Shayari In Hindi | हुनर शायरी

 

डूबने वालो हवाओं का हुनर कैसा लगा
ये किनारा ये समुंदर ये भँवर कैसा लगा – क़ैसर-उल जाफ़री

 

Doobne Waalon Hawao Ka Hunar Kaisa Laga

Ye Kinaara Ye Samundar Ye Bhawar Kaisa Laga – Kaisar-Ul-Zafari

 

नहीं मा’लूम जीने का हुनर कैसा रखा है
हमें हालात ने जैसे रखा ज़िंदा रखा है – सादिया सफ़दर सादी

 

Nahi Maloom Jeene Ka Hunar Kaisa Rakha Hai

Hamein Halaat Ne Jaise Zinda Rakha Hai – Saadiya Safdar Saadi

 

इक हुनर है जो कर गया हूँ मैं
सब के दिल से उतर गया हूँ मैं – जौन एलिया

 

Ik Hunar Hai Jo Kar Gaya Hu Mai

Sab Ke Dil Se Utar Gaya Hu Mai – John Elia

 

हुनर नहीं जो हवाओं के पर कतरने का
रहेगा ख़ौफ़ हमेशा ही बुझ के मरने का – दिनेश कुमार

 

Hunar Nahi Jo Hawao Ke Par Katarne Ka

Rahega Khauf Hamesha Hi Bujh Ke Marne Ka – Dinesh Kumar

 


Read More –