Hamesha Der Kar Deta Hoon Mai – Muneer Niyaazi

 

 Hamesha Der Kar Deta Hoon Mai – Muneer Niyaazi

 

हमेशा देर कर देता हूँ मैं ……

 

 

हमेशा देर कर देता हूँ मैं हर काम करने में
ज़रूरी बात कहनी हो कोई वा’दा निभाना हो
उसे आवाज़ देनी हो उसे वापस बुलाना हो
हमेशा देर कर देता हूँ मैं ……

मदद करनी हो उस की यार की ढाढ़स बंधाना हो
बहुत देरीना रस्तों पर किसी से मिलने जाना हो
हमेशा देर कर देता हूँ मैं …….

बदलते मौसमों की सैर में दिल को लगाना हो
किसी को याद रखना हो किसी को भूल जाना हो
हमेशा देर कर देता हूँ मैं……

 

किसी को मौत से पहले किसी ग़म से बचाना हो
हक़ीक़त और थी कुछ उस को जा के ये बताना हो
हमेशा देर कर देता हूँ मैं हर काम करने में….

 

 

 

Hamesha Der Kar Deta Hoon Mai
Har Kaam karne Me
Zaroori Baat Kehni Ho Koi Waada Nibhana Ho
Use Awaaz Deni Ho Use Wapas Bulana Ho
Hamesha………

 

Madad Karni Ho Uski Us Yaar Ki
Dhadas Bandhana Ho
Bahut Derinaa Rasto Par Kisi Se Milne Jaana Ho
Hamesha………..

 

Badlte Mausam Ki Sair Me Dil Ko Lagaana Ho
Kisi Ko Yaad Rakhna Ho Kisi Ko Bhool Jaana Ho
Hamesha……………

 

Kisi Ko Maut Se Pehle Kisi Gum Se Bachana Ho
Haqiqat Aur Thi Kuch Us Jaake Ye Batana Ho
Hamesha Der Kar Deta Hoon Mai Har Kaam Karne Me…

The Best Platform For reading all ghazals of Mumeer Niyaazi now click on- Rekhta.org

 


Read More –