Hath Shayari In Hindi | हाथ पर शायरी

Hath Shayari In Hindi | हाथ पर शायरी

ज़रा ये हाथ मेरे हाथ में दो
मैं अपनी दोस्ती से थक चुका हूँ – नोमान शौक़

 

Zara Ye Mere Hath Me De Do
Mai Apni Dosti Se Thak Chuka Hu – Noman Shauk

 

डाली से बिछड़ा इक पत्ता हाथ लगा
मौसम की रंजिश का क़िस्सा हाथ लगा – आनंद बहादुर

 

Daali Se Bichara Ik Patta Hath Laga
Mausam Ki Ranjish Ka Kissa Hath Laga – Anand Bahadur

 

नफरत में खुद को यूँ जलाया ना करो,
दिल ना मिले तो हाथ मिलाया करो

 

Nafrat Me Khud Ko Yun Jalaya N Karo
Dil Na Mile Toh Hath Milaya Karo

 

हाथ काँटों से कर लिए ज़ख़्मी
फूल बालों में इक सजाने को – अदा जाफ़री

 

Hath Kanto Se Kar Liye Zakhmi
Phool Baalon Me Ik Sajane Ko – Ada Zafari

 

उल्टी इक हाथ से नक़ाब उन की
एक से अपने दिल को थाम लिया – जलील मानिकपूरी

 

Ulti Ik Hath Se Nakaab Un Ki
Ek Se Apne Dil Ko Thaam Liya – Jaleel Manikpuri

 

बढ़ा जो हाथ तो दीवार बीच में आई
उठी निगाह तो मीनार बीच में आई – ओम प्रभाकर

 

Badha Jo Hath Toh Deewar Beech Me Aayi
Uthi Nigaah Toh Meenar Beech Me Aayi – Om  prabhakar

 

बात करनी थी, बात कौन करे

दर्द से दो-दो हाथ कौन करे

 

Baat Karni Thi Baat Kaun Kare

Dard Se Do- Do Hath Kaun Kare

 

ख़त उस के अपने हाथ का आता नहीं कोई
क्या हादसा हुआ है बताता नहीं कोई – अज़हर इनायती

 

Khat Uske Apne Hath Ka Aata Nahi Koi
Kya Haadsa Hua Hai Batata Nahi Koi – Azahar Inayati

 

सौ हाथ उठे कर्ब की ख़ुश्बू को चुराने

क्या ज़ख़्म लगाए हैं मिरे तन पे हवा ने – अफ़ज़ल मिनहास

 

Sau Hath Uthe Karb Ki Khusbu Churane Ko

Kya Zakhm Lagaye Hai Mere Tan Pe Hawa Ne – Afzal Minhaas

 

होंठों  पे आज उनका नाम आ गया,

प्यासे के हाथ में आज जाम आ गया,

 

Honthon Pe Aaj Unka Naam Aa Gaya

Pyaase Ke Hath Me Aaj Zaam Aa Gaya

 

चराग़ हाथ में था तीर भी कमान में था
मैं फिर भी हार गई तू जो दरमियान में था – हुमैरा राहत

 

Charaag Hath Me Tha Teer Bhi Kamaan Me Tha
Mai Phir Bhi Haar Gaya Tu Jo Darmiyaan Me Tha – Humaira Rahat

 


Read More –