Gum Ke Sehraaon Me – Qateel Shifai

Gum Ke Sehraaon Me – Qateel Shifai

गम के सहराओ में

 

गम के सहराओ में घनघोर घटा सा भी था
वो दिलावर जो कई रोज़ का प्यासा भी था

 

ज़िन्दगी उसने ख़रीदी न उसूलो के एवज़
क्योकि वो शख्श मुहम्मद का निवासा भी था

 

अपने ज़ख्मो का हमें बक्श रहा था वो सवाब
उसकी हर आह का अन्दाज़ दुआ-सा भी था

 

सिर्फ तीरो ही कि आती हुई बौछार न थी
उसको हासील गम-ए-ज़ारा का दिलासा भी था

 

जब गया वो बन के सवाली वो हुसूर-ए-यज़दा
सरे अकदस के लिए हाथ में प्यासा भी था

 

उसने बोए दिल-ए-हर-ज़र्रा में अज़मत के गुलाब
रेगज़ार उसके लहू से चमन आसा भी था

 

मैं तही रस्त न था हश्र के मैदान में ‘क़तील’
चन्द अश्को का मेरे पास इफासा भी था

 

Gum Ke Sehraao Me

 

 

Gum Ke Sehraao Me Ghanghor Ghata Sa Bhi Tha
Wo Dilawar Jo Kai Roz Ka Pyaasa Bhi Tha

 

Zindgi Usne Kharidi N Usulo Ke Awaj
Kyoki Wo Shakhsh Muhammad Ka Niwaasa Bhi Tha

 

Apne Zakhmo Ka Hme Baks Raha Tha Wo Sawaab
Uski Har Aah Ka Andaaz Dua Sa Bhi Tha

 

Sirf Teero Hi Ki Aati Hui Bauchhar N Thi
Usko Haasil Gum-E-Zaara Ka Dilasa Bhi Tha

 

Jab Gaya Wo Ban Ke Sawaali Wo Husoor-E-Yazda
Sre Aksad Ke Liye Hath Me Pyaasa Bhi Tha

 

Usne Boe-E-Har-Zarra Me Azmat Ke Gulaab
Rrgzaar Uske Lahu Se Chaman Aasa Bhi Tha

 

Mai Tahi Rast N Tha Hashr Ke Maidaan Me “Kateel”
Chand Ashqo Ka Mere Pass Ifaasa Bhi Tha

 


Read More –