Gulshan Shayari In Hindi | गुलशन शायरी

Gulshan Shayari In Hindi | गुलशन शायरी

 

ये कौन आया है गुलशन में ताज़गी ले कर
चमन में फूल बहारों से बात करते हैं – अफ़ज़ल इलाहाबादी

 

Ye Kaun Aaya Hai Gulshan Me Tajagi Lekar

Chaman Me Phool Baharon Se Baat Karte Hai – Afzal Allahabdi

 

गुलशन को बहारों ने इस तरह नवाज़ा है
हर शाख़ के काँधे पर कलियों का जनाज़ा है – साग़र आज़मी

 

Gulshan Ko Baharon Ne Is Tarah Nawaja Hai

Har Saakh Ke Kaandhe Par Kaliyon Ka Janaja Hai – Sagar Azami

 

आज गुलशन में ये अफ़्वाह उड़ा दी जाए
ज़िंदगी की सभी ख़ुशियों को हवा दी जाए – क़ासिम नियाज़ी

 

Aaj Gulshan Me Ye Afwaah Uda Di Jaaye

Zindagi Ki Sabhi Khusiyon Ko Hawa Di Jaaye – Kaasim Niyaazi

 

नज़्म-ए-गुलशन में इक अंदाज़ नया रखते हैं
या’नी हम फूलों को काँटों से मिला रखते हैं – मोईनुद्दीन शम्सी

 

Nazm-e-Gulshan Me Ik Andaaz Naya Rakhte Hai

Yaani Hum Phoolon Ko Kaanton Se Mila Rakhte Hai – Moinuddin Shamsi

 

जवाँ जिस दिन से ये गुलशन हुआ है
जिसे देखो वही दुश्मन हुआ है – जितेन्द्र तिवारी

 

Jawan Jis Din Se Ye Gulshan Hua Hai

Jise Dekho Wahi Dushman Huwa Hai – Jitendra Tiwari

 

गुलशन से कोई फूल मयस्सर न जब हुआ
तितली ने राखी बाँध दी काँटे की नोक पर

 

Gulshan Se Koi Phool Mayassar N Jab Hua

Titali Ne Raakhi Baandh Di Kaante Ki Nok Par

 

नसीम-ए-सुब्ह गुलशन में गुलों से खेलती होगी
किसी की आख़िरी हिचकी किसी की दिल-लगी होगी – सीमाब अकबराबादी

 

Naseem-e-Subah Gulshan Me Gulon Se Khelati Hogi

Kisi Ki Aakhiri Hichaki Kisi Ki Dil-Lagi Hogi – Seemaab Akbarabadi

 

बहार आने पे गुलशन में अजब ये माजरा होगा
कोई दामन गुलों से कोई काँटों से भरा होगा – सहर प्रेमी

 

Bahaar Aane Pe Gulshan Me Ajab Ye Majara Hoga

Koi Daman Gulon Se Koi Kaanto Se Bhara Hoga – Sahar Premi

 

हम जो गुलशन में थे बहार न थी
जब बहार आई आशियाँ न रहा – कलीम आजिज़

 

Hum Jo Gulshan Me The Bahaar N Thi

Jab Bahaar Aayi Aashiyaan N Raha – Kaleem Aziz

 

गुलों में रंग भरे बाद-ए-नौ-बहार चले
चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

 

Gulon Me Rang Bhare Baad-e-Nau Bahaar Chale

Chale Bhi Aao Ki Gulshan Ka Karobaar Chale – Faiz Ahmad Faiz

 

हजारो फूल है गुलशन मे मगर,
खूशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो

 

Hazaron Phool Hai Gulshan Me magar

Khusbu Wahi Tak Hai Jahan Tak Tum Ho

 


Read More –