Guroor Shayari In Hindi | गुरूर शायरी

Guroor Shayari In Hindi | गुरूर शायरी

Guroor Shayari In Hindi | गुरूर शायरी

 

Guroor Shayari In Hindi | गुरूर शायरी

 

हुस्न तेरा ग़ुरूर मेरा था
सच तो ये है क़ुसूर मेरा था – आमिर अमीर

 

Husn Tera Mera Guroor Tha

Sach Toh Ye Hai Kusoor Mera Tha – Aamir Ameer

 

उसे मना कर ग़ुरूर उस का बढ़ा न देना
वो सामने आए भी तो उस को सदा न देना – क़तील शिफ़ाई

 

Use Mana Kar Guroor Us Ka Badha N Dena

Wo Saamane Aaye Bhi Toh Us Ko Sada N Dena – Qateel Shifaai

 

बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ – राहत इंदौरी

 

Bahut Guroor Hai Dariya Ko Apne Hone Par

Jo Meri Pyaas Se Ulajhe Toh Dhajjiyaan Ud Jaaye – Rahat Indori

 

Ghamand Shayari in Hindi

 

चलो न सर को उठा कर ग़ुरूर से अपना
गिरा है जो भी बुलंदी से ढाल तक पहुँचा – ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र

 

Chalo N Sar Ko Utha Kar Guroor Se Apna

Gira Hai Jo Bhi Bulandi Se Dhaal Tak Pahucha – Zafar Iqbal Zafar

 

Guroor Shayari In Hindi | गुरूर शायरी

 

शोहरत की बुलंदी भी पल भर का तमाशा है
जिस डाल पे बैठे हो वो टूट भी सकती है– बशीर बद्र

 

Shoharat Ki Bulandi Bhi Pal Bhar Ka Tamasha Hai

Ji Daal Pe Baithe Ho Wo Toot Bhi Sakati Hai – Bashir Badr

 

उन को बहुत ग़ुरूर था अपनी जफ़ाओं पर
हम भी वहीं अड़े रहे अपनी वफ़ा के साथ – ग़ौसिया ख़ान सबीन

 

Unko Bahut Guroor Tha Apni Zafaon Par

Hum Bhi Wahi Ade Rahi Apni Wafa Ke Sath – Gausiya Khan Sabeen

 

मैं चाहता भी जो मिलना तो उन से क्या मिलता
जबीं पे दूर से देखा ग़ुरूर लिक्खा था – फ़सीहुल्ला नक़ीब

 

Mai Chahat Bhi Jo Milna Toh Un Se Kya Milta

Zabeen Pe Door Se Dekha Guroor Likkha Tha – Fasihulla Nakeeb

 

Guroor Shayari In Hindi | गुरूर शायरी

 

वो दौर मेरी उम्र का था यादगार दौर
जिस में कि तेरे हुस्न पे मुझ को ग़ुरूर था – मिर्ज़ा अल्ताफ़ हुसैन आलिम लखनवी

 

Wo Daur Meri Umr Ka Tha Yaadgaar Daur

Jis Me Ki Tere Husn Pe Mujhko Guroor Tha – Mirza Altaaf Husain Aalim Lakhanavi

 

Guroor Shayari In Hindi | गुरूर शायरी

 

तुझ को बिठा के दूर से देखा करेंगे हम
यूँ भी तिरे ग़ुरूर से खेला करेंगे हम – क़मर जलालाबादी

 

Tujhko Bithake Door Se Dekha Karenge Hum

Yun Bhi Tere Guroor Se Khela Karenge Hum – Qamar Jalalpuri

 

Guroor Shayari In Hindi | गुरूर शायरी

 

सँभल के चलने का सारा ग़ुरूर टूट गया
इक ऐसी बात कही उस ने लड़खड़ाते हुए – अज़हर इनायती

 

Sambhal Ke Chalne Ka Saara Guroor Toot Gaya

Ik Aisi Baat Kahi Usne Ladkhate Hue – Azahar Inayati

 


Read More –